दहशत फैलाने के लिए सरेआम गोलियों से छलनी किया

2015-04-08T07:00:08+05:30

-सबलू ने पूरी प्लानिंग से किया है शानू बादशाह का कत्ल

- कारोबारियों में दहशत फैलाने का है इरादा

- वर्तमान में मछरिया इलाके को ठिकाना बनाए है सबलू

>kanpur@inext.co.in

KANPUR: जुए की फड़ की मुखबिरी करने पर सबलू ने हिस्ट्रीशीटर शानू बादशाह का कत्ल किया है। यह यह तो साफ हो गया है, लेकिन सबलू ने खुद इस वारदात को क्यों अन्जाम दिया। इसके पीछे फेमस मूवी शूट आउट एट वडाला की तरह ही कहानी की है। इसी मूवी के करेक्टर मनिया की तरह ही सबलू जरायम की दुनिया का बादशाह बनाता चाहता है। हालांकि उसका बैक ग्राउण्ड मनिया से अलग है। सबलू ने अभी तक कई अपराधिक वारदात की, लेकिन उसका नाम कभी सामने नहीं आए। इसके चलते उसको अन्य अपराधी हल्के में लेते है। इसलिए बिना नकाब के वारदात को अन्जाम दिया, ताकि लोग उसे पहचान सके और उनका नाम सामने आ जाए।

रंगदारी बढ़ाने का है इरादा

सबलू ने कुछ समय में ही काफी पैसा कमा लिया है। वो सुपारी देकर भी शानू की हत्या करवा सकता था, लेकिन उसने ऐसा नहीं किया। वो अपराधियों के साथ ही कारोबारी और इलाके के लोगों के अन्दर खौफ पैदा करना चाहता था। इसलिए उसने सरेआम शानू को गोलियों से छलनी किया। वो वहां पर कुछ देर रुका भी रहा था, ताकि इलाकाई लोग उसको पहचान लें। सोर्सेज के मुताबिक उसने कारोबारियों से रंगदारी वसूलने के लिए ऐसा किया है। उसे पता था कि हत्या के बाद उसका नाम मीडिया में उछलेगा। पूंजीपति उसके नाम से कांपने लगेंगे। जिसका फायदा उठाकर वो पूंजीपतियों से मोटी रंगदारी वसूलेगा।

जेल से भेजेगा रंगदारी की पर्ची

सबलू को मालूम था कि अगर वो सरेआम शानू का कत्ल करेगा तो उसे जेल जाना पड़ेगा। इसलिए उसने जेल में वीआईपी बैरक में रहने की व्यवस्था कर ली है। इसके लिए उसने एक गुर्गे के माध्यम से जेल में मोटी रकम भी पहुंचवा दी है। सोर्सेज के मुताबिक उसने मुकदमे की पैरवी और जेल का खर्च निकालने के लिए कारोबारियों से रंगदारी वसूलने की प्लानिंग की है। उसने कारोबारियों की लिस्ट भी बना ली है। उसके निशाने में छोटे कारोबारी से लेकर टेनरी मालिक है। वो जेल से ही कारोबारियों को पचर्1ी भेजेगा।

सात साल में बना एजाजुद्दीन से शातिर सबलू

शातिर सबलू चार भाई है। शातिर सबलू बुरी संगत में पड़कर बिगड़ गया था। वो इलाके के एक दबंग पार्षद की तरह बनना चाहता है। उसने उसी को देखकर ख्008 में पिस्टल बेचने का धंधा शुरू किया था। उसके गैंग में शाहिद पिच्चा, शानू बादशाह, कालू कार्लोस समेत कई अपराधी शामिल थे। इसी दौरान उसने पैराशूट के एक कर्मचारी की हत्या का प्रयास किया। कुछ ही दिनों में उसने जुए की बुक चलवाना शुरू कर दिया। उसने आदिल से सुपारी मिलने पर शानू, कालू कार्लोस के साथ मिलकर एडवोकेट योगेन्द्र की हत्या कर दी। हालांकि पुलिस महकमे की सेटिंग से उसका नाम निकल गया। वो पार्षद को ही देखकर राजनीति में उतरा। उसने पार्षद का चुनाव भी लड़ा, लेकिन हार गया। इसमें एक पूर्व मंत्री और पूर्व नगर अध्यक्ष ने उसका सपोर्ट किया था। दोनों ने उसकी क्षेत्र में कई सभाओं को भी सम्बोधित किया था। इसी बीच वो शानू और शाहिद पिच्चा से मनमुटाव होने पर अलग हो गया।

नहीं है गिरफ्तारी का डर

सबलू के पुलिस और राजनीति से जुड़े लोगों से अच्छे संबंध है। इसके चलते उसको गिरफ्तारी का डर नहीं है। हालांकि वो घर पर नहीं रह रहा है। वो इस समय मछरिया में एक दोस्त के घर पर रुका है। उसने गाड़ी भी बदल दी है। हालांकि हत्या के बाद नेताओं और पुलिस वालों ने उससे किनारा कर लिया है। सबलू उनके टच में तो है, लेकिन वो मोबाइल से बात नहीं कर रहे हैं। उसको पुलिस विभाग के कुछ लोग दबिश के बारे में बता रहे हैं।

वकील बनकर कचहरी पहुंचा सबलू

बेकनगंज में हिस्ट्रीशीटर शानू बादशाह का कत्ल करने वाले कोर्ट में सरेंडर करने की फिराक में है। इसके लिए मंगलवार को शातिर सबलू साथियों समेत कचहरी पहुंचा था। हालांकि उसकी वकील से मुलाकात नहीं हो पाई। वो पुलिस की चहलकदमी के चलते वहां पर कुछ देर रुकने के बाद निकल गया।

कार से काला कोट पहनकर उतरा था सबलू

सबलू काफी शातिर है। वो कार से कचहरी पहुंचा था। वो कार से तहसील पहुंचा था। वो पुलिस से बचने के लिए काला कोट पहने था। उसके साथ दो और लोग थे, लेकिन वो कौन थे। इस बारे में कुछ पता नहीं चल रहा है। सोर्सेज के मुताबिक वो सरेंडर करने की फिराक में है। वो सरेंडर के पेपर्स साइन करने के लिए वकील के बस्ते गया था, लेकिन उसकी वकील से मुलाकात नहीं हो पाई। उसने कुछ देर तो बस्ते में वकील का इन्तजार किया, लेकिन पुलिस की चहलकदमी को देख वो वहां से निकल गया। वो टेजरी ऑफिस के रास्ते से कचहरी के बाहर निकला।

दो से तीन दिन में कर सकता है सरेंडर

सबलू ने हिस्ट्रीशीटर शानू बादशाह के कत्ल में सरेंडर करने की प्लानिंग पहले ही कर ली थी। इसके लिए उसने वकील से बात कर रखी थी। हालांकि उसने वकील को यह नहीं बताया था कि वो कब कत्ल करेगा। प्लान के मुताबिक वो दो से तीन दिन में कोर्ट में सरेडर कर सकता है।

inextlive from Kanpur News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.