चलते मैच में गिरी बर्फ तो दौड़ आर्इ कार Ind Vs Nz ही नहीं ये 10 मैच भी रोके गए अनोखी वजहों से

2019-01-24T08:30:22+05:30

भारत बनाम न्यूजीलैंड के बीच नेपियर में खेला गया पहला वनडे भारत ने 8 विकेट से जीत लिया। यह मैच भारत की जीत के अलावा एक आैर वजह से चर्चा में रहा। दरअसल बीच मैच में सूरज की तेज रोशनी के कारण मैच रोक दिया गया। आइए जानें क्रिकेट इतिहास में कबकब अनोखे कारणों से मैच पर विराम लगा

कानपुर। भारत बनाम न्यूजीलैंड के बीच पांच मैचों की वनडे सीरीज का पहला मैच भारत ने 8 विकेट से जीत लिया। यह मैच नेपियर के मैक्लेन पार्क में खेला गया था। मैच के दौरान मैदान पर एक एेसा वाक्या हुआ जिसे पहले न किसी ने देखा, न सुना था। दरअसल भारतीय बैटिंग के दौरान मैच को इसलिए रोकना पड़ा क्योंकि सूरज की रोशनी काफी तेज थी। भारत की पारी के 10 आेवर हो चुके थे आैर भारतीय बल्लेबाजों को गेंद का सामना करने में दिक्कत आ रही थी। उस वक्त सूरज डूबने जा रहा था एेसे में उसकी तेज रोशनी सीधे बल्लेबाज की आंखों पर पड़ रही थी। एेसे में अंपायर को मैच बीच में रोकना पड़ा आैर करीब 30 मिनट तक मैच नहीं खेला गया। क्रिकेट जगत में इस तरह का मैच विराम पहली बार देखा गया।
टोस्ट जलने से रुक गया मैच
साल 2017 में ब्रिसबेन के एलन बाॅर्डर मैदान पर न्यू साउथ वेल्स आैर क्वींसलैंड के बीच एक घरेलू मैच खेला जा रहा था। वेल्स की टीम जीत के काफी करीब थी। तभी फील्डिंग कर रहे वेल्स के गेंदबाज नाॅथन लाॅयन मैदान छोड़कर बाहर चले गए। रेस्ट रूम में आते ही लाॅयन ने टोस्टर पर टोस्ट सेंकना शुरु किया मगर टोस्ट काफी जल गया आैर धुंए की वजह से रूम का फाॅयर अलार्म बज उठा। फिर क्या पूरे मैदान में हड़कंप मच गया। मैच रोक दिया गया आैर मैदान पर फायर ब्रिगेड की गाड़ियां तक आ गर्इं। मैच करीब आधे घंटे से ज्यादा समय तक रुका रहा आैर बाद में पता चला कि यह एक टोस्ट की वजह से हुआ।
चलते मैच में घुस आर्इ कार
दो साल पहले दिल्ली आैर उत्तर प्रदेश के बीच खेले गए रणजी मैच में उस वक्त हड़कंप मच गया जब एक कार मैदान में घुस आर्इ। ये कार मैदान में काफी देर तक चक्कर लगाती रही। दो-तीन बार पिच पर से भी होकर गुजरी। कार को इस तरह मैदान में चक्कर काटते देख अंपायर आैर खिलाड़ी शांत खड़े रहे। बाद में सिक्योरिटी गार्ड ने कार ड्राइवर को पकड़कर पुलिस के हवाले किया।
बाॅल की बजाए चूहा पकड़ने भागे फील्डर
साल 1957 की बात है, ग्लूकोस्टर में डर्बीशायर काउंटी चैंपियनशिप खेली जा रही थी। टूर्नामेंट के एक मैच में खिलाड़ी उस वक्त हैरान हो गए जब एक जंगली चूहा मैदान में घुस आया। ये चूहा मैदान में इधर से उधर दौड़ लगाने लगा। अंपायर सहित सभी खिलाड़ी चूहे को भगाने में लग गए। मगर आखिर में सफलता विकेटकीपर को मिली। चूंकि वह दस्ताने पहना था एेसे में उसने चूहे को आसानी से पकड़ लिया आैर मैदान के बाहर कर दिया।
सांप ने फैलार्इ दहशत
2009 में आॅस्ट्रेलिया के सिडनी शहर में अंडर-17 मैच हो रहा था। ये मैच 20 मिनट तक इसलिए रुका रहा क्योंकि एक काला सांप मैदान में घुस आया था। जब तक सुरक्षाकर्मियों ने उसे बाहर नहीं निकाला, मैच रुका रहा। यही नहीं आॅस्ट्रेलिया में एक बार आैर सांप की वजह से मैच में खलला पड़ा था। दरअसल एक मैच में गेंदबाज गेंद फेंक चुका था तभी बल्लेबाज को पिच पर सांप दिखार्इ दिया। उसने गेंद को मारने के बजाए अपने बल्ले से सांप को मार दिया। बाद में बल्लेबाज को लगा कि वह स्टंप आउट न हो जाए इसलिए उसने पीछे मुड़कर देखा मगर तब तक विकेटकीपर सांप के डर से काफी दूर भाग चुका था।
मैदान पर गिरने वाला था बम
जुलार्इ 1944 की बात है, लाॅर्ड्स मैदान पर आर्मी आैर राॅयल एयर फोर्स के बीच एक मैच खेला जा रहा था। तभी अचानक पता चला कि जर्मन बम मैदान पर गिरने वाला है। फिर क्या, देखते ही देखते सभी खिलाड़ी मैदान पर लेट गए। हालांकि बम जब तक ग्राउंड पर आकर गिरता उसे पहले ही बाहर कर दिया गया।
चूहे ने मचाया धमाल
1957 में केंट की टीम हैंपशाॅयर के खिलाफ एक मैच खेल रही थी कि तभी एक चूहा मैदान में आ गया। चूहे को मैदान में धमाल मचाते देख मैच बीच में रोक दिया गया। बाद में चूहे का मालिक आया आैर अपनी टोपी में चूहे को बिठाकर बाहर चला गया।
सूर्य ग्रहण की वजह से नहीं हुआ मैच
फरवरी 1980 की बात है, इंग्लैंड टीम भारत दौरे पर थी। मुंबर्इ में भारत आैर इंग्लैंड के बीच एक टेस्ट मैच खेला गया। तब टेस्ट में बीच में एक रेस्ट डे होता था हालांकि दूसरे दिन भी मैच नहीं हुआ क्योंकि उस दिन पूर्ण सूर्यग्रहण था। खैर भारत यह मैच 10 विकेट से हार गया था।

गर्मी में बर्फ से ढक गया पूरा मैदान

2 जून 1975 को इंग्लैंड में डर्बीशाॅयर चैंपियनशिप का मैच खेला जा रहा था। चूंकि ये समर सीजन होता है एेसे में लैंकशाॅयर आैर डर्बीशाॅयर की टीमें मैदान में खेलने उतरी। पहले दिन लैंकशाॅयर ने पांच विकेट पर 477 रन पर पारी घोषित की। इसके बाद दूसरी टीम ने दो विकेट खोकर 25 रन बना दिए। अगले दिन सुबह जब खिलाड़ी मैच खेलने आए तो बारिश शुरु हो गर्इ। देखते-देखते बर्फ भी पड़ने लगी। कुछ मिनटों में ही पूरा मैदान आैर स्टेडयिम बर्फ से ढक गया। इसके बाद मैच को रद कर दिया गया।
जब गेंद हो गर्इ गरम
साल 1995 में साउथ अफ्रीका के पार्ल में एक घरेलू मैच खेला जा रहा था। मैच के दौरान बल्लेबाज डेरेल कुलिनेन ने गेंदबाज रोजर की गेंद पर इतना लंबा छक्का मार कि गेंद सीधे स्टैंड में जा गिरी। हालांकि गेंद वहां मैच देख रहे एक दर्शक के खाने में गिरी। चूंकि खाना बहुत गर्म था, एेसे में गेंद भी काफी गरम हो गर्इ। बाद में अंपायर गेंद के ठंडे होने का इंतजार करते रहे ताकि उसे साफ किया जा सके। इस दौरान मैच काफी देर तक रुका रहा।
बिना गेंद के कैसे खेला जाए मैच
भारत बनाम इंग्लैंड के बीच 1982 में दिल्ली में एक टेस्ट मैच खेला जाना था। दोनों टीमों के खिलाड़ी मैदान पर आए गए। सबकुछ तैयारी हो गर्इ मगर तभी पता चला कि अंपायार के पास गेंद ही नहीं है। दरअसल अंपायर ने जिस कपबोर्ड में गेंद रखी थी उसकी चाभी खो गर्इ थी। एेसे में मैच थोड़ी देर बाद शुरु हो पाया।
Ind vs Nz : पहली बार सूरज की रोशनी के कारण रोका गया मैच, पिच की डिजाइन से करना पड़ा एेसा
न्यूजीलैंड से 7 घंटे पहले देख सकेंगे मैच, भारत में ये है Ind vs Nz मैच शुरु होने की टाइमिंग


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.