Goodbye To The World

2011-07-11T13:56:05+05:30

168 साल बाद विदा हो गया ‘News of the World’ Sunday को आया आखिरी edition गम में डूबे staff ने कहा we are sorry

‘आज हम आपके लिए अपना आखिरी एडीशन लेकर आए हैं. इसके बाद हम सडक़ों पर चहलकदमी करेंगे और इसके साथ ही हम पब की ओर जा रहे हैं,’ यह कहना था उस टेबलॉयड के एडीटर का जो फोन हैकिंग के चलते अब बंद हो चुका है. संडे को ‘न्यूज ऑफ द वल्र्ड’ के लास्ट एडीशन से एक दिन पहले शनिवार को इसके एडीटर कॉलिन मायलर ने कुछ इस अंदाज में अपना मैसेज रीडर्स को दिया. 168 साल के बाद शनिवार को कॉलिन अपने 200 स्टाफ के साथ लंदन हेडक्वार्टर के बाहर खड़े थे. स्टाफ के हर मेंबर की आंखों में आंसू थे और इसके बावजूद वो इस गम को छिपाने की कोशिश कर रहे थे.
‘Thank you and goodbye'

‘न्यूज ऑफ द वल्र्ड’ का आखिरी एडीशन बहुत ही सिंपल था. ‘थैंक्यू एंड गुडबाय’ की हेडिंग के साथ पहले पेज पर इसके पिछले कुछ बेहतरीन एडीशंस के फ्रंट पेज की पिक्चर्स के साथ कंपाइल किया गया था. इसके अलावा पेज पर लिखा था 168 साल के बाद हम अपने रीडर्स से एक दुखी लेकिन गौरान्वित विदाई लेते हैं. कॉलिन पूरे स्टाफ के साथ मौजूद थे और बाहर इंतजार कर रहे मीडिया पर्संस के सामने इस आखिरी एडीशन के बारे में बात कर रहे थे. टेबलॉयड के पहले और लास्ट पेज पर टेबलॉयड से जुड़ी कुछ और फोटोग्राफ्स मौजूद थीं. कॉलिन के मुताबिक उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि एक दिन यह टेबलॉयड बंद हो जाएगा. आज वो जिस पोजीशन पर खड़े हैं कोई भी वहां नहीं आना चाहेगा. कोई भी नहीं चाहेगा कि एक क्लोजिंग टाइटल के साथ उसका काम एक दिन खत्म हो जाए. हालांकि वो यह कहना भी नहीं भूले कि मैंने इसे बंद नहीं किया है.
We are going to pub
कॉलिन की ही तरह वो 200 जर्नलिस्ट्स भी दुखी थे जो इसके साथ पिछले कुछ सालों से जुड़े थे. वीकएंड में आमतौर पर मुस्कुराते हुए काम करने वाले लोगों के चेहरे पर उदासी छाई हुई थी. कॉलिन ने कहा कि वो आज अपने साढ़े सात मिलियन रीडर्स से विदा ले रहे हैं. इस विदाई के साथ ही अब वो सभी पब की तरफ जा रहे हैं. कॉलिन ने ऐलान किया कि न्यूज ऑफ द वल्र्ड के आखिरी एडीशन से होने वाले प्रॉफिट को चैरिटी के कामों में दान किया जाएगा.
आखिरी एडीशन में ‘न्यूज ऑफ द वल्र्ड’ के इतिहास को भी जगह दी गई थी. इसमें एक तरफ 1946 में लांचिंग के दौरान जॉर्ज ऑरवेल का बयान था. अगर खुद न्यूज ऑफ द वल्र्ड और कॉलिन के लिए यह दुखभरा पल था तो वहीं रीडर्स के लिए भी यह काफी इमोशनल मौका था.
रूपर्ट पहुंचे लंदन
इन सबके बीच न्यूज ऑफ द वल्र्ड के बॉस रूपर्ट मर्डोक फोन हैकिंग कंट्रोवर्सी से निपटने के लिए लंदन पहुंच गए हैं. रूपर्ट ने कहा कि वो लोगों से माफी मांगते हैं. उन्हें यह मानने में भी कोई तकलीफ नहीं है कि न्यूज ऑफ द वल्र्ड लोगों की उम्मीदों पर खरा नहीं उतरा.
जेम्स के लिए मुश्किलें
वहीं दूसरी ओर रूपर्ट मर्डोक के बेटे जेम्स मर्डोक की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं. जेम्स न्यूज ऑफ द वल्र्ड में बतौर डिप्टी चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर जुड़े हुए थे. उन पर करप्शन के आरोप तय हो सकते हैं.



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.