अनंत में विलीन हुए भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी बेटी ने दी मुखाग्नि

2018-08-17T05:40:12+05:30

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अनंत में विलीन हो गए हैं। राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार हुआ। इस दौरान बड़ी संख्या में जनसमूह शामिल रहे।

नई दिल्ली (पीटीआई)। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अनंत में विलीन हो गए। राजकीय सम्मान और सभी रीति-रिवाजों के साथ स्मृति स्थल में उनका अंतिम संस्कार किया गया। उनकी दत्तक पुत्री नमिता ने मंत्रोचार के बीच मुखाग्नि दी। बता दें कि बीजेपी मुख्यालय से उनके पार्थिव शरीर को स्‍मृति स्‍थल ले जाया गया था। अंतिम विदाई के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और कई केंद्रीय मंत्री समेत हजारों लोग मौजूद रहे। पीएम मोदी और शाह अंतिम यात्रा में ट्रक के साथ पैदल चल रहे थे। हालांकि अंतिम यात्रा के दौरान गाड़ी के पीछे पैदल चलने वालों में कई राज्यों के मुख्यमंत्री जैसे विजय रुपानी, शिवराज चौहान, योगी आदित्यनाथ और देवेंद्र फडणवीस समेत कई अन्य लोग भी शामिल थे। वाजपेयी का पार्थिव शरीर सबसे पहले बीजेपी मुख्यालय के लिए शुक्रवार को सुबह 10 बजे निकला था। अटल जी का 93 वर्ष की उम्र में गुरुवार को लंबी बीमारी के बाद करीब शाम पांच बजे ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (एम्स) में निधन हो गया।

1 बजे क बाद शुरू हुई थी अंतिम यात्रा
अटल जी का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम संस्कार के लिए वाजपेयी को बीजेपी मुख्यालय से दोपहर 1 बजे के बाद ले जाया गया और शाम 4 बजे से राष्ट्रीय स्मृति स्थल में उनका अंतिम संस्कार शुरू हुआ। बता दें कि शुक्रवार की सुबह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल, सेना प्रमुख बिपीन रावत, नौसेना के प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत वाजपेयी के आधिकारिक आवास पर पहुंचे और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

सुबह से बंद थे कई रास्ते

अंतिम संस्कार की जुलूस को ध्यान में रखते हुए दिल्ली में कई सड़कों को आम जनता के लिए बंद कर दिया गया। कुछ सड़कों जैसे कृष्णा मेनन मार्ग, सुनेरी बाग रोड, तुगलक रोड, अकबर रोड, टीज जनवरी मार्ग, मान सिंह रोड, भगवान दास रोड, शाहजहां रोड और सिकंदरा रोड को सुबह 8 बजे से ही बंद कर दिया गया था। इसके अलावा यातायात पुलिस का कहना है कि डीडीयू मार्ग, आईपी मार्ग, बीएसजेड मार्ग (तिलक ब्रिज से दिल्ली गेट तक), जेएलएन मार्ग (राजघाट से दिल्ली गेट तक) को भी बंद कर दिया जाएगा।


जब खाने के शौकीन अटलजी को रसगुल्‍लों से दूर रखने के लिए माधुरी दीक्षित से मिलवाया गया
कानपुर में एक ही क्‍लास में पढ़ा करते थे अटल बिहारी वाजपेयी व उनके पिता


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.