आज ही के दिन बनी देश की राजधानी नाम पड़ा नई दिल्ली

2019-02-13T10:30:06+05:30

देश की राजधानी नई दिल्ली का और 13 फरवरी का बेहद खास कनेक्शन है। आज ही के दिन 1931 में नई दिल्ली भारत की राजधानी बनी थी। ऐसे में आइए आज इस खास दिन पर जानें नई दिल्ली के राजधानी बनने से जुड़ी खास बातें

कानपुर। नई दिल्ली से पहले भारत की राजधानी कोलकाता हुआ करती थी लेकिन 1911 में दिल्ली शहर को भारत की राजधानी बनाने का ऐलान हुआ था। दिल्ली शहर के भारत की राजधानी बनने का सफर काफी दिलचस्प है। एक आधिकारिक वेबसाइट ब्रिटानिका डाॅट काॅम के अनुसार 11 दिसंबर 1911 को राजधानी के रूप में भारत के तत्कालीन सम्राट जॉर्ज पंचम ने इसकी नींव रखी थी।
इन दो फेमस ब्रिटिश आर्किटेक्ट ने तैयार की थी नई दिल्ली की वास्तुकला
वहीं नई दिल्ली की वास्तुकला को दो फेमस ब्रिटिश आर्किटेक्ट सर हर्बर्ट बेकर और सर एडविन लुटियन ने तैयार किया था। इस दाैरान कोशिश थी कि इसे चार साल में तैयार कर लिया जाए लेकिन फिर इसमें काफी समय लग गया था। ऐसे में भारत के वायसराय लॉर्ड इरविन ने औपचारिक रूप से 13 फरवरी, 1931 को देश की नई राजधानी के रूप में नई दिल्ली का उद्घाटन किया था।
इसलिए ब्रिटिश सरकार ने नई दिल्ली को राजधानी बनाने का लिया था फैसला
कोलकाता की जगह नई दिल्ली को भारत की राजधानी बनाने की एक बड़ी वजह यह थी कि दिल्ली कई साम्राज्यों की वित्तीय और राजनीतिक केंद्र थी। दिल्ली सल्तनत के साथ-साथ यहां 1649-1857 तक मुगलों का शासन भी रहा। भारत में अंग्रेजों के आने के बाद काफी बदलाव हुए थे। 1900 के शुरुआती दौर में ब्रिटिश प्रशासन ने नई दिल्ली को राजधानी का प्लान किया था।
दिसंबर 1911 में दिल्ली को राजधानी बनाने की आधारशिला रखी गई थी
ब्रिटिश सरकार ने दिल्ली शहर को राजधानी बनाने के पीछे हवाला दिया था कि कोलकाता देश के पूर्वी तटीय भाग में और दिल्ली शहर उत्तरी भाग में है। इससे देश पर शासन करना आसान और अधिक सुविधाजनक होगा। ऐसे में दिसंबर 1911 को  दिल्ली दरबार में ऐलान किया गया कि बहुत जल्द दिल्ली शहर भारत की राजधानी होगा। इस दाैरान ही इसकी आधारशिला भी रखी गई थी।

राजधानी नई दिल्ली आज भारत के खूबसूरत शहरों में भी गिनी जाती है

इतिहासकारों की मानें तो प्रथम विश्व युद्ध के बाद इसका निर्माण कार्य शुरू हुआ और 1931 तक पूरा निर्माण समाप्त हो गया। राजधानी के कोलकाता से नई दिल्ली स्थानांतरण में सरकारी काम में कोई  परेशानी न हो इसका विशेष ध्यान भी रखा गया था। आज राजधानी नई दिल्ली भारत के खूबसूरत शहरों में भी गिनी जाती है। इसके साथ ही नई दिल्ली दिल वालों की नगरी कही जाती है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.