मायावती धूमधाम से मनाएंगी 63वां बर्थडे आज कर सकती हैं ये बड़ा ऐलान

2019-01-15T10:32:31+05:30

बसपा सुप्रीमो मायावती मंगलवार को अपना 63वां जन्मदिन पार्टी मुख्यालय में मनाएंगी

- सूबे में सपा-बसपा गठबंधन के बाद बढ़ी सियासी सरगर्मियां

- शिवपाल सिंह यादव भी प्रत्याशियों की घोषणा की तैयारी में

- अखिलेश से मिले आरजेडी के तेजस्वी यादव, भाजपा को कोसा

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : बसपा सुप्रीमो मायावती मंगलवार को अपना 63वां जन्मदिन पार्टी मुख्यालय में मनाएंगी. इस अवसर पर वह बसपा की ब्लू बुक 'मेरे संघर्षमय जीवन एवं बीएसपी मूवमेंट' का सफरनामा के चौदहवें भाग का विमोचन भी करेंगी. लोकसभा चुनाव नजदीक होने से इस बार मायावती के जन्मदिन के खास मायने हैं लिहाजा यह संभावना जताई जा रही है इस अवसर पर वह बसपा की चुनावी रणनीति का खुलासा कर सकती हैं. हर साल की तरह अपने कार्यकर्ताओं को संदेश देने के साथ वह सपा-बसपा गठबंधन में तय की गयी सीटों के बारे में जानकारियां देने के साथ कुछ सीटों पर अपने प्रत्याशियों के नामों का ऐलान भी कर सकती हैं.

फेक लिस्ट ने किया हलकान
इससे पहले सोमवार को बसपा प्रत्याशियों की एक फेक सूची सोशल मीडिया पर वायरल हुई जिसे लेकर बसपा नेता हलकान दिखे. इस सूची में तमाम बाहुबलियों और उनकी सीटों का जिक्र था. साथ ही मायावती को सहारनपुर से चुनाव लड़ने की बात कही गयी है. बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने इसका पुरजोर खंडन करते हुए इसे विरोधी दलों की साजिश करार दिया है. दरअसल सपा-बसपा गठबंधन में दोनों दलों के बीच 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ने की सहमति बनी है. मायावती ने जल्द ही सीट और प्रत्याशी के नामों का ऐलान करने की घोषणा भी की है. इसी वजह से दोनों दलों से किस सीट पर कौन चुनाव लड़ेगा, इसे लेकर कौतूहल बढ़ता जा रहा है. अब सबकी नजरें मंगलवार को मायावती के जन्मदिन के अवसर पर टिकी है जिसमें वह चुनाव को लेकर कुछ अहम घोषणाएं कर सकती हैं.

पश्चिम में बसपा का दबदबा
सूत्रों की मानें तो सपा और बसपा के बीच सीटों के बंटवारे में दोनों दलों के प्रभाव वाली सीटों का ध्यान रखते हुए फैसले लिए गये हैं. खासतौर पर पश्चिमी यूपी और सुरक्षित कोटे की सीटों पर बसपा चुनाव लड़ेगी तो अवध और पूर्वाचल में सपा अपने प्रत्याशियों को टिकट देकर ताकत आजमाएगी. पश्चिमी यूपी में कानपुर से लेकर आगरा तक सपा का गढ़ होने की वजह से टिकट बंटवारे में मुश्किल नहीं है पर इन जगहों पर शिवपाल के प्रभाव को भी बसपा के नेता नहीं नकार पा रहे है. लिहाजा इन सीटों पर जीत हासिल करने के लिए दोनों पार्टियां अपनी पूरी ताकत झोंकने की तैयारी में है.

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.