शादी के 20 दिन पहले शहीद हुए मेजर चित्रेश शाॅपिंग पूरी करके लाैटे थे ड्यूटी पर

2019-02-17T04:06:00+05:30

जम्मूकश्मीर के राजौरी जिले में एलओसी पर विस्फोटक को निष्क्रिय करते हुए मेजर चित्रेश शहीद हो गए। 7 मार्च को मेजर की शादी होने वाली थी।

dehradun@inext.co.in
DEHRADUN: 7 मार्च 2019...अपने दोस्त और रिश्तेदारों को कुछ दिन से यही डेट सेव करने का मैसेज भेज रहा था पुलिस के रिटायर्ड इंस्पेक्टर एसएस बिष्ट का सेना में मेजर बेटा चित्रेश बिष्ट। शादी की डेट तय हो गई थी। घर में खुशियों का माहौल था। लेकिन एक ही पल में खुशियां बिखरी गईं। शनिवार को चित्रेश एलओसी पर विस्फोटक को निष्क्रिय करते शहीद हो गया। चित्रेश सेंट जोजेफ स्कूल में पढ़ा और वर्ष 2010 में आईएमए से पास आउट होकर ऑफिसर बना था।
7 मार्च को थी शादी
मेजर चित्रेश का परिवार ओल्ड नेहरू कॉलोनी में रहता है। मूल रूप से रानीखेत के रहने वाले पिता एसएस बिष्ट पुलिस के रिटायर्ड इंस्पेक्टर व मां रेखा हाउसवाइफ और बड़ा भाई नीरज इंग्लैंड में आईटी इंजीनयर है। आर्मी इंजीनियरिंग कोर में तैनात मेजर चित्रेश की दून में ही रहने वाले महाराष्ट्र मूल की आईटी इंजीनियर लड़की से शादी तय हो चुकी थी। 7 मार्च को दोनों की शादी होनी थी। चित्रेश की शहादत से दून सहित देश भर में शोक की लहर दौड़ गई। उसके घर आईजी गढ़वाल अजय रौतेला, एसपी ट्रैफिक प्रकाश चंद आर्य विधायक विनोद चमोली ,उमेश काऊ समेत बड़ी संख्या में लोग पहुंचे।
शॉपिंग कर ड्यूटी पर गया था चित्रेश
शहीद चित्रेश कुछ दिन पहले शादी की शॉपिंग के लिए दून आया था। 3 फरवरी तक शॉपिंग कर ड्यूटी पर गया था और फरवरी के अंत में उसे वापस आना था। फ्राइडे नाइट में ही मां से उसकी फोन पर बात हुई थी।

कर चले तुम फिदा...आंखें जरूर डबडबाईं लेकिन शहादत पर दिखा गर्व व पाक को सबक सिखाने का आक्रोश

वो एक मारेंगे हम 10 तैयार हैं, Terror Attack से नहीं टूटता सेना में जाने का जज्बा


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.