वोट करते हुए सोशल मीडिया पर तस्वीर डालने वाले होंगे गिरफ्तार 24 तक होगी निगरानी

2019-05-21T09:46:24+05:30

लोकसभा चुनाव में अपने प्रत्याशियों के प्रति वफादारी दिखाने वाले तमाम समर्थकों की मुसीबत बढ़ सकती है

GORAKHPUR: लोकसभा चुनाव में अपने प्रत्याशियों के प्रति वफादारी दिखाने वाले तमाम समर्थकों की मुसीबत बढ़ सकती है। रोक के बावजूद मतदान केंद्र के भीतर मोबाइल फोन यूज करते हुए कुछ लोगों ने ईवीएम की तस्वीरें वायरल कर दी हैं। बटन दबाते हुए सोशल मीडिया पर तस्वीरों की प्रशासनिक अमले ने जांच शुरू कर दी है। जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि यह गंभीर मामला है। इसकी जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी.
पोस्ट कर दी तस्वीर, शुरू हुई जांच पड़ताल
पोलिंग के दौरान बूथ के भीतर मोबाइल फोन लेकर जाने की पूरी तरह से मनाही थी। ज्यादातर मतदान केंद्रों पर सुरक्षा कर्मचारी गेट पर मोबाइल फोन चेक कर ले रहे थे। लेकिन कुछ जगहों पर खुद को तेज-तर्रार दिखाने के चक्कर में लोग बूथ के भीतर मोबाइल फोन लेकर चले गए। हद तो तब हो गई जब अपना वोट डालने के दौरान उसकी तस्वीर बना ली। तस्वीर बनाने के बाद भी उन्होंने धैर्य नहीं रखा। शाम होते ही अपने फेसबुक आईडी पर बटन दबाने की तस्वीरें वायरल कर दीं। कुछ ही पलों में मतदाताओं की हरकत दूसरों तक पहुंच गई। जानकारी होने पर जिला प्रशासन ने मामले की जांच शुरू करा दी। कई लोगों का फेसबुक एकाउंट खंगालकर उसका स्क्रीन शॉट लिया गया है।

उत्साह में तोड़ दिया नियम
मतदान की प्रक्रिया पूरी तरह से गोपनीय है। इस बात की जानकारी किसी को नहीं दी जा सकती है कि किसने, किसको वोट दिया है। इसलिए मतदान की गोपनीयता बनाए रखने की जिम्मेदारी संबंधित पीठासीन अधिकारियों की होती है। लेकिन जिले में कुछ जगहों पर पीठासीन अधिकारियों और अन्य कर्मचारियों ने सख्ती के बजाय नरमी दिखाई। उनकी लापरवाही से वोटर्स ने अपने प्रत्याशी को वोट देते हुए फोटो खींच लिया। फिर अपने लोगों को यह बताने के चक्कर में कि उन्होंने पूरी ईमानदारी से वोट दिया है, उस तस्वीर को अपनी आईडी से वायरल कर दिया। चुनाव प्रक्रिया से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि यह गलत है। इसके तहत कार्रवाई की जा सकती है। उधर लोकसभा चुनाव के प्रचार की समय सीमा समाप्त होने के बाद सोशल मीडिया पर मतदान की अपील भी की गई है। इस मामले की जांच भी चल रही है। ऐसे लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई की तैयारी में प्रशासन जुटा है।

24 मई तक होती रहेगी सोशल मीडिया की निगरानी
चुनाव सकुशल संपन्न कराने के बाद रिजल्ट जारी करने की तैयारी में पुलिस-प्रशासन के अधिकारी जुट गए हैं। एग्जिट पोल के नतीजों के आधार पर सोशल मीडिया पर बहस शुरू हो गई है। मतदान करने और जीत-हार के आंकड़े को लेकर सोशल मीडिया एकाउंट्स पर बहस का दौर जारी है। ऐसे में माहौल खराब होने की संभावना पहले से जताई जा चुकी है। इसको देखते हुए पुलिस सावधानी बरत रही है। ऐसे किसी भी पोस्ट जिससे कानून-व्यवस्था प्रभावित हो सकती है। उसे शेयर करने वाले के खिलाफ पुलिस सख्ती से पेश आएगी। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि 23 मई को मतगणना का परिणाम आने के बाद भी यह क्रम जारी रहेगा।

वर्जन

अगर किसी ने ऐसा किया है तो यह पूरी तरह से गलत है। इस मामले में मुकदमा दर्ज करके गिरफ्तारी की जाएगी। आईटी एक्ट के तहत कार्रवाई का आदेश पुलिस को दिया जाएगा।
- के विजयेंद्र पांडियन, डीएम-जिला निर्वाचन अधिकारी, गोरखपुर


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.