Mission Admission 2012

2012-06-13T05:43:00+05:30

New sessions for UG and PG courses are about to begin To help students in getting the most suitable option i next has started this exclusive drive Have a look to get the right thing for you

प्रोफेशनल कोर्सेज नहीं करियर का माइल स्टोन कहिए जनाब
ट्रेडिशनल कोर्सेज के बाद आज मिशन एडमिशन में हम आपके लिए लेकर आए हैं, प्रोफेशनल कोर्सेज के बारे में ढेर सारी जानकारियां। हसरतें अगर बीए, बीएससी और बीकॉम करके ग्रेजुएशन डिग्री लेने से कहीं ज्यादा हैं तो ये प्रोफेशनल कोर्सेज आपके करियर के लिए माइल स्टोन साबित हो सकते हैं। तो फिर देर किस बात की? जानिए शहर में प्रोफेशनल कोर्सेज के लिए आपके पास कितने, कैसे और किस क्वालिटी के एवेन्यूज हैं, जानि
और भी हैं राहें
इंटर के बाद क्या? सिम्पल ग्रेजुएशन या फिर कोई प्रोफेशनल कोर्स। इन दोनों में ऑप्शन तय कर भी लिया तो अगला सवाल यह कि कॉलेज या संस्थान कौन सा बेहतर रहेगा? सिम्पल ग्रेजुएशन करने के लिए तो तमाम कॉलेज मौजूद हैं। लेकिन बात जब प्रोफेशनल कोर्सेज में एडमिशन की हो। तब बहुत सोच-समझकर डिसीजन लेने की जरूरत होती है। अपने शहर में कई इंस्टीट्यूट्स ऐसे हैं, जिनमें इंटर के बाद एडमिशन लिया जा सकता है। बीफॉर्मा, बीबीए, रिटेल मैनेजमेंट, हार्डवेयर नेटवर्किंग, फैशन डिजाइनिंग जैसे कोर्स करियर को नए डायमेंशन्स की तरफ ले जा रहे हैं।
25 परसेंट तक इजाफा
युवाओं के बीच प्रोफेशनल कोर्सेज की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पिछले कुछ सालों में इसमें एडमिशन लेने वालों की संख्या तेजी से बढ़ी है। सिटी में प्रोफेशनल कोर्सेज कराने वाले कॉलेज, इंस्टीट्यूट्स और कोचिंग सेंटर्स के डायरेक्टर्स ने ख्रुद इस बात की तस्दीक की। उनके अनुसार हर साल प्रोफेशनल कोर्सेज में एडमिशन के लिए औसतन 20-25 परसेंट तक ज्यादा एप्लीकेशन्स सब्मिट हो रही हैं।
नहीं करना इंतजार
आज की जेनरेशन काफी फास्ट है। सरकारी नौकरी के चक्कर में वो लंबे समय तक इंतजार करने की पक्षधर नहीं है। उसे स्पॉनटेनिअस रिजल्ट्स चाहिए। आज जब ग्लोबलाइजेशन के दौर में सारी दुनिया कम्प्यूटर माउस की एक क्लिक में सिमट आई है। घर बैठे आज ही देश-विदेश में चालू कोर्सेज की ढेरों जानकारियां इकट्ठा की जा सकती हैं। ऐसे में क्या राइट ऑप्शन है और कौन सा कोर्स करियर को बुलंदियों तक पहुंचा सकता है। इसके लिए जेनरेशन-वाई हमेशा ही एक्टिव मोड में रहती है।
सरकारी-प्राइवेट दोनों में
प्रोफेशनल कोर्सेज को लेकर एक धारणा यह बनी हुई है कि इन्हें करने के बाद स्टूडेंट्स को सिर्फ प्राइवेट सेक्टर्स में ही जॉब मिलती है। जबकि हकीकत का दूसरा पहलू काफी सुखद है। वो यह कि इन कोर्सेज की डिमांड गवर्नमेंट और सेमी-गवर्नमेंट सेक्टर्स में भी तेजी से बढ़ रही है। डिफेंस, पॉवर, हेल्थ, पेट्रोलियम जैसे सेक्टर्स में भी इन कोर्सेज को करने वाले स्टूडेंट्स की जबर्दस्त डिमांड है। अच्छी बात यह कि छठे वेतनमान की वजह से गवर्र्नमेंट सेक्टर्स में रिक्रूटमेंट के बाद कैंडीडेट्स को बेहतर सेलरी पैकेज ऑफर किया जाता है। दूसरी ओर प्राइवेट सेक्टर में तो सैलरी स्ट्रक्चर का जिक्र करने की जरूरत ही नहीं है। जितना ज्यादा एक्सपीरियंस और स्किल्स। उतना ही बेहतर पे-पक्र्स और एलाउंसेज।
विदेशों में भी हैं अवसर
फॉरेन कंट्रीज घूमना आसान नहीं। मंहगाई के दौर में तो इंसान को सौ बार सोचना पड़ता है। लेकिन अगर आपको नौकरी ही विदेश में मिल जाए तो आपकी यह हसरत आपकी कम्पनी जरूर पूरी कर सकती है। आप सोच रहे होंगे भला कैसे? दरअसल, प्रोफेशनल्स की डिमांड सिर्फ अपने देश तक ही सीमित नहीं है। विदेशों में भी प्रोफेशनल्स खासकर इंडिया के स्किल्ड ब्रेन की जबर्दस्त डिमांड है। ऐसे कोर्स करके ना सिर्फ स्टूडेंट्स को विदेश में नौकरी करने का सुनहरा अवसर मिल सकता है।

 

Courses at CSJMU
यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ पैरामेडिकल साइंसेज
कोर्स         - सीट्स   - काउंसलिंग डेट   -  फीस (एनुअल)
बैचलर ऑफ फिजियोथिरैपी   60         15 जून से       56105 रुपए
बीएससी मेडिकल लैबोरेटरी  60         15 जून से       56105
टेक्नोलॉजी एमएलटी
बीएससी मेडिकल माइक्रो      40         15 जून से     56105
बायोलॉजी
बीएससी ह्यूमन न्यूट्रीशन     40         15 जून से      56105
बीएससी हेल्थ इन्फारमेशन    40         15 जून से     56105
एडमिनिस्ट्रेशन

बैचलर ऑफ फिजियोथिरैपी :
देश और विदेश में बेहतर नौकरी की संभावनाएं। हॉस्पिटल्स और नर्सिंग होम्स, रिहेबीलिटेशन सेंटर्स, स्पोटर्स सेंटर में नौकरी की संभावनाएं
बीएससी मेडिकल लैबोरेटरी टेक्नोलॉजी एमएलटी : हॉस्पिटल्स और नर्सिंग होम्स में पैथोलॉजी लेबोरेटरीज, रिसर्च इंस्टीट्यूशन में, फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्रीज में नौकरी कर सकते है। इसके अलावा पढ़ाई पूरी करने के बाद स्टूडेंट्स अपना पैथोलॉजी सेंटर भी खोल सकते है।
बीएससी मेडिकल माइक्रोबायोलॉजी : हॉस्पिटल्स, नर्सिंग होम्स, पैथोलॉजी, रिसर्च सेक्टर और फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्री में बेहतर नौकरी की संभावनाएं है। इसके अलावा मेडिकल माइक्रोबायोलॉजी में एमएससी और पीएचडी करने के बाद मेडिकल कॉलेज में टीचिंग प्रोफेशन में जा सकते है।
बीएससी ह्यूमन न्यूट्रीशन : पढ़ाई पूरी करने के बाद किसी भी हॉस्पिटल, नर्सिंग होम में डाइटिशियन या न्यूट्रीशियन की अच्छी जॉब कर सकते है। इसके अलावा अपना क्लीनिक भी खोल सकते है।
बीएससी हेल्थ इन्फारमेशन एडमिनिस्ट्रेशन : देश-विदेश के किसी भी हॉस्पिटल्स, नर्सिंग होम्स में मेडिकल रिकार्ड ऑफिसर, हेल्थ इन्फारमेशन एडमिनिस्ट्रेटर, हेल्थ इन्फारमेशन ऑडीटर्स, हेल्थ इंश्योरेंस मैनेजर, क्वालिटी एनालिस्ट के पद पर काम कर सकते है।
स्टूडेंट्स के लिए है बेहतर मौका
यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ पैरामेडिकल साइंसेज में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेस फार्म नहीं भर पाए थे। उनके लिए एक सुनहरा मौका है। डिपार्टमेंट के एचओडी डॉ। प्रवीन कटियार ने बताया कि इस सेशन में एंट्रेस एग्जामिनेशन नहीं हो पाए है। ऐसे में यूनिवर्सिटी की तरफ से 15 जून को काउंसलिंग और एडमिशन की डेट तय की गई है। जिन स्टूडेंट्स ने एंट्रेस फार्म भरा था। इस डेट को अपने डॉक्यूमेंट्स के साथ काउंसलिंग और एडमिशन ले सकते है। फस्र्ट काउंसलिंग के बाद डिपार्टमेंट अन्य स्टूडेंट्स से आवेदन मांगेगा। जिसके लिए 28 जून आवेदन प्राप्त करने की आखिरी तारीख तय की गई है। जिसमें स्टूडेंट्स अपनी सभी डिटेल्स लिखकर सीधे डिपार्टमेंट के एड्रेस पर अपना आवेदन भेज सकते है। स्टूडेंट्स अपनी एकेडमिक डिटेल्स के साथ ही पर्सनल डिटेल्स और कांटेक्ट नंबर जरूर लिखे। उन्होंने बताया कि 30 जून को डिपार्टमेंट में मेरिट लिस्ट लगा दी जाएगी। जिसके आधार पर अन्य रिक्त सीटों के लिए स्टूडेंट्स को फोन पर सूचना देकर काउंसलिंग के लिए बुलाया जाएगा। इन स्टूडेंट्स की काउंसलिंग और एडमिशन का प्रोसेस 2 और 3 जुलाई को पूरा कर लिया जाएगा और 15 जुलाई से न्यू सेशन भी स्टार्ट हो जाएगा।
---------------------------
यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ बायो साइंस एंड बायो टेक्नोलॉजी
कोर्स                  सीट्स    काउंसलिंग डेट फीस (एनुअली)
बीएससी बायो टेक्नोलॉजी    120        15 जून से       28,000
एमएससी बायो टेक्नोलॉजी   120        15 जून  से      54,000
एमएससी माइक्रोबायोलॉजी   120        15 जून से      54,000
एमएससी बायोकेमेस्ट्री         60         15 जून से     43,000
एमएससी न्यूट्रीशन साइंस     80         15 जून से      43,000
एमएससी फूड टेक्नोलॉजी     80         15 जून से     43,000
एमएससी इन्वायरमेंटल साइंस  60        15 जून से      43,000
---
एमएसडब्लू
कोर्स     - सीट
 मास्टर इन सोशल वक्र्स एमएसडब्ल्यू    60
 फीस- 38585 रुपए
सेकेंड ईयर के लिए ब्रांचेज
- इंडस्ट्रीयल रिलेशन एंड पर्सनल मैनेजमेंट
- मेडिकल एंड साइकेट्रिस्ट सोशल वर्क
- फैमिली एंड चाइल्ड वेलफेयर
- रूरल एंड अर्बन कम्युनिटी डेवलपमेंट
---
नोट : एमएसडब्ल्यू कोर्स के फाइनल ईयर का मतलब दूसरे एकेडमिक ईयर में स्टूडेंट्स अपनी रूचि के अनुसार इन चार ब्रांचेज में से किसी एक को चूज कर सकते है.
---
कोर्स                सीट             फीस
एमफिल सोशियोलॉजी 25  50,000
एमईआरडी (मास्टर ऑफ एक्सटेंशन एंड रूरल डेवलपमेंट) 60  12,000
पीजी डिप्लोमा इन एडल्ट एजुकेशन     25      1800
 
---
नोट : सीएसजेएमयू में इन सभी कोर्सेज के लिए कट-ऑफ लिस्ट 15 जून के बाद डिपार्टमेंट की ओर से घोषित की जाएगी.


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.