NEET 2018 हाईकोर्ट का आदेश तमिल स्टूडेंट्स को दिए जाएं 196 अतिरिक्त अंक

2018-07-10T03:35:32+05:30

मद्रास उच्च न्यायालय ने इस साल राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा एग्जाम देने वाले तमिल स्टूडेंट को बड़ी राहत दी है। कोर्ट ने तमिल स्टूडेंट को अतिरिक्त 196 अंक देने का आदेश दिया है।

गलत सवालों से स्टूडेंट को परेशानी हुई
चेन्नई (आईएएनएस)। देशभर के मेडिकल कॉलेजों में दाखिले के लिए राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा (एनईईटी) का आयोजन होता है। इस साल आयोजित इस परीक्षा में तमिल भाषा में छपे पेपर में 49 सवाल गलत थे। इसकी वजह से स्टूडेंट को काफी परेशानी हुई। छात्रों के हित को देखते हुए मार्क्सवादी (सीपीएम) एमपी टीके रंगराजन ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। ऐसे में आज इस याचिका पर सुनवाई करते हुए मद्रास उच्च न्यायालय (एचसी) ने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई)  को आदेश दिया है कि प्रत्येक गलत सवाल पर स्टूडेंट को चार नंबर देने होंगे।

चार नंबर के हिसाब से 196 अंक मिलेंगे

ऐसे में चार नंबर के हिसाब 49 गलत सवालों में स्टूडेंट को 196 अंक मिलेंगे। इसके साथ ही हाईकोर्ट ने अगले 2 हफ्ते के भीतर नई रैंकिंग लिस्ट जारी करने का भी निर्देश भी दिया है।एमपी टीके रंगराजन  ने अपनी याचिका में कहा था कि  पेपर में 49 सवालों के महत्वपूर्ण शब्दोें का गलत अनुवाद था। इससे परीक्षा में बैठे स्टूडेंट को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा था। तमिल में परीक्षा देने वाले छात्रों की संख्या 24,000 से ज्यादा थी। एनईईटी का पेपर कुल 720 अंकों का था।बता दें कि सीबीएसई ने 4 जून, 2018 को NEET 2018 का रिजल्ट जारी किया था।

अब सीबीएसई नहीं नेशनल टेस्टिंग एजेंसी कराएगी NET, NEET और JEE एग्जाम, तारीखें भी तय

सीबीएसई ने जारी किए NEET के परिणाम, स्टूडेंट यहां देखें रिजल्ट


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.