सचिन ने आज ही उस खिलाड़ी के साथ खेला था इकलौता मैच जो तोड़ता था फील्डरों की हड्डियां

2019-02-22T09:01:40+05:30

क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर के लिए 22 फरवरी का दिन कभी नहीं भूलने वाला है। यह वो दिन था जब सचिन ने इंग्लैंड के महान खिलाड़ी इयान बाॅथम के साथ पहला और आखिरी इंटरनेशनल मैच खेला।

कानपुर। विश्व क्रिकेट में कई लीजेंड्री क्रिकेटर हुए मगर उन सभी ने एक साथ क्रिकेट खेला हो ऐसा संभवतः बहुत कम देखने को मिलता है। ऐसा ही एक दुर्लभ मैच आज से 27 साल पहले पर्थ में खेला गया था जिसमें दुनिया के दो धुरंधर एक साथ मैदान में उतरे। ये दो क्रिकेट सचिन तेंदुलकर और इयान बाॅथम थे। इन दोनों ने सिर्फ यही एक मैच एक-दूसरे के खिलाफ खेला। यह वो वक्त था जब सचिन तेंदुलकर का क्रिकेट ग्राॅफ चढ़ रहा था तो बाॅथम का करियर ढलान पर आ चुका था। मगर दोनों दिग्गजों के बीच ये इकलौती भिड़ंत वाकई रोचक रही।
सचिन बनाम बाॅथम का इकलौता मैच
साल 1992 की बात है, वर्ल्ड कप का दूसरा मैच पर्थ में भारत बनाम इंग्लैंड के बीच खेला गया। इंग्लिश कप्तान ग्राहम गूच ने टाॅस जीतकर पहले बैटिंग का निर्णय लिया। इंग्लैंड ने निर्धारित 50 ओवर के नुकसान पर 236 रन बनाए। अब भारत को जीत के लिए 237 रनों की जरूरत थी। भारत की तरफ से रवि शास्त्री और के श्रीकांत ओपनिंग करने आए। शास्त्री ने 57 रन बनाए वहीं श्रीकांत 39 रन बनाकर आउट हुए। तीसरे नंबर पर क्रीज पर आए कप्तान अजहर पहली ही गेंद पर आउट हो गए। अब बारी थी युवा सचिन तेंदुलकर की। 19 साल के सचिन मैदान में बैटिंग करने आए और सामने थे 36 साल के इंग्लिश तेज गेंदबाज इयाॅन बाॅथम। सचिन ने बाॅथम की कई गेंदों पर पिटाई की मगर आखिर में जीत बाॅथम की हुई जिन्होंने 35 रन पर तेंदुलकर को चलता किया। हालांकि भारत यह मैच 9 रन से हार गया था मगर सचिन-बाॅथम का मुकाबला इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया क्योंकि फिर कभी ये दिग्गज इंटरनेशनल क्रिकेट में एक-दूसरे के खिलाफ नहीं खेले।
इंग्लैंड के सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर रहे बाॅथम
बताते चलें कि पूर्व इंग्लिश क्रिकेटर इयान बाॅथम काफी महान खिलाड़ियों में शुमार रहे हैं। 1992 वर्ल्ड कप के कुछ महीनों बाद ही उन्होंने क्रिकेट से संन्यास ले लिया। 63 साल के हो चुके इयान बाॅथम इंग्लिश क्रिकेट टीम के सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर माने जाते हैं। न सिर्फ गेंदबाजी बल्कि बल्लेबाजी में भी बाॅथम का कोई जवाब नहीं था। टेस्ट में 5,000 से ज्यादा रन और 383 विकेट अपने नाम करने वाले बाॅथम का वो मैच कभी नहीं भुलाया जा सकता जो उन्होंने 1982 में भारत के खिलाफ खेला था। इस मैच में बाॅथम ने न सिर्फ अपने टेस्ट करियर की सबसे तेज पारी खेली बल्कि फील्डर के पैर की हड्डी भी तोड़ दी। द गार्जियन की एक रिपोर्ट में इस बात का जिक्र किया गया था कि शास्त्री की गेंद पर बॉथम ने ऐसा शॉट मारा कि बॉल सीधे गावस्कर के बाएं पैर में जा लगी। यह शॉट इतना जोरदार था कि लिटिल मास्टर वहीं जमीन पर गिर गए। उन्हें फिर स्ट्रेचर से मैदान के बाहर ले जाया गया। जांच में पता चला उनके पैर की हड्डी टूट गई है। फिर क्या गावस्कर के पैर में प्लॉस्टर चढ़ा और वह पूरे मैच के लिए बाहर हो गए।

सबसे ऊंचा कैच लेकर इस क्रिकेटर ने बनाया गिनीज वर्ल्ड रिकाॅर्ड, आसमान से फेंकी गई थी बाॅल


वर्ल्ड कप : भारत-पाक मैच देखने के लिए 4 लाख लोग लाइन में, स्टेडियम में सीटें सिर्फ 25 हजार


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.