कुंभ तक कानपुर की टेक्सटाइल इंडस्ट्री भी रहेगी बंद

2019-01-05T09:06:30+05:30

kanpurinext.co.in
KANPUR: कुंभ के दौरा गंगा को निर्मल- अविरल बनाए रखने के लिए शासन ने टेनरीज के बाद अब टेक्सटाइल इंडस्ट्री पर भी बंदी की मार पड़ी है। फ्राइडे को उ.प्र। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की रिपोर्ट पर डीएम ने टेक्सटाइल बंदी के आदेश दिए हैं। कुंभ तक कानपुर की करीब 51 टेक्सटाइल फैक्ट्री में प्रोडक्शन नहीं होगा। 29 फैक्ट्रियों से निकलने वाला जहर सीधे पनकी के पास स्थित आईसीआई नाला में जा रहा है। जोकि आगे चलकर गंगा में मिलता है। 22 टेक्सटाइल फैक्ट्रियों का जहर गंदा नाला में गिर रहा है और ये भी गंगा में मिल जाता है। ऐसे में सरकार की मंशा पर पानी फिर रहा था। लेकिन जिला प्रशासन एक्शन में आया और बंदी का आदेश दे दिया। बता दें कि इन 59 फैक्ट्रियों में जीरो डिस्चार्ज सिस्टम नहीं लगा है, इसलिए इनमें प्रोडक्शन 4 मार्च तक बंद करने के आदेश दिए गए हैं। अगले 3 महीने के लिए टेनरियों के संचालन के लिए रोस्टर जारी किया गया है.

पांडू नदी से सीधे गंगा में
मुख्य पर्यावरण अधिकारी कुलदीप मिश्र ने बताया कि कुंभ मेला- 2019 के लिए जो कार्ययोजना तैयार की गई है, उसके मुताबिक गंगा में किसी भी दशा में रंगीन या अशोधित उत्प्रवाह नहीं जाना चाहिए। जबकि बोर्ड के पास यह रिपोर्ट आई कि आईसीआई ड्रेन व गंदा नाला अभी तक टैप नहीं किया गया। नालों के रास्ते यह पूरा वेस्ट पांडू नदी में गिरता था और फतेहपुर के पास पांडू नदी गंगा में मिल जाती है। इसकी वजह से गंगा में पूरा वेस्ट जा रहा था। नालों और टेक्सटाइल फैक्ट्रियों को एचडी वेब कैमरा लगाना होगा, जिसकी लाइव फीडिंग सीधे लखनऊ स्थित प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड मुख्यालय में की जाएगी.

91 टेनरियों पर कसा शिकंजा
टेनरियों की वजह से लगातार ओवरफ्लो हो रहे पंपिंग स्टेशनों की वजह से प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड ने टेनरियों को रोस्टर के मुताबिक संचालन करने का फैसला लिया है। इसके लिए प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने 91 टेनरियों पर शिकंजा कसा है। जाजमऊ स्थित पंपिंग स्टेशन वाजिदपुर से जुड़ी सभी 91 टेनरियों का संचालन रोस्टर से कराने का फैसला लिया है। टेनरियों को 3 समूह- 29, 27 व 35 में विभाजित किया गया है। 29 टेनरियों का समूह मंडे व थर्सडे, 27 टेनरियों का समूह ट्यूजडे व फ्राइडे और 35 टेनरियों का समूह वेडनसडे व सैटरडे को टेनरियों का संचालन करेगा। बोर्ड की ओर से दोपहर 12 बजे से शाम 4 बजे तक का समय भी निर्धारित किया गया है। बोर्ड के मुख्य पर्यावरण अधिकारी कुलदीप मिश्र ने बताया कि पंपिंग स्टेशन वाजिदपुर पर ओवरफ्लो की स्थिति न बने, इसके लिए रोस्टर तैयार किया गया। बोले चार जनवरी को जब यहां का निरीक्षण किया गया था, तब यह देखने को मिला था कि पंपिंग स्टेशन से उत्प्रवाह बाईपास होकर वाजिदपुर नाले में जा रहा था.

कुंभ में देश के करोड़ों लोगों के साथ ही काफी संख्या में विदेशी मेहमान भी आएंगे। गंगा में कुंभ के दौरान गंदा पानी न गिरे। इसके तहत टेक्सटाइल इंडस्ट्री बंदी के आदेश के अलावा टेनरियों पर सख्त पहरा लगाया गया है.
कुलदीप मिश्र, रीजनल अधिकारी, पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड

कुंभ के दौरान गंगा को साफ- सुथरा बनाने के लिए हर कदम उठाया जा रहा है। जिला प्रशासन की ओर से लगातार सख्त कदम उठाए जा रहे हैं। किसी भी सूरत में गंगा को प्रदूषित होने से बचाया जाएगा.
विजय विश्वास पंत, डीएम, कानपुर नगर

inextlive from Kanpur News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.