कानपुर बहन की शादी छोड़ सरहद के लिए रवाना हुआ भाई

2019-03-01T11:16:34+05:30

इंडियन आर्मी में तैनात शुभम सिंह सेंट्रल पर उतरते ही वापस बॉर्डर के लिए रवाना हो गए। सैनिक नगर निवासी शुभम के घर में आज है बहन की शादी ऊधमपुर बॉर्डर पर तैनात है जांबाज

kanpur@inext.co.in
KANPUR: एक भाई अपनी बहन की शादी के लिए लाखों अरमान दिल में संजोता है। ऐसा ही एक भाई देश की सेवा कुछ पलों के लिए छोड़कर अपनी बहन के और अपने अरमान पूरे करने शहर लौटा था। लेकिन मां भारती की एक पुकार पर परिवार को पीछे छोड़कर फौरन ही वह अपने मोर्चे पर लौट गया। इस जांबाज सैनिक का नाम है शुभम सिंह। सैनिक नगर निवासी जवान के घर पर कल उसकी बहन की शादी थी। छुट्टी लेकर वह सेंट्रल स्टेशन अपने सैनिक दोस्तों के साथ पहुंचा ही था कि उसे वापस कमांड पर बुला लिया गया।
आशीर्वाद देकर हुआ रवाना
सेंट्रल स्टेशन पर फोन आते ही शुभम ने अपने घर वालों की इसकी सूचना दे दी। घर में सन्नाटा छा गया। घर वाले दौड़कर सेंट्रल स्टेशन पहुंचे और शुभम से मुलाकात की। शुभम ने रूंधे गले से अपनी रोती बहन को आशीर्वाद दिया और वादा किया कि लौट कर आएगा।
फक्र के साथ किया रवाना
शहीद कारपोरल दीपक पांडेय के घर श्रद्धांजलि देने पहुंचे अंशुल सिंह ने बताया कि पिता कैप्टन अरविंद सिंह आज सुबह ही घर से वापस अपनी पोस्ट पर रवाना हुए हैं। पिता 1 महीने के लिए छुट्टी पर आए थे, लेकिन रात को कमांड ऑफिस से आदेश मिला कि वापस पोस्ट पर लौटना है। अंशुल ने बताया कि पिता न्यू जलपाईगुड़ी बॉर्डर पर तैनात हैं।
जेएंडके के लिए निकले
कानपुर के रहने वाले मेजर अमित द्विवेदी की 1 हफ्ते की छुट्टी बाकी थी। वेडनेसडे रात फोन आते ही सुबह की पहली किरण के साथ मेजर अपनी पोस्ट के लिए रवाना हो गए। पिता आरके द्विवेदी ने बताया कि मुझे अपने बेटे पर फक्र है कि वह देश सेवा करने के लिए हमें पीछे छोड़कर फर्ज निभाने निकल पड़ा है।

जवान लौटने लगे अपनी पोस्ट पर

कानपुर से अकेला शुभम ही नहीं, बल्कि छुट्टी पर चल रहे सभी जवानों को वापस अपनी-अपनी पोस्टों पर पहुंचने के आदेश मिले हैं। सभी जवानों की छुट्टियों को रद कर दिया गया है। कानपुर के दर्जनों एयरफोर्स, नेवी और इंडियन आर्मी के जवान आदेश मिलते ही रवाना होने लगे हैं। सीमा पर चौकसी बढऩे से छुट्टियां कैंसिल हो गईं।

फोन आने का इंतजार है

इंडियन एयरफोर्स के नौजवान सिपाही एलएसी शिवम पाल इन दिनों छुट्टी पर हैं। शहीद को श्रद्धांजलि देने पहुंचे शिवम ने बताया कि 2016 में मेरी दीपक सर से जाम नगर एयरफोर्स स्टेशन पर मुलाकात हुई थी। जब उन्हें पता चला हम दोनों आसपास ही रहते हैं तो उन्होंने गले लगा लिया। उसने बताया कि मेरी छुट्टियां अभी बाकी हैं, लेकिन मैंने सामान अभी से पैक कर लिया है। कभी भी फोन आ सकता है।

पाकिस्तान के झूठ से उठा पर्दा, तस्वीरों में देखें F16 के मलबे की जांच करते पाक सैनिक

बेटा अनफिट हुआ तो क्या, पौत्र को भेजूंगी आर्मी में


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.