ऑफ छोड़ ऑनलाइन बन रहा च्वाइस

2019-05-11T06:00:18+05:30

25 हजार छात्रों ने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी का इंट्रेंस आनलाइन देने का आप्शन चुना

दो साल पहले सिर्फ आनलाइन एग्जाम को लेकर हुआ था बवाल

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: दो साल पहले सिर्फ आनलाइन इंट्रेस पर गदर इतिहास बनने की ओर है। आन और ऑफलाइन दोनो मोड में इंट्रेंश में एपीयर होने का आप्शन होने पर छात्र खुद अब आनलाइन की तरफ मूव करने लगे हैं। इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के इंट्रेंस एग्जाम में इस साल एपीयर होने जा रही छात्रों की पसंद तो ऐसा ही संकेत देती है। इस साल करीब 25 हजार छात्रों ने आनलाइन एग्जाम में एपीयर होने की मंशा जतायी है।

ऑनलाइन सेंटर्स की संख्या बढ़ी

डायरेक्टर एडमिशन प्रो। मनमोहन कृष्ण कहते हैं कि पूर्व के वर्षो में ऑनलाइन एग्जाम देने वालों की संख्या 10000 के आसपास ही रहा करती थी। इस बार ऑनलाइन एग्जाम सेंटर्स की संख्या 25 कर दी गई है। बीए में 3952, बीएससी में 5407, बीकॉम में 1165 तथा बीएएलएलबी में 801 छात्र-छात्राओं ने इस विकल्प को चुना है।

क्लासवाइज डाटा

--------------

क्रेट

ऑफलाइन- 6756

पीजीएटी वन

ऑफलाइन- 11,316

ऑनलाइन- 2446

एलएलबी

ऑफलाइन- 8399

ऑनलाइन- 1549

एमकॉम/एलएलएम

ऑफलाइन- 3119

ऑनलाइन- 659

बीएससी

ऑफलाइन- 21,119

ऑनलाइन- 5402

बीकॉम/बीएससी होम साइंस

ऑफलाइन- 9154

ऑनलाइन- 1165

बीए

ऑफलाइन- 26,921

ऑनलाइन- 3952

बीएएलएलबी आनर्स

ऑफलाइन- 4554

ऑनलाइन- 801

इस साल जैसा ही रिस्पांस रहा तो नेक्स्ट सेशन से सेंट्रल यूनिवर्सिटी में केवल ऑनलाइन एग्जाम कराया जाएगा। ऑनलाइन एग्जाम के आप्शन के चलते बंगलुरु, तिरुवनंतपुरम और कोलकाता में भी छात्र मिल जाते हैं।

प्रो। मनमोहन कृष्ण,

डायरेक्टर एडमिशन, इलाहाबाद यूनिवर्सिटी

inextlive from Allahabad News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.