Allahabad University Entrance Exam 08 विषय में सीट से कम आए आवेदन

2019-05-14T09:33:51+05:30

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में चल रही प्रवेश प्रक्रिया के तहत ऑनलाइन आवेदन पूरा होने के बाद सामने आया आंकड़ा। 8 विषयों में सीट से कम आवेदन आए

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में न्यू एकेडमिक सेशन 2019-20 के लिए भले ही रिकॉर्ड संख्या में आवेदन आए हों। लेकिन इविवि में आठ कोर्स ऐसे हैं। जिसमें सीटों से कम आवेदन आए हैं। इनमें दो कोर्स इंस्टीट्यूट ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज के हैं। इसके अलावा बाकी छह प्रोफेशनल कोर्स पीजीएटी-02 के हैं। सीटों से कम आवेदन होने के कारण इनमें प्रवेश के लिए अब परीक्षा नहीं होगी। वहीं एक अन्य पाठ्यक्रम में पीएचडी के लिए भी सीटों से कम आवेदन आए हैं। लेकिन यूजीसी के नियमों के तहत इसमें प्रवेश के लिए अभ्यर्थियों को परीक्षा देनी होगी।

दिव्यांग कोटे में आए हैं 858 ऑनलाइन आवेदन
उधर, इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में सभी प्रवेश परीक्षाओं के लिए कुल 1,14,940 ऑनलाइन आवेदन आए हैं। इनमें दिव्यांग कोटे में भी 858 आवेदन हुए हैं। जिसमें कम्बाइंड रिसर्च एंट्रेंस टेस्ट में 174, आईपीएस में 04, एलएलबी ऑनर्स एवं बीएएलएलबी ऑनर्स में 115, पीजीएटी वन एंड पीजीएटी टू में 263 तथा अंडर ग्रेजुएट एप्टीट्यूड टेस्ट में दिव्यांग कोटे में 302 ऑनलाइन आवेदन जमा किए गए हैं।

इविवि की प्रवेश परीक्षा में आठ विषय ऐसे हैं। जिनमें सीटों की कुल संख्या से कम आवेदन आए हैं। जिसके चलते इन कोर्सेस में प्रवेश के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन नहीं किया जाएगा और छात्रों को मेरिट के क्रम में प्रवेश दे दिया जाएगा।
(प्रोफेसर मनमोहन कृष्ण, डायरेक्टर एडमिशन प्रवेश भवन इलाहाबाद यूनिवर्सिटी)

नोट: टेबल में लगाएं

कोर्स आवेदन सीटें

एमवोक इन फैशन डिजाइन एंड टेक्नोलॉजी- 17, 40

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन कंप्यूटर एप्लीकेशन- 51, 60

एमए इन फिल्म थियेटर- 6, 11

एमए इन वूमेन स्टडीज- 15, 18

एमएससी इन बायोइंफॉर्मेटिक्स- 15, 22

एमएससी इन डिजाइन एंड इनोवेशन इन रूरल टेक्नोलॉजी- 4, 17

एमएससी इन मैटेरियल साइंस- 5, 17

मास्टर इन डेवलपमेंट स्टडीज- 16, 22

 

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.