चौथी मंजिल से बच्चे को बचाकर शरणार्थी बना फ्रांस का हीरो

2018-05-28T05:22:31+05:30

फ्रांस में रहने वाले एक शरणार्थी युवक ने अपनी जान पर खेलकर चौथी मंजिल पर लटके छोटे बच्चे की जान बचाई। इस बहादुरी से खुश होकर राष्ट्रपति मैक्रों ने फ्रांस की नागरिकता देने का एलान किया है।

राष्ट्रपति ने नागरिकता देने का किया एलान
पेरिस (एएफपी)। फ्रांस में रहने वाले एक शरणार्थी युवक ने रविवार को अपनी जान पर खेलकर चौथी मंजिल से लटके चार साल के बच्चे की जान बचाई। माली से आए 22 साल के मामाउदोउ गसामा (22) की बहादुरी से खुश होकर राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने सोमवार को उसे फ्रांस की नागरिकता देने का एलान कर दिया है। बता दें कि गसामा रविवार को राजधानी की एक बिल्डिंग के पास से गुजर रहे थे। तभी उन्होंने सड़क पर भीड़ देखी और वहीं रुक गए। फिर उन्होंने वहां देखा कि एक चार साल का बच्चा चौथी मंजिल की बालकनी से लटक रहा है।
लोग बोले स्पाइडर मैन
इसके बाद गसामा ने अपनी जान की परवाह किये बिना तुरंत उस बच्चे को बचाने के लिए फ़िल्मी हीरो की तरह इमारत पर चढ़ गए और बच्चे को बचा लिया। गसामा की इस बहादुरी को देखकर वहां खड़े लोगों ने तालियां बजाईं और उन्हें असली स्पाइडर मैन बताकर उनके नाम का नारा लगाया। इसी बहादरी से प्रभावित होकर राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने सोमवार को उन्हें सम्मानित किया और फ्रांस की नागरिकता देने का एलान कर दिया। गसामा ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, 'भगवान का शुक्र है कि मैं यह कर पाया।'
नहीं थे बच्चे के माता पिता
बता दें कि बच्चे को बचाने के लिए इमारत पर चढ़ रहे गसामा का वीडियो वायरल हो गया। वीडियो को देखने के बाद राष्ट्रपति मैक्रों ने उन्हें धन्यवाद देने के लिए राष्ट्रपति भवन बुलाया। पेरिस की मेयर एनी हिदाल्गो ने भी अभूतपूर्व साहस और बच्चे की जान बचाने के लिए अपना जीवन दांव पर लगाने के लिए गसामा को धन्यवाद दिया। मेयर ने ट्वीट किया, गसामा का यह काम हर नागरिक के लिए उदाहरण है। अधिकारियों के मुताबिक, जिस समय बच्चे के साथ यह घटना हुई, उसके माता-पिता घर में मौजूद नहीं थे। फिलहाल बच्चे के पिता से पुलिस उनके गैर मौजूदगी को लेकर पूछताछ कर रही है। इसके अलावा मिली जानकारी के मुताबिक, बच्चे की मां इस वक्त किसी कारण से पेरिस से बाहर हैं।

उत्तर कोरिया ने अमेरिकी उप राष्ट्रपति को कहा नासमझ और बेवकूफ

ट्रंप ने दिया संकेत अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच फिर होगी वार्ता, दक्षिण कोरिया ने किया इस विचार का स्वागत


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.