जेएनयू विवाद छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया गिरफ्तार

2016-02-12T04:44:00+05:30

अब तक बुद्धिजीवियों के गढ़ कहे जाने वाले जवाहरलाल नेहरू विश्‍वविद्यालय में भारत विरोधी नारे लगने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। शुक्रवार को इस मामले में गृहमंत्री राजनाथ सिंह के नाराजगी जताने के बाद छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। जिस पर अीचर्स एसोशिएसन और छात्र संघ विरोध कर रहा है।

छात्र संघ नेता गिर फ्तार छात्रों का बढ़ा बबाल
JNU विवाद पर गृहमंत्री राजनाथ ने कड़ी नाराजगी जताई थी औश्र कहा था कि वे किसी भी राष्ट्र विरोधी गतिविधियों को बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि अगर कोई भारत विरोधी नारे लगाता है तो इससे देश की एकता प्रभावित होती है। उन्होंने दिल्ली पुलिस को घटना में शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया भी दिया था। जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को गिरफ्तार कर लिया है। पता चला है कि सादे कपड़ों में दो पुलिस वाले पहले उनके घर पूछताछ के लिए पहुंचे और फिर उन्‍हें गिर फ्तार कर लिया गया। इसके साथ ही आतंकी अफजल गुरु को फांसी दिए जाने के विरोध में जेएनयू में आयोजित किए गए कार्यक्रम के बाद शुरू हुआ विवाद  अब बढ़ गया है। JNU टीचर्स एसोसिएशन ने छात्र संघ अध्यक्ष की गिरफ्तारी का विरोध किया है। अब वे तीन मांगों के साथ वीसी से मिलने जा रहे हैं। इन मांगों में कन्हैया कुमार की तुरंत रिहाई, छात्रों और शिक्षकों से पूछताछ और समन रोकने की मांग और छात्रों पर लगी धाराओं को खत्म करने की बातें शामिल है।
उप कुलपति ने छात्रों से शांतिपूर्ण तरीके से कैंपस में वापसी के लिए कहा
भारत विरोधी नारे लगने के मामले में जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) के उप कुलपति ने शुक्रवार को साफ कर दिया कि संविधान विरोधी या असंवैधानिक किसी भी क्रियाकलपा के लिए यूनिवर्सिटी के प्लेटफार्म का प्रयोग कदापि नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने अपील कि इस इस क्रियाकलाप में शामिल लोग शांतिपूर्वक कैंपस में लौट आएं।
एबीवीपी का प्रदर्शन
वहीं इस मामले को लेकर शुक्रवार को एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने इंडिया गेट पर जमकर प्रदर्शन किया। एबीवीपी के सैकड़ों कार्यकर्ता इंडिया गेट पर एकत्र होकर जेएनयू प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। ऐहतियात के तौर पर यहां भारी सुरक्षा बल की तैनाती की गई है। पता चला है कि कुछ नेताओं की गिर फ्तारी भी हुई है।
आपात काल की याद दिलाता है ये माहौल: येचूरी
इस बीच सिताराम येचूरी ने कहा कि जिस तरह दिल्ली पुलिस जेएनयू हास्टल से छात्रों को गिरफ्तार कर रही है, उससे एक बार फिर आपातकाल की यादें ताजा हो गई है। उन्होंने पुलिस की बर्बरता की निंदा की है। येचूरी ने चकित होकर कहा, यह सब क्या हो रहा है। जेएनयू कैंपस में पुलिस, हास्टल में छात्रों को जबरन गिरफ्तारी यह सब उनकी समझ से परे है।
क्‍या है मामला
यहां पर याद दिला दें कि मंगलवार रात को छात्रों के एक समूह ने संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु और जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के को-फाउंडर मकबूल भट की याद में प्रोग्राम आयोजित किया था। इस मौके पर देश विरोधी नारे भी लगाए गए। इस देशद्रोही नारेबाजी का एक वीडियो भी जेएनयू के ही छात्रों ने जारी किया है, जो अब सोशल मीडिया पर भी वायरल हो गया है। विरोध कर रहे छात्रों के गो बैक इंडिया, कश्मीर की आजादी तक जंग रहेगी, भारत की बर्बादी तक जंग रहेगी जैसे नारों ने पूरे कैंपस में बवाल खड़ा कर दिया। जब भाजपा की छात्र इकाई ABVP के छात्रों ने इसका विरोध किया तो ये छात्र उनसे भी भिड़ गए। विवाद बढ़ने पर मौके पर पुलिस को बुलाना पड़ा।
भाजपा सांसद ने दर्ज कराई प्राथमिकी
इसके बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पूर्वी दिल्ली से सांसद गिरि ने हौजखास थाने में जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) ने संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरू पर कार्यक्रम आयोजित करने वालों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करा दी। साथ ही उन्होंने गृहमंत्री राजनाथ सिंह और मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि वे जेएनयू के कुलपति को आयोजकों के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दें और साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि भविष्य में ऐसे कार्यक्रम न हों।

inextlive from India News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.