लोन लेकर गाड़ीबंगला खरीदना होगा महंगा! RBI ने बढ़ाया रेपो रेट जानें मौद्रिक नीति की मुख्य बातें

2018-08-01T06:06:14+05:30

भारतीय रिजर्व बैंक ने द्वैमासिक मौद्रिक नीति की घोषणा कर दी है। लगातार दूसरी बार आरबीआर्इ ने कर्ज की दरें महंगी कर दी हैं। आइए जानते हैं मौद्रिक नीति की प्रमुख बातें।

मुंबर्इ (पीटीआर्इ)। आरबीआर्इ ने बुधवार को 2018-19 की तीसरी द्वैमासिक मौद्रिक नीति की घोषणा कर दी है। इसके साथ ही लोन की दरें महंगी हो गर्इ हैं। आइए जानते हैं इस क्रेडिट पाॅलिसी की 12 प्रमुख बातें।
महंगार्इ से चिंतित आरबीआर्इ ने महंगा किया लोन
बढ़ती महंगार्इ से चिंतित आरबीआर्इ ने कर्ज की मुख्य दर रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी कर दी है। अब रेपो रेट बढ़कर 6.5 प्रतिशत पहुंच गर्इ है। इससे आने वाले समय में मकान, आॅटो सहित अन्य लोन आैर उसकी र्इएमआर्इ महंगी हो सकती हैं। मौद्रिक नीति कमेटी के छह में से पांच सदस्यों ने रेपो रेट में बढ़ोतरी के लिए वोटिंग की। इस कमेटी की अध्यक्षता आरबीआर्इ के गवर्नर उर्जित पटेल करते हैं।
1- आरबीआर्इ ने रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी कर दी है। अब यह 6.5 प्रतिशत पहुंच गया है।
2- रिजर्व बैंक ने लगातार तीसरी बार छोटी अवधि के लिए ली जाने वाली कर्ज की दरों में बढ़ोतरी की है।
3- नर्इ मौद्रिक नीति में लगातार रिवर्स रेपो रेट 6.25 प्रतिशत के स्तर पर बरकरार है।
4- इस घोषणा के साथ अब मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी रेट 6.75 प्रतिशत हो गर्इ है।
5- मौद्रिक नीति के माध्यम से रिजर्व बैंक का रवैया अब भी तटस्थ ही है।
6- अप्रैल-सितंबर की तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 7.5 से 7.6 प्रतिशत रहने की उम्मीद है।
7- 2018-19 के दौरान जीडीपी की अनुमानित दरें 7.4 प्रतिशत ही रखी गर्इं हैं।
8- मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में खुदरा महंगार्इ की दरें बढ़कर 4.8 प्रतिशत तक पहुंचने की आशंका है।
9- मौद्रिक नीति कमेटी (एमपीसी) के 5 सदस्यों ने दरें बढ़ाने के लिए वोट किया जबकि एक सदस्य ने खिलाफ वोट दिया।
10- अगला तीन दिवसीय एमपीसी मीटिंग 3 अक्टूबर से होनी है।
11- चौथी द्वैमासिक मौद्रिक नीति की घोषणा 5 अक्टूबर को होना है।
12- आरबीआर्इ बुधवार की बैठक के मिनट्स तैयार करेगी जिसे 16 अगस्त को सार्वजनिक किया जाना है।
यहां जानें क्या होती है रेपो रेट
रेपो रेट वह दर होती है जिस पर रिजर्व बैंक अन्य बैंकों को कर्ज देता है। दरअसल रोजाना के कामकाज के लिए बैंक आरबीआर्इ से दिन भर के लिए लोन लेते हैं। इसके लिए आरबीआर्इ कर्ज लेने वाले बैकों से ब्याज वसूलता है। यदि आरबीआर्इ लोन महंगा करता है तो बैंक भी ग्राहकों को महंगी दर पर लोन देते हैं। इससे ग्राहक लोन लेने से कतराते हैं आैर बाजार में मुद्रा कम हो जाती है। इससे महंगार्इ को काबू करने में मदद मिलती है।
ATM से पैसा निकालना हो सकता है महंगा, CATMI ने लगार्इ RBI से गुहार
RBI ने कहा 64 बैंकों में पडे हैं 11,300 करोड़ रुपये, नहीं है कोई दावेदार


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.