मानव तस्करों पर लगाम लगाने में सिस्टम फेल

2019-02-12T06:00:01+05:30

RANCHI:झारखंड के आदिवासी बहुल इलाकों से मानव तस्करी कर देश के अलग- अलग महानगरों में ले जाने का सिलसिला बढ़ता ही जा रहा है। सीआईडी की लिस्ट के अनुसार, मानव तस्करी के इस धंधे के 35 किंगपिन हैं, जो झारखंड से बच्चों और लड़कियों की सप्लाई करते हैं। लेकिन अब तक इनमें से कुछ आरोपियों की ही गिरफ्तारी हो सकी है। अधिकतर अब भी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं। ये किंगपिन प्लेसमेंट एजेंसियों के जरिए मानव तस्करी कर रहे हैं। इन एजेंसियों के लोग दिल्ली से झारखंड तक फैले हैं। दिल्ली और झारखंड में करीब 400 गैंग सक्रिय होकर छोटे बच्चों, बच्चियों की तस्करी कर रहे हैं। झारखंड से हर साल 30 से 35 हजार लड़कियां दिल्ली या फिर अन्य महानगरों में ले जाई जा रही हैं, जिनका आर्थिक, मानसिक और शारीरिक शोषण हो रहा है.

5000 लड़कियों का किया सौदा

झारखंड की 5000 लड़कियों का सौदा कर 15 साल में 80 करोड़ का मालिक बन चुका मानव तस्करी का किंगपिन पन्ना लाल महतो उर्फ पन्ना गंझू की संपत्ति जब्त करने की तैयारी भी अधर में लटकी है। पुलिस मुख्यालय ने उसकी संपत्ति व उसके सहयोगियों का ब्योरा तैयार कर लिया है। अब इसकी अनुशंसा प्रवर्तन निदेशालय से की जा रही है, ताकि समय रहते मनी लाउंड्रिंग एक्ट में मामला दर्ज कर पन्ना की संपत्ति जब्ती की कार्रवाई की जा सके.

पन्नालाल की संपत्ति

खूंटी टोली माहिल रोड में 1.27 एकड़ जमीन, फूदी में 2.54 एकड़, अरगोड़ा बस्ती में 35 डिसमिल, अरगोड़ा- पुंदाग रोड पर 80 डिसमिल, अरगोड़ा हाउसिंग कॉलोनी में 1237 वर्गफीट, रांची- खूंटी पथ पर हुटार में 5.12 एकड़, दिल्ली में 50 गज जमीन है। वहीं, छह बैंकों में खाते, फ ॉर्चूनर व आइ.10 कार भी उसकी संपत्ति में शामिल है.

मेट्रो सिटी में बेचते हैं

तस्कर झारखंड, ओडि़शा के सुदूरवर्ती इलाकों की लड़कियों का खुद व दलालों के माध्यम से मुंबई, पंजाब, हरियाणा, फरीदाबाद, नोएडा, गाजियाबाद, चंडीगढ़, जयपुर, लखनऊ, कानपुर, पटना, बेंगलुरु, दिल्ली, हैदराबाद, गोवा समेत देश के बाहर भी घरेलू काम, बंधुआ मजदूरी, कारखाना में मजदूरी व वेश्यावृत्ति के लिए बेचते हैं.

पन्ना की इन एजेंसी से साठगांठ

बिरसा भगवान ट्रायबल वेलफेयर शकूरपुर, नियर ब्रिटानिया चौक, दिल्ली। गायत्री इंटरप्राइजेज, बी.180ए शकूरपुर, नजदीक सम्राट सिनेमा, दिल्ली। लक्ष्मी प्लेसमेंट सर्विस, शकूरपुर। नियर ब्रिटानिया चौक, दिल्ली.

दीया सेवा संस्थान की हेल्प से बनाई लिस्ट

सीआईडी ने एनजीओ दीया सेवा संस्थान के सहयोग से 240 प्लेसमेंट एजेंसियों की सूची तैयार की है। ये एजेंसियां दलालों के माध्यम से राज्य से गरीब लड़कियों को नौकरी देने का झांसा देकर बड़े शहरों में बेच देती हैं.

वर्जन

कई मानव तस्कर गिरफ्तार किए गए हैं। फरार लोगों की गिरफ्तारी के लिए प्रयास किया जा रहा है। मानव व्यापार में लगीं प्लेसमेंट एजेंसियों पर भी कार्रवाई की जा रही है.

रेजी डुंगडुंग, एडीजी सीआईडी

inextlive from Ranchi News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.