हास्टल से आईएएस नहीं निकल रहे ईनामिया

2019-04-20T06:00:53+05:30

हाल ही में आया है सिविल सर्विसेस का रिजल्ट, इसमें इविवि से एक भी नाम नहीं है शामिल

vikash.gupta@inext.co.in

PRAYAGRAJ: देश के सबसे जिम्मेदार पदों पर नियुक्ति की जिम्मेदारी संभालने वाली यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन के 2018 के फाइनल रिजल्ट से इलाहाबाद का नाम गायब होना यूं ही नहीं है। इलाहाबाद में तैयारी के लिए आने वाले छात्रों को पढ़ाई से ज्यादा जरायम जगत पसंद आ रहा है। इलाहाबाद यूनिवर्सिटी की साख को बड़ा झटका बदले माहौल ने दिया है।

हास्टल में हो रही बमबाजी की पढ़ाई

यूपीएससी के रिजल्ट से सबसे ज्यादा निराश इलाहाबाद यूनिवर्सिटी ने किया। यहां के किसी छात्र का नाम सफलता पाने वालों में नहीं था। विवि के जो मौजूदा हालात हैं, उससे देश की सबसे बड़ी परीक्षा में धमक दिखाने की उम्मीद बेमानी है। इन दिनों हास्टल से आईएएस की जगह गुंडे निकल रहे हैं। हास्टल के भीतर सात महीने में दो हत्याएं हो चुकी हैं। बीएससी प्रथम वर्ष के छात्र तक हास्टल के भीतर अपराधी का तमगा पा चुके हैं। बम गोली चलाना, असलहा खोंसकर चलना छात्रों का शगल बन गया है। पुलिस एक दर्जन से ज्यादा छात्रों पर सात माह में 25 हजार का इनाम घोषित कर चुकी है।

25 हजार इनामी की लिस्ट में शामिल नाम

स्व। अच्युतानंद शुक्ला

पीसीबी हास्टल का पूर्व अन्त:वासी, 2012 में छात्रसंघ उपाध्यक्ष का चुनाव लड़ा, जरायम के पेशे में तेजी से उभरा, अक्टूबर 2018 में हास्टल के भीतर ही हत्या हो गई।

अभिषेक सिंह माइकल

नैनी जेल में बंद है। 2012 में छात्रसंघ महामंत्री पद पर निर्वाचित हुआ। ठेकेदारी, गुंडा टैक्स वसूली समेत अन्य अपराधों में शामिल

अजीत यादव

सीएमपी डिग्री कॉलेज का पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष, अपराध की कई वारदातों में शामिल, बीते समय में प्रदेश के कद्दावर नेता शिवपाल यादव जेल मे मिलने भी पहुंचे।

अभिषेक सिंह सोनू

टाईगर के नाम से चर्चित, इविवि में छात्रसंघ अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ चुका है। पिछले साल जेल से छूटा तो वाहनों का ऐसा काफिला निकाला कि जिले के आला अफसरों के भी कान खड़े हो गए।

आकाश सिंह

ताराचन्द हास्टल में रहता था, साल 2017 में छात्रसंघ चुनाव से पहले हास्टल में बसपा नेता राजेश यादव हत्याकांड का मुख्य आरोपी बना।

सचिन शर्मा उर्फ पंडित

छात्रसंघ चुनाव में उपाध्यक्ष पद का चुनाव लड़ा। पिछले साल छात्रनेता रजनीश सिंह रिशु पर हिन्दू हास्टल के बाहर हमले के बाद गिरफ्तार हुआ।

अनुभव सिंह दरोगा

इविवि का पूर्व छात्र, दिसम्बर 2018 में गिरफ्तार हुआ। इसने सलोरी में भाजपा नेता और पूर्व पार्षद राजू शुक्ला के घर पर बमबाजी की थी।

अविनाश दुबे

विवि का पूर्व छात्रनेता, एसएसएल हास्टल में रहता था। कुलपति के खिलाफ अश्लील चैट वायरल करने के बाद मुकदमा दर्ज हुआ। पिछले दिनो सागर रत्ना रेस्टोरेंट में बमबाजी के बाद नैनी जेल भेजा गया।

15 अप्रैल को पीसीबी हास्टल में रोहित शुक्ला हत्याकांड के बाद घोषित 25 हजार के ईनामी

आदर्श त्रिपाठी

पिछले साल छात्रसंघ चुनाव में अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ा। जीएन झा हास्टल के सामने बन रहे स्टूडेंट एक्टिविटी सेंटर में पैसे के विवाद को लेकर रोहित शुक्ल को मौत के घाट उतारा। फरार चल रहा है।

प्रशांत उपाध्याय

बीएससी प्रथम वर्ष का छात्र, पीसीबी में ही रहता था। पुलिस ने गुरुवार को प्रयाग स्टेशन के पास से गिरफ्तार किया।

अभिषेक यादव उर्फ नवनीत

पीसीबी के कमरा नम्बर 68 में रहता था। फरार चल रहा है। हास्टल से निष्कासित

सौरभ विश्वकर्मा

पीसीबी के कमरा नम्बर 19 में रहता था। फरार चल रहा है। हास्टल से निष्कासित

हरिओम त्रिपाठी एवं हिमांशु सिंह

रोहित शुक्ला हत्याकांड के ये भी आरोपी हैं। दोनो फरार चल रहे हैं। इनकी भी हास्टल में गहरी पैठ थी।

inextlive from Allahabad News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.