लोस चुनाव में नकली नोट चलाने की थी तैयारी 5 अरेस्ट

2019-04-05T11:08:03+05:30

-सवा पांच लाख के नकली करेंसी के साथ पांच जालसाज गिरफ्तार

CHAPRA/PATNA : लोकसभा चुनाव में करोड़ों रुपए के नकली नोट चलाने की तैयारी चल रही थी। सूचना मिलते ही पांच जालसाज को दबोच लिया गया है। बताया गया कि लंबे समय से छपरा में नकली नोट छापकर देश के कई राज्यों में सप्लाई करने वाले गिरोह के सरगना समेत पांच जाल साजों को पुलिस ने 5 लाख 23 हजार रुपए की नकली करेंसी के साथ गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया। एसपी हरकिशोर राय ने नगर थाना में प्रेस कांफ्रेंस कर गुरुवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि चंदन नामक युवक द्वारा नकली नोट छाप कर असम समेत कई राज्यों में सप्लाई करने की तैयारी चल रही है।

60 हजार में सौदेबाजी

प्राप्त जानकारी के आधार पर पुलिस निरीक्षक हीरालाल प्रसाद के नेतृत्व टीम गठित कर धंधेबाजों को दबोचने की योजना बनाई। फिर एक पुलिस अधिकारी वहां ग्राहक बनकर पहुंचा और खुद को दूसरे राज्य का निवासी बताते हुए 60 हजार रुपये में एक लाख रुपये का आर्डर दिया। जिसकी डिलीवरी गुरुवार को लेनी थी। तय समय पहुंची पुलिस टीम ने सवा पांच लाख रुपए के साथ पांच धंधेबाजों को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार जालसाजों में बनियापुर थाना के भखुरा भिठ्ठी निवासी चंदन कुमार, रिविलगंज के टेकनिवास निवासी धीरज कुमार, चौखड़ा निवासी निरज कुमार, महेंद्र कुमार एवं संतोष कुमार शामिल हैं।

चंदन ने उगला राज

चंदन की निशानदेही पर पुलिस को नकली नोट के छापखाना तक पहुंचने का रास्ता मिला। रिविलगंज थाना के टेकनिवास, कोपा थाना के चौखडा समेत कई स्थानों पर छापेमारी की गई और 4 अन्य को गिरफ्तार किया गया।

फिल्मी स्टाइल में पहुंचे अधिकारी

पुलिस को यह भी जानकारी मिली थी कि इस काले कारोबार का सरगना रिविबनियापुर थाना क्षेत्र के भखुरा भिठ्ठी निवासी चंदन कुमार है। पुलिस अधीक्षक के निर्देशानुसार धंधेबाजों को दबोचने के लिए छपरा सदर पुलिस निरीक्षक हीरालाल प्रसाद के नेतृत्व में एसआइटी तथा कई थाने के तेज तर्रार पुलिस अधिकारियों को शामिल कर एक टीम का गठन किया गया। टीम में शामिल पुलिस अधिकारियों ने फुल प्रुफ योजना बनाकर धंधेबाजों को फांसने के लिए जाल बिछाया। फिल्मी स्टाइल में एसआईटी के एक पदाधिकारी नकली नोट के सप्लायर के पास ग्राहक बनकर पहुंचा और अपने को दूसरे राज्य का निवासी बताया। इसके बाद एक लाख रुपये के नकली नोट 60 हजार रुपए में देने का सौदा तय हुआ। ग्राहक बनकर गई पुलिस ने तय रेट पर पांच लाख रुपये का ऑर्डर दिया और सप्लाई देने के लिए गुरुवार का दिन निर्धारित था।

 

सारण पुलिस के लिए यह बड़ी उपलब्धि है। छापेमारी दल में शामिल पुलिसकर्मियों को पुरस्कृत किया जाएगा। गिरोह से जुड़े अन्य लोगों का भी पता लगाया जा रहा है और उनकी गिरफ्तारी के लिए संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। इनके द्वारा जिन लोगों को नकली नोट की सप्लाई की गई है, उनकी भी तलाश की जा रही है।

-हरकिशोर राय, एसपी, सारण

inextlive from Patna News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.