भारत में 20 प्रतिशत बढ़े अमीर गरीबों की संख्या जस की तस

2018-06-20T06:20:14+05:30

एक रिपोर्ट की मानें तो देश में अमीरों की संख्या 20 प्रतिशत तक बढ़ी है। उनकी कुल संपत्ति में भी बेतहाशा बढ़ोतरी हुर्इ है। गरीबों की स्थिति जस की तस बनी रहने से सरकारों की नीतियां सवालों के घेरे में है।

कुल संपत्ति 21 प्रतिशत बढ़कर एक लाख करोड़ डॉलर पर पहुंच गई
मुंबई (पीटीआई)।
भारत में बीते साल अति अमीरों की संख्या में 20 प्रतिशत की वृद्धि हुई। इस दौरान इनकी संपत्ति में भी जबर्दस्त उछाल आया। अति अमीरों की तादाद बढ़ने के मामले में भारत सबसे तेज उभरती अर्थव्यवस्था बन गया है। फ्रांसीसी टेक फर्म केपजेमिनी की रिपोर्ट में यह बात सामने आई। रिपोर्ट के मुताबिक, 2017 में भारत में अति अमीरों की संख्या 20.4 प्रतिशत बढ़कर 2.63 लाख पर पहुंच गई। वहीं इस दौरान उनकी कुल संपत्ति 21 प्रतिशत बढ़कर एक लाख करोड़ डॉलर (डॉलर की वर्तमान दर से 68 लाख करोड़ रुपये से अधिक) पर पहुंच गई।
आकड़ा देश के जीडीपी के एक तिहाई के बराबर
यह आकड़ा देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के एक तिहाई के बराबर है। 2017 में अमीरों की संख्या बढ़ने के मामले में भारत की दर सबसे तेज रही। बीते साल ग्लोबल स्तर पर अमीरों की संख्या में औसतन 11.2 प्रतिशत की और उनकी कुल संपत्ति में 12 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। अति अमीर की श्रेणी में उन लोगों को रखा जाता है जिनकी कुल निवेशयोग्य संपत्ति 10 लाख डॉलर (डॉलर की वर्तमान दर से करीब 6.8 करोड़ रुपये) से ज्यादा होती है। रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका, जापान, जर्मनी और चीन इस मामले में सबसे आगे हैं।
11वें स्थान पर पहुंच गया भारत
2017 में आए उछाल के बाद भारत इस मामले में 11वें स्थान पर पहुंच गया है। भारत में अति अमीरों की संख्या में बढ़ोतरी में बीते साल बाजार पूंजीकरण में आए 50 प्रतिशत से ज्यादा के उछाल की अहम भूमिका रही। इसके अलावा समीक्षाधीन वर्ष में रियल्टी सेक्टर में कीमतों में 4.8 प्रतिशत और सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 6.7 प्रतिशत की दर से वृद्धि हुई। इस मामले में भी भारत वैश्विक औसत से आगे रहा।रिपोर्ट में कहा गया कि जुलाई, 2017 में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू होने से संपत्ति पर थोड़ा असर पड़ा, लेकिन यह अस्थायी था। इसके अलावा स्थिर मौद्रिक नीति, नोटबंदी का असर खत्म होने और बचत की ओर रुख करने से लोगों को संपत्ति बढ़ाने में मदद मिली।
देश की आधी आबादी के पास केवल एक फीसद संपत्ति थी
गौरतलब है कि जनवरी में अंतरराष्ट्रीय अधिकार समूह ऑक्सफेम ने देश में संपत्ति के बंटवारे पर रिपोर्ट जारी की थी। रिपोर्ट के मुताबिक, भारत की 120 करोड़ की आबादी में से ऊपर के एक फीसद लोगों का कब्जा 2017 में सृजित कुल संपत्ति के 73 प्रतिशत हिस्से पर था। वहीं दूसरी ओर, 67 करोड़ लोगों यानी देश की आधी आबादी के पास केवल एक फीसद संपत्ति थी। ऐसी स्थिति में अति अमीरों की बढ़ती संख्या और गरीबों की स्थिति जस की तस बनी रहने को लेकर सरकारों की नीतियां अक्सर सवालों के घेरे में रहती हैं।

मुगलसराय-इलाहाबाद रूट पर अब लेट नहीं होंगी ट्रेन, बिछेगी तीसरी रेल लाइन

देश बनेगा बीपीआे हब, एक लाख नियुक्तियों की तैयारी में सरकार


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.