नवरात्रि व्रत में खाइए ये 5 फूड तो जरूर होगा फील गुड

2018-03-17T10:06:13+05:30

नवरात्रि का त्‍योहार साल में दो बार तभी आता है जब मौसम अपनी पूरी करवट ले रहा होता है। शारदीय नवरात्रि में बरसात के बाद सर्दी और चैत्र नवरात्रि के दौरान सर्दी का मौसम गर्मी में तब्‍दील हो रहा होता है। ऐसे मौसम में ये त्‍योहार न सिर्फ हमें धार्मिक और आध्‍यात्मिक स्‍तर हेल्‍दी रहने का मौका देता है बल्कि नवरात्रि में व्रत और उपवास रखने से हमारा शरीर भी शुद्ध और हेल्‍दी बन जाता है। आयुर्वेद में कहा गया है कि बदलते मौसम में हल्‍का और सात्विक खाना खाने से हमारा शरीर न सिर्फ इंफेक्‍शन से बचा रहता है बल्कि पॉजिटिव एनर्जी से भी लैस हो जाता है। बस जरा इस बात का ध्‍यान रखिएगा कि व्रत के दौरान कुछ ऐसा वैसा नहीं बल्कि ये 5 हॉट फेवरेट फूड जरूर लीजिएगा। वैसे भी इनके फायदे जानकर खाने में आप इन्‍हें मिस नहीं कर पाएंगे।

हर बार की तरह इस बार भी चैत्र नवरात्रि पर तमाम लोग मां दुर्गा को प्रसन्‍न करने के लिए पूरे 8 दिन का व्रत करेंगे। इस दौरान लोग लहसुन, प्‍याज, नॉनवेज समेत स्‍मोकिंग, एल्‍को‍हॉल छोड़कर सात्विक भोजन करने की कोशिश करेंगे। यूं तो लोग नवरात्रि व्रत के दौरान अपनी अपनी पसंद के मुताबिक खाना खाते हैं, लेकिन ये 5 फास्टिंग फेवरेट फूड्स के बिना व्रत का आनंद भी अधूरा रहेगा। तो व्रत शुरु होने से पहले जरा जान लीजिए कि व्रत में खाए जाने वाले ये 5 फेवरेट फूड सिर्फ बेहतर स्‍वाद ही नहीं बल्कि आपके शरीर को भी बहुत कुछ खास प्रदान करते हैं, ताकि आपके शरीर को मिले और भी ज्‍यादा एनर्जी।

कूटू का आटा या Buckwheat

ऐसे तो नवरात्रि व्रत रखने वाला हर एक व्‍यक्ति अच्‍छे से जानता होगा कि व्रत में आटा या मैदा से बनी चीजें खाना वर्जित होता है। ऐसे में कूटू का आटा जिसे अंग्रेजी में बकवीट भी कहते हैं, का खाने में ज्‍यादातर लोग इस्‍तेमाल करते है। बता दें कि कूटू के आटे में बॉडी के जरूरी अमीनो एसिड, फाइबर और रिच क्‍वालिटी का प्रोटीन मौजूद होता है, जो बॉडी के साथ साथ दिल को भी मजबूती देता है। यहीं नहीं कूटू के आटे में कई तरह के जरूरी मिनरल्‍स जैसे फॉसफोरस, जिंक, कॉपर और पोटेशियम मौजूद होते हैं, जो हमारे शरीर को एक नई ताकत और स्‍फूर्ति देने में बहुत मददगार होते हैं। तभी तो व्रत के दौरान कूटू का आटा हॉट फेवरेट फूड माना जाता है। हां इतना जरूर है कि कुछ लोग व्रत के दौरान कूटू के आटे की झमाझम तेल में तली पूडि़यां या कचौडि़या दबाकर खाते हैं। व्रत के दौरान इतना तलाभुना खाने से आपकी बॉडी को कितना फायदा मिलेगा, यह कहना जरा मुश्किल है।

 


जीरा या
Cumin

व्रत के दौरान ज्‍यादातर मसालों का प्रयोग वर्जित माना जाता है, लेकिन जीरा इस मामले में जरा हटके है। जीरा में आयरन के साथ साथ पाचक फाइबर पाया जाता है, जो पेट के लिए काफी हल्‍का होता है। यही वजह है कि व्रत के दौरान जीरा आलू और आलू टमाटर की जीरे से छौंकी गई सब्‍जी खासी पॉपुलर रहती है। व्रत के दौरान बनने वाले खाने में जीरा डालने से वो खाना आसानी से पचता है और इसके कारण पेट में किसी भी तरह का दर्द या गैस नहीं रुक पाती। यही नहीं व्रत में जीरा वाले खाने से आपकी इम्‍यूनिटी भी मजबूत होती है।

 

सेंधा नमक या व्रत वाला नमक

नवरात्रि व्रत के दौरान कुछ लोग तो नमक बिल्‍कुल ही छोड़ देते हैं तो बाकी लोग सेंधा नमक ही खाते हैं। बता दें कि सेंधा नमक या रॉक सॉल्‍ट रोजमर्रा में यूज होने वाले टेबल सॉल्‍ट की अपेक्षा सेहत के लिए ज्‍यादा बेहतर होता है। सेंधा नमक बड़े बड़े क्रिस्‍टल्‍स में आने वाला नमक है, जो समंदर के पानी को वाष्‍वीकृत करके सीधे बनाया जाता है और इसमें साधारण नमक की अपेक्षा सोडियम क्‍लोराइड की मात्रा काफी कम होती है। आयुर्वेद एक्‍सपर्ट कहते हैं कि सेंधा नमक पाचन को बेहतर बनाने और पेट दर्द को दूर करने वाली बेहतरीन नेचुरल दवा है। अगर व्रत के दौरान आप सेंधा नमक और पुदीने वाली दही की लस्‍सी पिएं तो आपको अपना पेट और पूरा शरीर इतना हल्‍का महसूस होगा कि क्‍या कहने। केवल व्रत ही नहीं अगर आप रोजाना सेंधा नमक का इस्‍तेमाल करें तो पेट के इंफेक्‍शन या पेट के कीड़ों की प्रॉब्‍लम पूरी तरह से दूर हो जाएगी। इसके अलावा सेंधा नमक ब्‍लड प्रेशर के मरीजों के लिए भी बहुत ही फायदेमंद है।

 

नवरात्रि व्रत से देवी को करें प्रसन्‍न साथ ही खुश होगा आपका शरीर व मन

आलू

यूं तो लंबे समय में हेल्‍थ और फिटनेस के नजरिए आलू को खास फायदेमंद नहीं माना जाता, लेकिन सच तो यह है कि अगर आलू को सही ढंग से खाया जाए तो यह भी काफी हेल्दी साबित होगा। फ्राइड पटैटो चिप्‍स या घी में डूबी हुई आलू टिक्‍की की बजाय सिंपल कढ़ाई आलू, आलू का हलवा, कम तेल में बने आलू कटलेट व्रत के दौरान न सिर्फ आपके पेट को ठीक रखेंगे, बल्कि ऐसा करके आपको मिलेंगे आलू के सभी फायदे। वैसे भी आलू में पोटेशियम, विटामिन सी, फाइबर, बिटामिन बी और मैगनीज जैसे मिनरल्‍स मौजूद होते हैं, जो आपके शरीर की इम्‍यूनिटी को काफी बूस्‍ट करते हैं।

 

साबूदाना

व्रत चाहे नवरात्रि का हो या कोई और, साबुदाना की खिचड़ी और साबुदाना वड़ा के बिना शायद पूरा नहीं होता। व्रत में लोग अपनी अपनी पसंद के अनुसार आलू साबुदाना की खिचड़ी से लेकर साबुदाना की खीर तक बहुत कुछ ट्राई करते हैं। इसके अलावा व्रत में साबुदाना के पापड़ और वड़ा भी खूब जमकर खाए जाते हैं। साबुदाना में कई तरह के एंटीऑक्‍सीडेंट्स के साथ ही कई तरह के मिनरल्‍स जैसे कैल्शियम, आयरन और विटामिन के भी पाया जाता है। साबुदाना में फाइबर भी काफी मात्रा में पाया जाता है, जो रोज खाने से बॉडी को तमाम तरह के फायदे मिलते हैं।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.