देह व्यापर के लिए उत्तर कोरिया की हजारों महिलाओं और लड़कियों की चीन में होती है तस्करी

2019-05-21T04:24:23+05:30

चीन में देह व्यापार के लिए उत्तर कोरिया की हजारों महिलाओं और लड़कियों की तस्करी की जाती है। एक रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है।

लंदन (आईएएनएस)। चीन में देह व्यापार के लिए उत्तर कोरिया की हजारों महिलाओं और लड़कियों की तस्करी की जाती है। लंदन स्थित एनजीओ कोरिया फ्यूचर इनिशिएटिव (केएफआइ) ने अपनी रिपोर्ट में इस बात का दावा किया है। रिपोर्ट का कहना है कि कई महिलाओं को चीनी पुरुषों की पत्नी बनने के लिए बेचा जाता है, जबकि अन्य को देह व्यापार के लिए मजबूर किया जाता है। इतना ही नहीं, कई लड़कियों को जबरदस्ती इंटरनेट पर आपत्तिजनक लाइव वीडियो बनाने के लिए भी मजबूर किया जाता है। केएफआई का दावा है कि 12 साल तक की कई बच्चियां भी दुष्कर्म जैसे घिनौने अपराध का शिकार हुई हैं। बता दें कि इस रिपोर्ट को तैयार करने में तकरीबन दो साल का समय लगा है। लेखकों का कहना है कि उन्होंने इस बात का खुलासा करने के लिए लगभग 45 से अधिक लोग और यौन हिंसा के शिकार हुए लोगों का इंटरव्यू किया।
श्रीलंका में आतंकवाद के खात्मे के लिए आगे आया चीन, दी चार अरब रुपये की सहायता


सिर्फ निंदा करना काफी नहीं

2014 में जारी हुई संयुक्त राष्ट्र (यूएन) की रिपोर्ट के अनुसार, हजारों की संख्या में उत्तर कोरियाई चीन में शरणार्थी के रूप में रहते हैं। हालांकि, इसका कोई स्पष्ट आंकड़ा नहीं हैं लेकिन केएफआई का दावा है कि करीब दो लाख लोग चीन और आसपास के इलाकों में शरणार्थी है। इनमें से 60 फीसद महिलाओं की चीन में तस्करी की जाती है। केएफआइ ने कहा, 'ऐसे समय पर जब उत्तर कोरिया में राजनीतिक दखल बढ़ा है, वहां की महिलाओं का देह व्यापार में झोंका जाना शर्मनाक और निंदनीय है।' चीन में उत्तर कोरियाई महिलाओं की स्थिति पर मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वाच ने भी पिछले साल नवंबर में एक रिपोर्ट जारी की थी, जिसमें कहा था, 'सिर्फ इसकी निंदा करना काफी नहीं है। चीन के देह व्यापार और महिलाओं को दोयम दर्जे का समझने वाली उत्तर कोरियाई सरकार के खिलाफ सख्त कदम उठाना जरूरी है।'



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.