बंगाल का असर आज से बिहार के जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर

2019-06-14T11:16:09+05:30

पश्चिम बंगाल के एनआरएस मेडिकल कॉलेज में 10 जून की देर रात मरीज की मौत से डॉक्टरों पर जानलेवा हमले का असर बिहार की स्वास्थ्य सेवा पर भी पड़ सकता है

-इमरजेंसी को छोड़ सभी सेवाएं सुबह नौ से पांच बजे तक रहेगी बाधित

PATNA : पश्चिम बंगाल के एनआरएस मेडिकल कॉलेज में 10 जून की देर रात मरीज की मौत से डॉक्टरों पर जानलेवा हमले का असर बिहार की स्वास्थ्य सेवा पर भी पड़ सकता है। जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन बिहार के समन्वयक डॉ। रवि रंजन कुमार रमण के नेतृत्व में गुरुवार को एनएमसीएच में कई मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों ने बैठक की। बंगाल की घटना के विरोध में बिहार के सभी मेडिकल कॉलेजों में जूनियर डॉक्टर शुक्रवार से हड़ताल पर रहेंगे।

इमरजेंसी में होगा काम

डॉक्टरों के हमलावरों को गिरफ्तार करने तथा मेडिकल प्रोटेक्शन एक्ट के तहत डॉक्टरों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग की गई। जेडीए बिहार के समन्वयक ने बताया कि जूनियर डॉक्टर ओपीडी, आईसीयू एवं वार्ड में सुबह नौ बजे से लेकर शाम पांच बजे तक कोई सेवा नहीं देंगे। इमरजेंसी को हड़ताल से बाहर रखा गया है। यहां जूनियर डॉक्टर पूरी तत्परता दिखाएंगे। हड़ताल में एनएमसीएच, पीएमसीएच, डीएमसीएच, एसकेएमसीएच, जेएलएनएमसीएच, आइजीआइएमएस, वीआइएमएस पावापुरी, एनएमसी सासाराम, जीएमसी बेतिया के सभी जूनियर डॉक्टर, इंटर्न एवं अंडरग्रेजुएट छात्र-छात्राओं के शामिल होने की बात कही गई है।

एम्स में भी हड़ताल आज

संसू, फुलवारीशरीफ : कोलकाता में डॉक्टर पर हमले के विरोध में पटना एम्स के डॉक्टरों ने भी एक दिन की हड़ताल पर रहने का फैसला लिया है। आरडीए के अध्यक्ष डॉ। विनय कुमार ने बताया कि पूरे देश के एम्स के साथ पटना एम्स के भी डॉक्टर भी शुक्रवार को हड़ताल पर रहेंगे। हड़ताल के कारण पटना एम्स का ओपीडी, आइपीडी व रेगुलर ऑपरेशन का कार्य बंद रहेगा। वहीं चिकित्साधीक्षक डॉ। सीएम सिंह ने बताया कि हड़ताल से इमरजेंसी सेवा पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

हेलमेट पहन इलाज करने को हुए मजबूर

एम्स पटना में कोलकाता के डॉक्टर्स पर हुए जानलेवा हमले के विरोध में काला दिवस मनाया। इस प्रोटेस्ट के तहत यहां के सभी डॉक्टरों ने हेलमेट पहनकर विरोध किया। एम्स आरडीए के प्रेसिडेंट डॉ विनय कुमार, सेक्रेटरी डॉ शशांक ने बताया कि डॉक्टरों में भय का वातावरण है। इसलिए सभी हेलमेट पहनकर अपनी ड्यूटी करने को विवश हैं। यदि जल्द ही डॉक्टरों को कार्यस्थल पर सही वातावरण नहीं मिला तो आंदोलन तेज किया जाएगा.उधर, जेडीए बिहार को-आर्डिनेटर डॉ रवि रंजन कुमार रमण ने बताया कि पूरे बिहार में इस जानलेवा घटना के विरोध में जेडीए बिहार ने शुक्रवार को एक दिन का स्ट्राइक का आह्वान किया है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.