Ind Vs Aus भुवनेश्वर के खिलाफ फिंच सिर्फ सात गेंद पर लगा पाए बल्ला और 3 बार हुए आउट

2019-01-18T12:24:21+05:30

भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया के बीच तीसरा वनडे मेलबर्न में खेला जा रहा। ऑस्ट्रेलिया ने पहले खेलते हुए 231 रन बनाए। भारत की तरफ से भुवनेश्वर कुमार ने लगातार तीसरी बार एरोन फिंच का शिकार किया। बता दें इस सीरीज में फिंच का भुवी के खिलाफ रिकाॅर्ड सबसे खराब रहा।

कानपुर। भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन मैचों की वनडे सीरीज का तीसरा और आखिरी मैच मेलबर्न में खेला जा रहा। कंगारु कप्तान एरोन फिंच ने टाॅस जीतकर पहले बैटिंग का निर्णय लिया और पूरी कंगारु टीम 230 रन पर ऑलआउट हो गई। भारत की तरफ से सबसे ज्यादा छह विकेट युजवेंद्र चहल ने लिए। वहीं मोहम्मद शमी और भुवनेश्वर कुमार के खाते में दो-दो विकेट आए। भुवी ने पहला शिकार एलेक्स कैरी का किया वहीं कुछ ओवर बाद एरोन फिंच को भी चलता किया। इस सीरीज के तीनों मैचों में फिंच को हर बार भुवी ने ही आउट किया।

तीन में दो बार हुए बोल्ड

तीन मैचों की मौजूदा वनडे सीरीज में फिंच का भुवनेश्वर के खिलाफ रिकाॅर्ड काफी खराब रहा है। तीनों मैचों में उन्हें भुवनेश्वर कुमार ने ही आउट किया। सिडनी में खेले गए पहले वनडे में भुवी ने फिंच को 6 रन पर बोल्ड किया। वहीं एडीलेड में हुए दूसरे मैच में फिंच फिर से छह रन बनाकर भुवी का शिकार बने। इस बार भी भुवनेश्वर ने उनका विकेट उखाड़ा। इसके बाद तीसरे और आखिरी वनडे में फिंच एलबीडब्ल्यू का शिकार हुए।
भुवी की सिर्फ सात गेंदों पर लगा पाए बल्ला
ऑस्ट्रेलियाई ओपनर बल्लेबाज एरोन फिंच इस सीरीज में भुवनेश्वर कुमार की सिर्फ सात गेंदों पर बल्ला लगा पाए। क्रिकइन्फो पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, फिंच ने तीन मैचों में भुवनेश्वर की कुल 37 गेंदों का सामना किया जिसमें 30 गेंदें तो डाॅट रहीं। वहीं बल्ले से मात्र 16 रन निकले और हर बार भुवी को अपना विकेट दे बैठे।
7 महीनों से चल रहे फ्लाॅप
कंगारु टीम के धाकड़ बल्लेबाजों में गिने जाने वाले एरोन फिंच पिछले सात महीनों से फ्लाॅप चल रहे हैं। फिंच ने आखिरी बार सबसे बड़ी पारी जून 2018 में खेली थी। तब उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ 100 रन बनाए थे। इसके बाद उनका बल्ला खामोश हो गया। उन्होंने पिछली पारियों में क्रमशः 22, 5, 41, 11, 6, 6, 14 रन बनाए हैं।
भारत के पास इतिहास रचने का मौका
आखिरी वनडे में ऑस्ट्रेलियाई ने भारत को जीत के लिए 231 रन का लक्ष्य दिया। भारतीय बल्लेबाजों की फार्म को देखते हुए ये टारगेट कठिन तो नहीं हैं। अगर भारत यह मैच जीत जाता है तो विराट कोहली पहले ऐसे भारतीय कप्तान होंगे जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया में द्विपक्षीय सीरीज जीती हो।
#10YearChallenge : 10 साल में विराट के 10 लुक, देखते-देखते इतना बदल गए कोहली
19 मिनट में पचासा और 40 मिनट में शतक, जब 5 ओवर में बनाई गई थी सबसे तेज सेंचुरी


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.