MillennialsSpeak बरेली में #RaajniTEA इस बार नाम नहीं काम देखकर यूथ देगा वोट

2019-03-14T09:03:51+05:30

-आज की डिबेट: स्प्रिंगडेल महिला महाविद्यालय दोहना। समय: सुबह 11 बजे।

BAREILLY: शहर में लोकसभा चुनाव 23 अप्रैल को है, लेकिन यूथ ने अभी से अपना माइंड सेट कर लिया है कि वह किसको वोट करेंगे। उनका कहना हैं कि सभी पार्टियों का काम देख लिया है। जो सरकार भ्रष्टाचार पर वार करेगा, हम उसी को वोट करेंगे। जब तक करप्शन पर सख्ती नहीं की जाएगी तब तक देश का विकास नहीं होने वाला है। युवा अब पहले से ज्यादा समझदार हो गए हैं। अब वह किसी भी सरकार के बहकावे में नहीं आएंगे। ऐसे ही मुद्दों पर वेडनेसडे को दैनिक जागरण आईनेक्स्ट और रेडियो सिटी के राजनी-टी में जेपीएम महाविद्यालय के स्टूडेंट्स ने अपनी राय रखी। इस दौरान स्टूडेंट्स ने करप्शन के साथ ही वीमेन सिक्योरिटी, बेजरोजगारी, एजुकेशन और किसानों की दशा पर भी खुलकर बात की।

भ्रष्टाचार रोकने को बने टीम
डिबेट में केशव गंगवार ने कहा कि पूरे देश में भ्रष्टाचार इतना है कि बिना पैसे कुछ काम नहीं होता है। सरकारी ऑफिस में जब तक अधिकारियों को रिश्वत न दो, तब तक वह सुनते ही नहीं है। चुनाव से पहले करप्शन हटाने का वादा किया जाता है, लेकिन जीतने के बाद सब भूल जाते हैं। इसी बीच केशव ने कहा कि सरकार को भ्रष्टाचार रोकने के लिए एक टीम बनानी चाहिए। जो भ्रष्टाचार करने वालों पर नजर रखे। साथ ही उनको मंथली टारगेट देना चाहिए। जब टारगेट मिलेगा तो सब जिम्मेदारी से काम करेंगे।

सुरक्षा के लिए रहे आगे
हिना फिरदोस ने कहा कि हर सरकार महिला सुरक्षा को लेकर बड़ी-बड़ी बातें करती हैं। चुनाव से पहले महिला सुरक्षा को एक मुद्दा बना लिया जाता है। लेकिन सुरक्षा के लिए कुछ काम नहीं किया जाता है। महिला सुरक्षित तभी होंगी, जब सरकार के साथ शहर की जनता भी इसके लिए प्रयास करेगी। सवीला खान ने कहा कि यूथ के लिए रोजगार सबसे ज्यादा जरूरी है। वैकेंसी तो बहुत आती हैं, लेकिन उन पर भर्ती नहीं हो पाती है। पेपर लीक, गलत मार्किंग आदि की वजह से एग्जाम कैंसिल कर दिया जाता है। इसके लिए कोई सिस्टम नहीं है, इसलिए हम ऐसी सरकार सुनेंगे जो एग्जाम को ठीक तरह से कराए जिससे यूथ को जॉब मिले।

किसानों को भी दे फायदा
राहुल कुमार ने कहा कि सरकार विकास के बारे में बात करती है। हर नेता चुनाव में खड़े होने से पहले यही बोलता है कि वो देश का विकास चाहता है, लेकिन किसने कितना विकास किया वो उसके पांच साल के कार्यकाल में पता चल जाता है। इस बार वो उसी को वोट करेंगे जिसकी वात पर भरोसा किया जा सके.नवनीत ने कहा कि बातों से किसी को पहचान पाना बेहद मुश्किल है। इसके लिए देखना होगा कि पिछले चुनावों में किसने क्या कहा और चुनाव के बाद सत्ता में आने पर क्या किया। इस बार वो किसी भी पॉलिटीशियन की बातों में नहीं आने वाले। जो काम करेगा, किसानों का फायदा करेगा, शिक्षा के क्षेत्र में भी भरपूर योगदान देगा बस उसी को वोट दिया जाएगा। शरीफ खां ने कहा कि हमारे देश में जनसंख्या बड़ी समस्या है। इस पर कंट्रोल होना चाहिए। इसीलिए बेरोजगारी बढ़ रही है। हमारी सरकार को चाहिए कि जनसंख्या पर नियंत्रण करे। सरकार को कोई नया प्रावधान बनाना चाहिए। जैसे दूसरे देशों में चल रहा है। तभी हमारे देश का विकास हो सकेगा और जॉब के चांस भी बनेंगे।

कड़क मुद्दा
अब देश के युवा को वो सरकार नहीं चाहिए, जो केवल चुनाव के समय सिर्फ बड़ी-बड़ी बातें करके वोट ले लिया करती थी। आज का युवा शिक्षित और समझदार है। उसे वो सरकार चाहिए, जो सिर्फ बातें नहीं बल्कि काम करके देश का विकास करे। जिससे हमारे देश का यूथ को किसी दूसरे देश का सहारा न लेना पड़े। जो सरकार यूथ के लिए काम नहीं करेगी उसे यूथ का वोट नहीं मिलेगा।

------------------

मेरी बात
पहले लोग एक-दूसरे के कहने पर वोट कर दिया करते थे। पब्लिक को झूठे वादे करके झांसे में ले लिया जाता था, लेकिन अब समय बदल गया है। आज का यूथ एजुकेटेड है, वह इस तरह के झूठे वादों में आने वाले नहीं है। वो पिछले कामों को देखकर ही वोट करेगा।

सबीला खान

----------------

सरकारी स्कूल में जो भी टीचर पढ़ाने वाले हैं, उनके लिए सख्त नियम बनाए जाए। जब वह भी अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में पढ़ाएंगे तभी बेसिक की शिक्षा में सुधार होगा।

नवनीत कुमार

 

-सरकार जब वैकेंसी निकालती है तो उसे पूरा भी करे। ऐसा नहीं है कि वैकेंसी निकलने के बाद अभ्यर्थियों को कोर्ट कचहरी की शरण में जाना पड़े। सरकार को उन अधिकारियों के खिलाफ कड़ा एक्शन लेना चाहिए, जो ऐसे प्रकरण में लिप्त होते है।

पूजा गंगवार

-----------------

-हमारे देश में बेरोजगारों की संख्या ज्यादा है। एक वैकेंसी के लिए हजारों लोग एग्जाम देने पहुंच जाते हैं। वहीं इस पर घूस भी ली जाती है। सरकार को भर्ती में घूस को रोक लगानी चाहिए और सही तरीके से परीक्षा कराकर सलेक्शन करना चाहिए।

शहनाज,

-------------------

-सरकार को बेसिक शिक्षा में सुधार करना चाहिए। क्योंकि जब तक बेसिक शिक्षा नहीं सुधरेगी तब तक शिक्षा में क्वालिटी नहीं आ सकती है। कम आमदनी वाला व्यक्ति अपने बच्चों को निजी स्कूल्स में नहीं पढ़ा सकता है।

निशा

-------------

-करप्शन की शुरूआत कहीं न कहीं हम लोगों से ही होती है। इसीलिए करप्शन को रोकने के लिए हम लोगों को ही पहल करनी होगी तभी करप्शन रुकेगा। वरना सरकार कितना भी कोशिश करे, कुछ नहीं हो सकता।

धवल देव

---------------

- इस समय में ऐसी कोई भी वैकेंसी नहीं निकलती हैं, जहां बिना भ्रष्टाचार के सलेक्शन हो। ऐसे में जो व्यक्ति खुद करप्शन करके सरकारी पद पर आएगा, वह भी करप्शन करेगा। इसलिए सबसे पहले हम लोगों को अपने दम पर नौकरी लेनी चाहिए।

खदीजा

 

इस बार उस नेता को किसी हाल में वोट नहीं देना है, जो जनता को लालच देकर वोट खरीदता है। सबसे पहले ईमानदार नेता को चुनाव करेंगे, उसके बाद उसे वोट देंगे।

नूरे सवा

 

- इलेक्शन में जो भी प्रत्याशी खड़ा होगा, वो हमारे और आपके बीच का ही होगा। इसके लिए पहले हमें अपने अंदर की कमियां दूर करने की जरूरत है। सभी लोगों को खुद सुधरना होगा।

पुष्पा गंगवार

------------

- चुनाव के समय में नेता आपके घर, मोहल्लों में हजारों चक्कर काट जाते हकं, लेकिन चुनाव खत्म होते ही गलियों को भूल जाते है। उन्हें यह भी याद नहीं रहता कि वो कौन सी गली में गए थे।

ज्योति

-----------------

-आज के युवाओं को सबसे ज्यादा जरूरत है रोजगार की। जो सरकार अपने कार्यकाल में युवाओं को रोजगार भी न दिला पाए, वो सरकार किसी काम की नहीं

राहुल कुमार

---------------------

-सरकार की योजनाओं को गांव के लोगों को पता ही नहीं चल पाता है। सरकार को समय-समय पर ग्रामीणों को अपनी योजनाओं के बारे में अवेयर कराते रहना चाहिए।

हिना फिरदोस

----------

-नेता सिर्फ अपना भला चाहते है, लेकिन इस बार हम लोग ऐसा नहीं होने देंगे। हमारा कीमती वोट सिर्फ उसी के लिए जो हमारे लिए काम करे।

शिवम

inextlive from Bareilly News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.