लुटेरे दूल्हे भी हैं चर्चा में इस तरह से दुल्हनों को अपना टारगेट बनाते

2019-04-15T11:41:45+05:30

अब लुटेरी दुल्हनों पर लुटेरे दूल्हे भारी पड़ रहे है। ये जालसाज झूठ बोलकर शादी रचाते है और दुल्हन के परिजनों को लूटकर फरार हो जाते है।

50  से ज्यादा शिकायतें पुलिस ने दर्ज की है बीते एक साल में
10 प्रतिशत मामले लुटेरे दूल्हों के आते हैं महिला हेल्प लाइन में

iEXCLUSIVE
modassir.khan@inext.co.in
PATNA:
अभी तक आपने लुटेरी दुल्हन के किस्से तो खूब सुने होंगे लेकिन अब इन लुटेरी दुल्हनों पर लुटेरे दूल्हे भारी पड़ रहे है। ये जालसाज झूठ बोलकर शादी रचाते है और दुल्हन के परिजनों को लूटकर फरार हो जाते है। हाल ही मेंं पटना में इसके कई मामले सामने आए है। खास बात यह है कि इन लुटेरों का शिकार वे लोग आसानी से बन जाते हैं जिनका सपना अपनी बेटी की शादी किसी सरकारी अधिकारी, डॉक्टर, इंजीनियर आदि से करके उसे सुरक्षित भविष्य देना होता है।

चोरी और फिर सीनाजोरी

आई नेक्स्ट ने जब ऐसे मामलों की पड़ताल की तो पता चला कि लड़की पक्ष के लोग पहले तो दूल्हे के पद को देखकर भारी रकम देकर शादी तय कर देते हैं। बाद में जब उन्हें सच्चाई पता चलती है तो वे लोग उनसे रुपये मांगते हैं। इस पर दूल्हे के परिवार का ये जवाब रहता है कि रुपये तो अब नहीं मिलेंगे। अब आपको शादी ही करनी पड़ेगी। ऐसे में लोग रुपये वापस लेने के लिए पुलिस का सहारा लेते हैं।
10 फीसदी मामले लुटेरे दूल्हे से जुड़े  
ये लुटेरे सचिवालयकर्मी, पुलिस अधिकारी, इंजीनियर और डॉक्टर के रूप में खुद को पेश करते है। इस तरह के कई मामलों की शिकायत पुलिस के पास तकरीबन रोजाना पहुंच रही है। लुटेरे दूल्हे के हाथों महंगी कार, कैश, जेवर देने के बाद जब उनको इस फर्जीवाड़े का पता चलता है तो उनके पैरों से जमीन खिसक जाती है। ऐसे में इन ठगों से सावधान रहने की जरूरत है। 10 फीसदी मामले ऐसे आते है महिला हेल्पलाइन के अफसरों की मानें तो डोमेस्टिक वॉयलेंस के 10 फीसदी मामले लुटेरे दूल्हे से जुड़े आते है।
सच में सचिवालयकर्मी समझ बैठे
शादी से पहले या बाद में ठगे जाने के बाद जब लड़की के परिजनों को अपनी रकम डूबने का अहसास होता है तो वे पहले महिला हेल्प लाइन और पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराने पहुंचते है। सोशल मीडिया आसान जरिया दरअसल, लोग इन लुटेरे दूल्हों की असलियत इसलिए नहीं जान पाते हैं क्योंकि ये लोग फेसबुक, वाट्सएप सहित अन्य सोशल मीडिया माध्यमों पर अपने बारे में बढ़ा-चढ़ाकर लिखते हैं। पिछले दिनों एक युवक ने अपने फेसबुक आईडी पर खुद को सचिवालयकर्मी लिखा था। परिवार के लोग फेसबुक आईडी देखकर उसे सच में सचिवालयकर्मी समझ बैठे थे।
मैट्रिमोनियल साइट से भी करते ठगी
शादी को लेकर पटना का ट्रेंड भी धीरे-धीरे बदलने लगा है। पटना में अब अब लोग शादी के लिए मैट्रिमोनियल साइट का उपयोग करने लगे हैं। सबसे बड़ी बात ये है कि लुटेरा दूल्हा वहां भी अपने बारे में बढ़ा-चढ़ाकर लिखते हैं जिससे लोग उनके झांसे में आ जाते हैं। बाद में परिवार को ठगी का एहसास होता है।

इंजीनियर बन सेल्समैन ने रचा ली शादी

महिला हेल्पलाइन में एक शिकायत पहुंची। इसमें एक सेल्समैन अमित कुमार ने दोदो शादी रचा ली। एक जगह वो इंजीनियर बनकर शादी रचा ली और दहेज में कार लिया। दूसरी जगह डाक्टर बन कर शादी की। वहां पर उसने कैश 15 लाख रुपये मांग किया। परिवार वालों ने डॉक्टर देखकर शादी रचा दी। बाद में दूल्हा भाग गया।
सहायक सचिवालयकर्मी बन शादी का प्रयास
सचिवालय थाना क्षेत्र में बांका जिले का रहने वाला शिवशंकर ने परिवार में झूठ बोला कि वो सचिवालय में सहायक हो गया। उसकी शादी तय हो गई। परिवार के लोगों ने मंहगी कार, कैश की मांग की। लड़की पक्ष के लोगों लड़के से मिलने गए तो उसने सचिवालय में चैंबर भी दिखा दिया। बाद में पता चला कि वो तो किसी भी पद पर नहीं है।

नशेड़ी को पुलिसकर्मी बता ले लिया 1.70 लाख

पटना के पाटलिपुत्र थाना क्षेत्र में एक मामला सामने आया है। नीतू के रिश्तेदार से जानकारी मिली एक लड़का पुलिस में है। उसके परिवार के लोगों ने शादी पक्की कर दी। सगाई में लड़की पक्ष से लड़के पक्ष ने चार लाख रुपये की डिमांड की। लड़की पक्ष ने एक लाख 70 हजार रुपये दे दिया। बाद में पता चला कि लड़का पुलिस में है ही नहीं। वो तो नशेड़ी है।
अनोखी शादी : पहली बार ये दूल्हा करेगा शादी, मंडप में होगी 2 दुल्हनें और 3 बच्चे
पति नहीं नहाता था हफ्तों तक तो पत्नी ने मांगा तलाक
झूठ बोलकर शादी रचाने की शिकायतें आ रही हैं। जब भी शादी तय हो तो लड़के की गहराई से पड़ताल करनी चाहिए।
प्रमिला कुमारी, प्रोजेक्ट, मैनेजर महिलाहेल्प लाइन
जब भी हमारे पास इस तरह की शिकायत आती है। उसमें पीडि़त को राहत दिलाने की कोशिश करते है। लोगों को भी सजग रहने की जरूरत है।
राजेश कुमार, डीआईजी


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.