बिहार 30 हजार रुपये के लिए कर लिया अपहरण

2019-04-16T11:03:15+05:30

पुलिस अपनी जान पर खेलकर युवक को अपहरणकर्ताओं के चुंगुल से मुक्त कराया। वहीं आरोपी भागने में कामायब रहे। अगवा व्यक्ति ने बताया कि घटना के समय मैं काली मंदिर के पास पूजा कर रहा था। इस दौरान बदमाश आए और उन्होंने जबरदस्ती अपनी गाड़ी पर बैठा लिया।

patna@inext.co.in
PATNA : चौक थाना क्षेत्र में रविवार देर रात महज 30 हजार रुपए के लिए बदमाशों ने फैक्ट्री में काम करने वाले 55 वर्षीय राजेंद्र प्रसाद का अपहरण कर लिया। बदमाश उसकी पत्नी का भी अपहरण करने का प्रयास कर रहे थे लेकिन वो किसी तरह से भाग गई और पुलिस थाने पहुंच गई। सूचना के बाद तत्काल पुलिस बदमाशों के पीछे रवाना हो गई। पुलिस बदमाशों के ठिकाने पर दबिश दी। इस दौरान उन लोगों ने हमला कर दिया। पुलिस अपनी जान पर खेलकर युवक को अपहरणकर्ताओं के चुंगुल से मुक्त कराया। वहीं आरोपी भागने में कामायब रहे। अगवा व्यक्ति ने बताया कि घटना के समय मैं काली मंदिर के पास पूजा कर रहा था। इस दौरान बदमाश आए और उन्होंने जबरदस्ती अपनी गाड़ी पर बैठा लिया।

3 बाइक से आए थे बदमाश
चौक थाना क्षेत्र के गौरैया स्थान में किराए के मकान में रहने वाली मंजू देवी ने दर्ज प्राथमिकी में बताया कि आठ अप्रैल की शाम मैं पति राजेंद्र प्रसाद के साथ काली मंदिर में पूजा कर रही थी। उसी समय तीन मोटर साइकिल पर नूरपुर के 45 वर्षीय भल्लू  यादव, 25 वर्षीय आशीष यादव, 30 वर्षीय सुनील यादव, सुबोध कुमार सिन्हा तथा दो अन्य अज्ञात व्यक्ति आए। बाइक पर सवार व्यक्ति पति को अगवा कर ले जाने लगे। पत्नी मंजू ने कहा कि विरोध करने पर मेरे साथ बदसलूकी करते हुए मुझे भी अगवा करने का प्रयास किया। किसी तरह रंगदारों के चंगुल से मैं बच गई। सभी छह रंगदार 55 वर्षीय राजेंद्र को अगवा कर ले गए।
सूद पर लिया था 9 हजार
मंजू ने बताया कि भल्लू यादव से उसके पति ने नौ हजार रुपये सूद पर लिया था। जिसके एवज में सूद समेत बीस हजार रुपये लौटा दिया। इसके बावजूद भल्लू यादव तीस हजार रुपये रंगदारी के रूप में मांग करने लगा। महिला ने रंगदारी देने में असमर्थता जताई। इसपर रंगदार बोले कि पुलिस मेरे पीछी चलती है। जान बचाकर भागी मंजू ने चौक थाना पहुंचकर अगवा पति को सकुशल बरामद करने की गुहार लगाई।
रंगदारी दो नहीं तो गोली मार देंगे
पटना सिटी व्यवहार न्यायालय में दिए 164 के बयान में पत्नी ने बताया कि भल्लू यादव ने कहा कि रंगदारी में 30 हजार नहीं देने पर पति को यहीं पर गोली मार देंगे। एक बाइक पर भल्लू यादव का बेटा आशीष अपने दोस्त सुनील की मदद से पति राजेन्द्र का अपहरण कर ले गया था। बाद में चौक पुलिस ने पति को भल्लू के घर से बरामद किया। पीडि़त राजेंद्र प्रसाद मूलत: औरंगाबाद जिला के रफीगंज, माड़ीपुर के रहने वाल है। यहां वह गौरैया स्थान में जैन साहेब के मकान में किराए पर परिवार के साथ रहता है।
पैसा लो और छोड़ दो
अगवा राजेंद्र प्रसाद की पत्नी मंजू देवी ने भल्लू का दरवाजा खटखटा कर बोली कि आपके द्वारा मांगे गए रुपये लेकर आई हूं। मेरे पति को वापस कर दीजिए। इस बात को सुनकर रंगदार भल्लू ने दरवाजा खोला। अगवा पति को छोडऩे के एवज में बदमाश रुपये मांगने लगा। इसके बाद योजना के अनुसार पुलिस ने अगवा राजेंद्र प्रसाद को सुरक्षित बरामद किया।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.