Bollywood की Hate Story

2012-04-18T12:00:00+05:30

ALLAHABAD बॉलीवुड एक्ट्रेस मीनाक्षी थापा की बॉडी आखिर है कहां? फाफामऊ में? दरभंगा कालोनी में? या कहीं और

यह जानने में मुंबई क्राइम ब्रांच और लोकल पुलिस को मंगलवार का पूरा दिन गंवाना पड़ गया. हत्या के आरोप में गिरफ्तार किए गए अमित जायसवाल और उसकी कथित गर्ल फ्रेंड प्रीति सूरी को लेकर इलाहाबाद पहुंची क्राइम ब्रांच की टीम के अलावा एसपी सिटी ने दोनों से घंटों पूछताछ कर बॉडी के बारे में जानने की कोशिश की. देर रात टूट गए इन दोनों ने पुलिस को हत्या के बाद बॉडी को ठिकाने लगाने की जो कहानी बताई, उसे सुनकर ऑफिसर्स भी सकते में आ गए. सभी तथ्यों को जानने के बाद ऑफिसर्स ने बॉडी की तलाश वेडनसडे मार्निंग में शुरू करने का निर्णय लिया.
सुबह ही पहुंचे

ट्यूजडे को दिन में एक बजे मुम्बई क्राइम ब्रांच की टीम अमित और प्रीति को लेकर जंक्शन पहुंची. पहले से ही सूचना मिल जाने के चलते स्टेशन पर मीडियाकर्मियों का जमावड़ा था. हर कोई अमित और प्रीति से इस घटना की कहानी सुनना चाहता था लेकिन क्राइम ब्रांच की टीम ने इस पर पानी फेर दिया. दोनों ने मीडिया के सामने मुंह नहीं खोला. क्राइम ब्रांच की टीम ने दोनों के चेहरों को ढक रखा था ताकि उनकी सीधी फोटोग्राफी न हो सके. इसके बाद मीडिया के सवालों से बचने के लिए क्राइम ब्रांच की टीम जीआरपी थाने पहुंच गई और काफी देर तक वहीं बात-चीत करती रही.
मीडिया से बनाए रखी दूरी
मुम्बई से एक इंस्पेक्टर, दो सब इंस्पेक्टर, तीन कांस्टेबल और दो महिला कांस्टेबल की टीम अमित और प्रीति को लेकर यहां आई थी. इन लोगों ने मीडिया से परमानेंट दूरी बनाए रखी. किसी भी मामले में उन्होंने मीडिया को कुछ भी बताने से इंकार कर दिया. करीब पौने तीन बजे टीम दोनों को लेकर जार्जटाउन थाना पहुंची. यहां पर जार्जटाउन एसओ रवि भूषण से बंद कमरे में बातचीत की.
एसएसपी से मिलने पहुंचे
महिला पुलिस की कस्टडी में प्रीति के साथ अमित को एक कमरे में रखा गया था. वहीं पर दोनों को चाय-पानी दिया गया. यहां पर क्राइम ब्रांच की टीम ने एसएसपी से मिलकर पूरी बात बताने और सहयोग मांगने की इच्छा जताई तो एसओ ने इसका बंदोबस्त करके उन्हें एसएसपी के पास भेजवाया. एसएसपी नवीन अरोड़ा के पास टीम के मेम्बर्स काफी देर तक रहे. हालांकि एसएसपी ने इस बातचीत का कोई ब्यौरा नहीं दिया लेकिन सूत्रों का कहना है कि टीम ने पूरी बात बताने के बाद उनसे सहयोग मांगा. इस पर एसएसपी ने उन्हें पूरा सहयोग देने का भरोसा जताया.
एसपी सिटी ने की पूछताछ
शाम को चार बजे एसपी सिटी शैलेष यादव जार्जटाउन थाना पहुंचे. उन्होंने पहले मुम्बई क्राइम ब्रांच के ऑफिसर से मामले की जानकारी ली फिर अमित और प्रीति से काफी देर तक पूछताछ की. इस दौरान एसपी सिटी शैलेष यादव ने मीडिया को बताया कि मुम्बई पुलिस को अभी उस प्लेस को ट्रेस करना है जहां पर एक्ट्रेस मीनाक्षी का मर्डर हुआ है. पुलिस को कई ऐसे एवीडेंस कलेक्ट करने हैं जिससे आरोपियों का जुर्म साबित हो सके.
दरभंगा कालोनी पर टिकी गिनाहें
मुम्बई क्राइम ब्रांच के जार्जटाउन पुलिस स्टेशन एरिया में पहुंचने से सभी लोग इस बात को जानने के लिए व्याकुल थे कि क्या मीनाक्षी का मर्डर प्रीति के घर में हुआ है? देर रात जो तथ्य खुलकर सामने आए उसके मुताबिक मीनाक्षी की हत्या प्रीती के घर में ही दुपट्टे से गला कसकर की गई थी. हत्या के बाद दोनों ने चाकू से उसका गला रेत दिया. सिर को एक पैकेट में पैक कर दिया और उसे जौनपुर फेंक आए. बाडी को टुकड़े-टुकड़े करके घर के शौच के सीवर में डाल दिया.
कौन थी मीनाक्षी
बेसिकली नेपाल की रहने वाली मीनाक्षी का कनेक्शन बॉलीवुड से था. उसने बंगला नंबर 404 में छोटा सा रोल प्ले किया था. इसके अलावा वह मॉडलिंग से भी जुड़ी हुई थी. वह बी ग्रेड की मूवीज में काम करने के अलावा कामर्शियल मूवी में भी एक्टिंग कर चुकी थी. वह करीब एक महीने पहले लापता हुई थी. उसके भाई नवराज देहरादून में रहते हैं.
प्रीति के पिता ने तोड़ी चुप्पी
इस मामले में प्रीति के पिता ने ट्यूजडे को अपनी चुप्पी तोड़ी. मीडिया से कहा कि प्रीति से उनका अब कोई मतलब नहीं है. बेटी ने उनका कहना नहीं माना. वर्षों पहले वह अमित के साथ मुम्बई चली गई थी. उसी दिन उन्होंने अपनी बेटी से सारे रिश्ते तोड़ लिए थे. उन्होंने कहा कि प्रीती को बार-बार समझाया था कि वह अमित का साथ छोड़ दे लेकिन वह नहीं मानी. दूसरी ओर प्रीति के मोहल्ले वालों ने बताया कि कोचिंग में पढ़ाने के बाद प्रीति की आदतें बिगड़ गई थीं. रात में भी लोग उससे मिलने आते थे. मोहल्ले वालों ने भी हरकतों से तंग आकर उससे दूरी बना ली थी.
टीम है तैयार
मीनाक्षी केस में साक्ष्य जुटाने के लिए इलाहाबाद पुलिस ने मदद करने का आश्वासन दिया है. मुम्बई क्राइम ब्रांच को फोरेंसिक टीम और वीडियोग्राफर भी अवेलेबल करा दिया है. फोरेंसिक एक्सपर्ट की मदद के लिए केस साल्व करना संभव नहीं दिख रहा है. क्योंकि, अमित और प्रीति ने मुम्बई में बयान दिया था कि उन्होंने मीनाक्षी की बॉडी के कई टुकड़े करके पार्ट को सीवर में फेंक दिया है. वैसे क्राइम ब्रांच की कोशिशें जारी हैं वह बॉडी पार्ट को रिकवर करने के लिए फोरेंसिक एक्सपर्ट के साथ-साथ फायर ब्रिगेड की भी मदद लेगी. इसके लिए जरूरी तैयारियां मंगलवार को पूरी कर ली गईं.
देहरादून में लिखी गई थी रिपोर्ट
मीनाक्षी के गायब हो जाने और फिर उसके परिवारवालों से फिरौती मांगे जाने की रिपोर्ट देहरादून में दर्ज की गई थी. रिपोर्ट मीनाक्षी के भाई नवराज ने दर्ज कराई थी. इसमें उसने आरोप लगाया था कि उसकी बहन का अपहरण कर लिया गया है और अपहर्ताओं ने उससे फिरौती के रूप में 15 लाख रुपए की मांग की है. उनकी सूचना पर देहरादून पुलिस ने रिपोर्ट तो दर्ज कर ली लेकिन मीनाक्षी के मुंबई से गायब होने के चलते मामले को अंबोली पुलिस स्टेशन मुंबई ट्रांसफर कर दिया. इसके बाद मुंबई क्राइम ब्रांच ने इसकी जांच शुरू की.
मीनाक्षी के मोबाइल से अमित तक पहुंची पुलिस
इस प्रकरण की जांच कर रही मुंबई क्राइम ब्रांच को इलाहाबादी अमित तक पहुंचाया मीनाक्षी के मोबाइल ने. मुंबई क्राइम ब्रांच ने केस हाथ में लेने के बाद मीनाक्षी के मोबाइल की कॉल डिटेल चेक की तो पता चला कि उसकी अंतिम लोकेशन इलाहाबाद में मिली थी. इसके बाद शनिवार को इसकी लोकेशन मुंबई में मिली तो पुलिस ने अमित को उठा लिया.
अमित के जरिए पुलिस प्रीति तक पहुंची. हालांकि क्राइम ब्रांच को मुंबई में पूछताछ के दौरान अमित ने बताया था कि मोबाइल उसे मीनाक्षी ने ही सौंपा था जब वह इलाहाबाद अपने एक ब्वॉयफ्रेंड के साथ घूमने गई हुई थी. उसने अपना एटीएम कार्ड भी उसे सौंपा था. वैसे पुलिस सूत्रों का कहना है कि प्रीति से हुई पूछताछ में पता चला कि मीनाक्षी का मर्डर ही इलाहाबाद में किया गया है.

Report by Piyush Kumar


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.