इस विषय से इंटरमीडिएट करने वाले स्टूडेंट को मिलेगी 500 रुपये की मंथली स्कॉलरशिप

2018-08-08T12:18:21+05:30

कताईबुनाई विषय के प्रति छात्रों को प्रोत्साहित करने के लिये अब प्रदेश सरकार इस विषय से इंटरमीडिएट करने वाले छात्रछात्राओं को मंथली स्कॉलरशिप देगी।

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : कताई-बुनाई विषय के प्रति छात्रों को प्रोत्साहित करने के लिये अब प्रदेश सरकार इस विषय से इंटरमीडिएट करने वाले छात्र-छात्राओं को मंथली स्कॉलरशिप देगी। प्रदेश में वस्त्र उद्योग को बढ़ावा देने के लिये यूपी हैंडलूम, पावरलूम, टेक्सटाइल व गारमेंटिंग पॉलिसी-2017 के तहत सरकार ने इन छात्र-छात्राओं को 500 रुपये मंथली स्कॉलरशिप देने का फैसला किया है।
पास होने के बाद मिलेगी स्कॉलरशिप
हथकरघा एवं वस्त्रोद्योग मंत्री सत्यदेव पचौरी ने मंगलवार को बताया कि व्यावसायिक विषयों के ऐसे संस्थागत छात्र-छात्राएं जो कताई-बुनाई विषय से इंटरमीडिएट (कक्षा 11 व 12) की शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं, उन्हें प्रोत्साहन के तौर पर प्रतिमाह 500 रुपये स्कॉलरशिप दी जाएगी। यह स्कॉलरशिप कताई-बुनाई विषय से कक्षा 11 उत्तीर्ण करने के बाद दी जाएगी। इसी तरह कक्षा 12 के छात्र-छात्राओं को 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद यह लाभ मिलेगा।
विद्यालय में ही होगा आवेदन
स्कॉलरशिप की धनराशि प्रतिवर्ष जुलाई से लेकर अप्रैल तक 10 महीने के लिए मासिक दर के आधार पर कुल 5000 रुपये दी जाएगी। स्कॉलरशिप सरकार से मान्यताप्राप्त विद्यालयों में पढऩे वाले छात्र-छात्राओं को ही मिलेगी। अगर कताई-बुनाई विषय के छात्र-छात्रा को किसी और स्कॉलरशिप योजना का लाभ मिल रहा है तो उन्हें इसका भी लाभ दिया जाएगा।स्कॉलरशिप पाने के लिए विद्यार्थियों को विद्यालय के प्रधानाचार्य को आवेदन देना होगा।
खाते में सीधे भेजी जाएगी
आवेदन का परीक्षण करने के बाद प्रधानाचार्य उन्हें सहायक आयुक्त हथकरघा कार्यालय को भेजेंगे। परिक्षेत्रीय कार्यालय में प्राप्त आवेदनों का जिलावार विवरण तैयार किया जाएगा। पात्रता का परीक्षण दो सदस्यीय कमेटी करेगी और लाभार्थियों की सूची हथकरघा एवं वस्त्रोद्योग मुख्यालय को भेजी जाएगी। स्कॉलरशिप की धनराशि विद्यार्थियों के खाते में सीधे भेजी जाएगी। पचौरी ने बताया कि विद्यार्थियों को स्कॉलरशिप पाने के लिए अगस्त के पहले हफ्ते तक आवेदन प्रस्तुत करना होगा।
सीधे बैंक अकाउंट में होगी जमा
विद्यालय के प्रधानाचार्य की यह जिम्मेदारी होगी कि वह जांच में सही पाये गए आवेदनों को सितंबर तक परिक्षेत्रीय सहायक आयुक्त कार्यालय भेज दे। अक्टूबर में परिक्षेत्रीय समिति और नवंबर में राज्य स्तरीय समिति की बैठक होगी। इसके बाद सभी औपचारिकताएं पूरी करते हुए लाभार्थियों के बैंक अकाउंट में सीधे स्कॉलरशिप की रकम भेज दी जाएगी।

ईसी की बैठक में फैसला, 75 स्टूडेंट की खुद छात्रवृत्ति देगा आरयू

17 साल की स्‍टूडेंट को 113 कॉलेजों से मिला एडमीशन लेटर और मिली 30 करोड़ रुपए की स्‍कॉलरशिप!

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.