मुंबई बैंक अधिकारी के हत्यारोपी ने सिर्फ 800 रुपये के लिए की थी पड़ोसी की जान लेने की कोशिश

2018-09-11T05:01:23+05:30

पूर्व पड़ोसी का कहना है कि सरफराज शेख के पास काफी नकद थे। कुछ समय पहले उसने उनपर हमला किया था और बिल्डिंग के चौथी मंजिल वाली बालकनी से उन्हें धक्का देने की कोशिश की थी।

कानपुर। एचडीएफसी बैंक के वाइस प्रेसिडेंट सिद्धार्थ संघवी की हत्या में आरोपी टैक्सी ड्राइवर सरफराज शेख के बारे में चौका देने वाला खुलासा हुआ है। दरअसल, मिड-डे के मुताबिक, सरफराज शेख का खास पड़ोसी मेहरराज शाह ने बताया कि शेख ने उन्हें एकबार सिर्फ 800 रुपये के लिए मारने की कोशिश की थी और उन्हें चौथी मंजिल वाली बालकनी से बाहर फेंकने वाला था। उन्होंने कहा, 'शुक्रिया, मुझे जानने वाले उन लोगों की, जिन्होंने समय पर आकर मेरी जान बचाई थी।' बता दें कि खुद पर हमला होने के बाद शाह सरफराज के डर से मुंबई छोड़कर इनदिनों अपने घर चले गए हैं।
चाचा को देने थे 800 रुपये
शाह ने कहा, 'सरफराज तब किसी कंस्ट्रक्शन कंपनी में करता था। हम पहले अक्सर एक साथ चाय पीते थे और वह कभी-कभी मुझे अपने घर खाने पर बुलाता था। लेकिन वह बिलकुल बत्तमीज था और उसे ये नहीं पता था कि लोगों से कैसे बात की जाती है।' उन्होंने कहा, 'एक बार उसने मुझसे पूछा कि क्या मैं कंस्ट्रक्शन के कार्य के लिए किसी बढ़ई को जानता हूं, तो मैंने अपने चाचा का नाम उसे बताया। सरफराज ने मेरे चाचा को अपनी कंपनी में ले जाकर काम करवाए लेकिन पैसे नहीं दिए। उस काम के लिए मेरे चाचा को 800 रुपये देने थे। मेरे चाचा ने मुझसे लगातार पैसे के लिए पूछते रहे, इसलिए मैंने सरफराज से पूछा लेकिन वह मुझे इग्नोर करता रहा।
पड़ोसियों ने छुड़ाया
उन्होंने कहा, 'कुछ महीने बाद, मैंने सरफराज के रूममेट से पैसे देने के लिए बोला और कहा बाद में वो सरफराज से वह पैसे ले लेगा। फिर मुझे पैसे मिल गए, लेकिन इसके बारे में सुनकर सरफराज गुस्से से मेरे फ्लैट पर पहुंचा और जोरो से मेरा दरवाजा पीटने लगा। फिर जैसे ही मैंने दरवाजा खोला, उसने मेरा कॉलर पकड़ा और मुझे चौथी मंजिल की बालकनी से धक्का देने की कोशिश की। वह बार बार यह कह रहा था कि तुमने पैसे लेने की हिम्मत कैसे की। इसके बाद तुरंत वहां हमारे कुछ पड़ोसी जुट गए और उसने मुझे छोड़ दिया।

सभी से करता था लड़ाई

शाह ने कहा कि सरफराज हमेशा हर किसी से लड़ाई करता रहता है। उन्होंने बताया, 'उसके पास इतने सारे कर्ज थे कि उसे मजबूरन अपना फोन बेचना पड़ा था। जब मैंने सुना कि उसने किसी की हत्या की है, तो मैं चौंक गया।' गौरतलब है कि पांच दिनों से लापता एचडीएफसी बैंक के वाइस प्रेसिडेंट सिद्धार्थ संघवी की लाश मुंबई के कल्याण में मिली। पुलिस का कहना है कि इस हत्या के पीछे टैक्सी ड्राइवर सरफराज शेख का हाथ है। उसने लूटपाट के इरादे से एचडीएफसी के वाइस प्रेसिडेंट की हत्या कर दी।

आरक्षण की मांग में हिंसा पड़ी महंगी, कोर्ट ने हार्दिक पटेल संग तीन लोगों को दो साल की जेल की सजा सुनाई

अपने इन 5 नए वीड‍ियो से मौज करने को बोले वायरल वीड‍ियो स्‍टार हार्दि‍क पटेल, पढ़ें 5 खास बातें


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.