जेल के भीतर क्वेश्चन ऑवर

2015-07-20T07:01:07+05:30

-फीरोजाबाद के सिरसागंज थाने में अमनमणि के खिलाफ हत्या की एफआईआर दर्ज होने के बाद लखनऊ जेल पहुंची सारा की मां

-अमनमणि से मांगे सवालों के जवाब, दो घंटे तक रहीं जेल कैंपस में

LUCKNOW: देश की संसद में होने वाले क्वेश्चन ऑवर यानी प्रश्नकाल को तो आपने देखा या सुना जरूर होगा। पर, संडे को लखनऊ डिस्ट्रिक्ट जेल में यह क्वेश्चन ऑवर चला। वहां सवाल पूछने वाली एक बेबस मां थी जो अपनी बेटी की मौत का सच जानने के लिये जंग लड़ रही है। वहीं, जवाब देने की बारी थी उस दामाद की, जिसे उस मां ने अपनी नाजों से पाली बेटी सौंपी थी। हम बात कर रहे हैं सारा सिंह की मां सीमा सिंह की जो अपने दामाद अमनमणि त्रिपाठी से सवाल पर सवाल दाग रही थीं। पर, दो घंटे तक चली इस जद्दोजहद के बावजूद सीमा सिंह को अपने सवालों के जवाब नहीं मिल सके। आखिरकार वह मायूस होकर वापस लौट गई।

सफाई देता रहा अमनमणि

फीरोजाबाद में बीती 9 जुलाई को हुए रहस्यमय सड़क हादसे में मारी गई सारा सिंह के पति अमनमणि त्रिपाठी से मिलने संडे पूर्वान्ह खुद उसकी मां सीमा सिंह लखनऊ डिस्ट्रिक्ट जेल पहुंचीं। बेटे सिद्धार्थ सिंह के साथ पहुंची सीमा अकेले ही अमनमणि से मिलने जेल के भीतर पहुंची। कुछ देर की औपचारिक्ताओं के बाद उन्हें अमनमणि से मुलाकात कराई गई। सोर्सेज के मुताबिक, अमन के सामने आते ही सीमा सिंह ने उससे कहा,तुमने सारा की हत्या की है। मैं सीबीआई जांच कराऊंगी। इस पर अमन ने उलटा सवाल दागते हुए कहा, मैं उसमें निर्दोष साबित हुआ तो? सीमा ने कहा, मैं उसके ऊपर जो भी एजेंसी होगी वहां तक जाऊंगी। तुम सारा को मारते-पीटते थे। इस पर अमन ने कहा, अगर मैं उसे मारता-पीटता होता तो वह हमारे साथ घूमने क्यों जाती?

नहीं मिला संतोषजनक जवाब

सीमा सिंह ने जेल से निकलकर बताया कि उन्होंने अमनमणि से तमाम सवाल पूछे लेकिन, वह एक का भी संतोषजनक जवाब नहीं दे सका। इतने बड़े गम के बावजूद अमनमणि के चेहरे पर शिकन तक न थी। उन्होंने बताया कि अमनमणि ने उन्हें बताया कि हादसे के वक्त उसकी कार 120 से 130 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार पर रही होगी। उसने बताया कि अचानक सफेद ड्रेस पहने साइकिल सवार लड़की कार के सामने आ गई। इससे उसकी कार अनियंत्रित होकर पलट गई। अमनमणि इस बात का जवाब नहीं दे पाया कि इतने बड़े कथित हादसे में उसके एक भी खरोंच क्यों नहीं आई? हालांकि, संडे को अमनमणि ने कहा कि उसके भी मामूली चोट आई थी। यह बयान घटना के बाद दिये उसके बयान से बिलकुल जुदा था। अमन ने बताया कि सारा कार की फ्रंट सीट पर बैठी थी और हादसा होते ही वह कार से बाहर निकल गई। सीमा ने बताया कि उनके सवाल कि जब उसके मुताबिक, सारा की मौत मौके पर ही हो चुकी थी तो फिर उसने हॉस्पिटल में उसके लिये वेंटीलेटर की मांग क्यों की। इस सवाल पर अमनमणि ने चुप्पी साध ली। शिकवा शिकायत भरे तमाम सवालों व जवाबों के बाद सीमा सिंह ने अमन से कहा, यह हमारी-तुम्हारी आखिरी मुलाकात है। इसके बाद वह वापस लौट आई।

मां सीमा के चुनिंदा सवाल और अमनमणि के जवाब

सीमा: जब यह हादसा हुआ तो कार की रफ्तार क्या थी?

अमनमणि: कार की रफ्तार 120 से 130 के बीच थी।

सीमा: यह हादसा कैसे हुआ?

अमनमणि: कार के सामने अचानक सफेद ड्रेस पहने साइकिल सवार लड़की आ जाने से कार अनियंत्रित होकर पलट गई।

सीमा: तुम्हारे मुताबिक जब सारा की मौत मौके पर ही हो गई थी तो फिर हॉस्पिटल में तुमने वेंटीलेटर की मांग क्यों की?

अमनमणि: कोई जवाब नहीं।

सीमा: जब कार पलटी तो सारा बिना दरवाजा खुले अपने आप ही कार से बाहर कैसे निकल गई?

अमनमणि: कोई जवाब नहीं।

सीमा: इस हादसे में तुम्हारे खरोंच तक क्यों नहीं आई?

अमनमणि: मुझे भी मामूली चोट आई है।

inextlive from Lucknow News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.