अब चलतेफिरते हाॅस्पिटल में होगा इलाज ओपीडी से ऑपरेशन तक की सुविधा

2018-08-20T05:01:54+05:30

हॉस्पिटल तो आपने बहुत से देखे और गए भी होंगे पर आज हम आपको एक खास हॉस्पिटल के बारे में बता रहे हैं। दरअसल ये एक पूरा चलता फिरता अस्पताल है। जो इस समय आपके शहर बनारस में मौजूद है।

varanasi@inext.co.in
VARANASI : जी हां ट्रेन कम हॉस्पिटल लाइफलाइन एक्सप्रेस का यहां पहुंचने के बाद रविवार को काशी स्टेशन पर इनॉगरेशन हुआ। सबसे बड़ी बात कि आप इस ट्रेन में न केवल अपना नि:शुल्क इलाज करा सकते हैं बल्कि जरुरत पडऩे पर ट्रेन में ही ऑपरेशन की भी सुविधा है। रेलवे बोर्ड की पहल पर इम्पैक्ट इंडिया फाउंडेशन की ओर से शुरू की गई है। यह ट्रेन स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर चार पर 20 अगस्त से 8 सितंबर तक पब्लिक के लिए उपलब्ध रहेगी। यह ट्रेन एक दिन पहले ही यहां पहुंच गयी थी। ओपीडी से ऑपरेशन तक पूरी तरह से आधुनिक उपकरणों से लैस लाइफलाइन एक्सप्रेस में देश के नामी डॉक्टर्स उन सभी मरीजों का ट्रीटमेंट करेंगे जो किसी भी सामान्य या बड़ी बीमारी से जूझ रहे हैं।
चिकित्सा की सुविधाएं मिलेगी
इस एक्सप्रेस में ऑपरेशन थियेटर की भी सुविधा उपलब्ध है। लाइफलाइन एक्सप्रेस में सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक चिकित्सा की सुविधाएं मिलेगी। पब्लिक के लिए 20 अगस्त से 30 अगस्त तक ब्लड प्रेशर और शुगर के जांच की सुविधा है। वहीं हर बीमारी की जांच और इलाज के लिए अलग-अलग दिन निर्धारित किए गए हैं। जैसे स्त्री रोग के लिए 21 अगस्त से तीन सितम्बर का समय दिया गया है। दांतों का उपचार और परीक्षण एक सितंबर से सात सितंबर तक किया जाएगा।

आईडी और आधार कार्ड

पोलियो के परीक्षण के लिए दो और तीन सितंबर की तारीख निर्धारित की गई है। पेंशेंट को नि:शुल्क ऑपरेशन कराना है तो चार और पांच सितंबर की डेट निर्धारित की गई है। आईडी लाना होगा साथ लाइफलाइन एक्सप्रेस में आंखों का परीक्षण, मोतियाबिंद का ऑपरेशन, कटे-फटे होंठ व जलने के दाग, कान का ऑपरेशन, मिर्गी रोगियों का परीक्षण, मुंह के कैंसर और दातों का उपचार समेत अन्य बीमारियों के इलाज की सुविधा है। सात कोच वाला चलता फिरता अस्पताल 'लाइफ लाइन ' काशी रेलवे स्टेशन पहुंचने के बाद मालगोदाम में प्लेटफॉर्म नंबर चार पर खड़ी की गई है। इसमें इलाज कराने के लिए लाभार्थियों को अपने साथ आईडी और आधार कार्ड लाना होगा। सोमवार से लाइफलाइन एक्सप्रेस की ओपीडी पब्लिक के लिए स्टार्ट हो जाएगी।
आयुर्वेद हॉस्पिटल में सौ बेड
प्रशासन की कोशिश है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों का लाइफलाइन एक्सप्रेस में इलाज हो सके। इसके लिए आयुर्वेद हॉस्पिटल में भी सौ बेड रिजर्व रखा गया है। स्टेशन अधीक्षक मोहम्मद तस्लीम का कहना है कि रेलवे की तरफ से लोगों की सुविधाओं को देखते हुए हर तरह की तैयारी कर दी गई है। लगभग हर प्वाइंट पर कर्मचारियों को तैनात किया गया है। इनॉगरेशन मेयर मृदुला जायसवाल ने किया। इस दौरान सीएमओ डॉक्टर वीबी सिंह, इंपैक्ट इंडिया फाण्डेशन के सीओओ ईजे जोसेफ, एमडी एफसीसीपी (यूएसए) प्रोफेसर रोहणी वी चौगल सहित स्वास्थ्य व रेलवे के ऑफिसर्स उपस्थित रहे।
एसएस हॉस्पिटल में एप से होगा रजिस्ट्रेशन

पैथोलॉजी जांच में आधार की आफत


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.