भूकंपसुनामी से तबाह इंडोनेशिया को बचाने के लिए भारत ने शुरू किया ऑपरेशन समुद्र मैत्री

2018-10-04T01:21:16+05:30

भूकंपसुनामी से तबाह इंडोनेशिया को बचाने के लिए भारत ने ऑपरेशन समुद्र मैत्री शुरू कर दिया है। भारत ने वायुसेना के दो एयरक्राफ्ट भेजे हैं।

नई दिल्ली (आईएएनएस)। इंडोनेशिया के सुलावेसी प्रांत में पिछले हफ्ते शुक्रवार आए भारी भूकंप और सुनामी ने हजारों लोगों का जीवन तबाह कर दिया। इस आपदा से प्रभावित लोगों की सहायता के लिए भारत ने बुधवार को 'ऑपरेशन समुद्र मैत्री' लॉन्च किया। भारत के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, 'भारतीय वायुसेना के दो विमान सी-130 जे और सी-17 मानवतावादी सहायता के लिए कुछ डॉक्टरों और राहत सामग्री के साथ आज (बुधवार) सुबह इंडोनेशिया के लिए रवाना हुए।'
भारतीय नौसेना के जहाज भी भेजे गए
सी-130 जे विमान एक फील्ड अस्पताल स्थापित करने के लिए तंबू और उपकरणों के साथ एक मेडिकल टीम को ले गया है। वहीँ सी -17 विमान लोगों को तत्काल सहायता प्रदान करने के लिए दवाएं, जनरेटर, तंबू और पानी ले गया है। विदेश मंत्रालय ने बताया कि भारतीय नौसेना के जहाजों आईएनएस तिर, आईएनएस सुजाता और आईएनएस शारदुल को भी मानवीय सहायता और आपदा राहत के लिए भेज दिया गया है। उम्मीद है ये जहाज 6 अक्टूबर को सुलावेसी में पहुंच जायेंगे। मंत्रालय ने कहा, '1 अक्टूबर को इंडोनेशियाई राष्ट्रपति जोको विडोडो के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की टेलीफोनिक बातचीत और अंतरराष्ट्रीय सहायता की इंडोनेशिया की स्वीकृति के बाद यह अभियान शुरू किया गया।'
1,407 लोगों की मौत
बता दें कि सुलावेसी द्वीप पर शुक्रवार को पहले 7.5 तीव्र गति वाला भूकंप आया, उसके बाद छह मीटर (20 फीट) ऊंचाई वाली लहरों की सुनामी ने द्वीप को पूरी तरह से तहस महस कर दिया। इस आपदा के चलते इंडोनेशिया में 1,407 लोगों की मौत हो गई, जबकि हजारों की संख्या में लोग घायल हुए। इसके अलावा करीब 66000 इमारतें ध्वस्त हो गईं, लोगों को मजबूरन अपना घर छोड़ना पड़ा।

इंडोनेशिया में भूकंप और सुनामी से अब तक 1,234 लोगों की मौत

इंडोनेशिया में भूकंप के बाद आई सुनामी से 380 लोगों की मौत, 500 से अधिक घायल

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.