प्रयागराज कुंभ 2019 तामझाम भौकाली सड़कें रहीं खाली

2019-01-22T09:21:44+05:30

चेकिंग का तामझाम और रुट डायवर्जन का भौकाल ऐसा खड़ा किया गया कि सोमवार को पब्लिक झेल गयी

मेले में तैनात लोकल पुलिस के जवानो की टोन से परेशान हुए लोग

भीड़ थी नहीं फिर भी पूरे दिन चलता रहा इधर से जाओ, उधर से आओ

prayagraj@inext.co.in
PRAYAGRAJ :
चेकिंग का तामझाम और रुट डायवर्जन का भौकाल ऐसा खड़ा किया गया कि सोमवार को पब्लिक झेल गयी. सड़कें खाली होने के बाद भी पब्लिक को मेला एरिया में पहुंचने के लिए चार किलोमीटर तक पैदल चलना पड़ गया. भले ही कुंभ मेला प्रशासन ने पौष पूर्णिमा के महत्वपूर्ण स्नान पर्व पर एक करोड़ से ज्यादा लोगों के स्नान करने का दावा किया हो. लेकिन वास्तविकता इसके ठीक उलट है. मेला क्षेत्र में सुबह तो काफी भीड़ देखने को मिली. लेकिन दोपहर बाद का नजारा इसके बिल्कुल ही उलट रहा.

टोली में दिखे लोग
मेला क्षेत्र में दोपहर बाद प्रमुख मागरें का हाल कुछ यूं रहा कि एक-एक किलोमीटर की रेंज मे थोड़ी थोड़ी टोलीनुमा अंदाज में ही लोगों का आना जाना देखने को मिल रहा था. इसपर भी मेला प्रशासन की सख्ती ने लोगों को हलकान किए रखा. कई जगहें ऐसी रहीं. जिनमें लोग तो नहीं थे. लेकिन पुलिस के जवानो ने बाकायदा बैरिकेडिंग लगा रखी थी.

भईया यह आने का रास्ता है, जाने का नहीं
दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने प्रमुख मागरें का दोपहर बाद नजारा लिया तो हाल यह नजर आया कि जगह-जगह बैरिकेडिंग पर तैनात पुलिस के जवान लोगों को हांकते दिखे. इधर से जाओ, उधर से जाओ. भईया यह आने का रास्ता है, जाने का रास्ता आपको उधर से मिलेगा. पूरे दिन भीड़भाड़ न होने के बाद भी लोगों से सुरक्षा में तैनात जवानो की किचकिच होती रही.

'पास' वाले भी हुए फेल
खास बात यह रही कि मेले में मीडियाकर्मियों समेत उन कर्मचारियों को भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था. जिनकी मेला क्षेत्र में ही ड्यूटी थी और उन्हें अपने वाहन लेकर आना जाना था. इनके पास प्रशासन की ओर से जारी पास भी था. लेकिन ड्यूटी पर तैनात पुलिस के जवानो का तर्क था कि पास देखकर जाने की पर्मिशन देने की उनके पास कोई जानकारी नहीं है. मेले में ड्यूटी पर तैनात कर्मचारियों के पास के जरिए अंदर जाने की िजिद पर जवान और दरोगाओं का तर्क था कि वह आज डीजीपी की भी नहीं सुनेंगे. जानकार बताते हैं कि मेले में केवल वैसे ही पुलिसकर्मी ऐसा व्यवहार कर रहे हैं जो प्रयागराज की लोकल थाने में तैनात हैं. बाकी बाहर से आए जवानो में पूरा श्रृद्धाभाव है. बाहर से आए जवान सभी से बहुत ही अच्छे तरीके से पेश आ रहे हैं.


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.