वाराणसी के मॉल हत्याकांड में पकड़ा गया एक आरोपी उगले कई राज

2018-11-03T11:50:04+05:30

दो युवकों की हुई हत्या की घटना का है आरोपी 25 हजार का रखा गया था ईनाम। सारनाथ में दोस्त के यहां था छिपा क्राइम ब्रांच व कैंट पुलिस ने दबोचा।

varanasi@inext.co.in
VARANASI : जेएचवी मॉल में अंधाधुंध गोलियां बरसा कर दो युवकों की हत्या के आरोपी व 25 हजार के इनामी रोहित सिंह को क्राइम ब्रांच व पुलिस ने सारनाथ से दबोच लिया। शुक्रवार को पुलिस लाइन में मीडिया से रूबरू एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने बताया कि अस्थाई पता निराला नगर सिगरा निवासी रोहित सिंह के इशारे पर ही आलोक उपाध्याय सहित दो अन्य बदमाश असलहा लेकर मॉल में दाखिल हुए थे। चूंकि रोहित खुद मॉल के फ्लाइंग मशीन में कार्यरत था इसलिए सिक्योरिटी गार्ड ने तीनों को इंट्री प्वाइंट पर चेक नहीं किया। उसने पुलिस की पूछताछ में कबूल किया कि आलोक की माशूका की बहन प्यूमा स्टोर में जॉब करती थी, सेल्समैन प्रशांत अक्सर उससे बदसलूकी करता था, जब यह बात आलोक को मालूम चली तो प्रशांत की नदेसर में पिटाई की गई थी।
पुलिस पर थी नजर
एसपी क्राइम ज्ञानेंद्र नाथ ने बताया कि मूल रूप से कैमूर बिहार निवासी रोहित सिंह व चंदौली निवासी आलोक उपाध्याय, ऋषभ और कुंदन सिंह एक साथ जेएचवी मॉल में पहुंच प्रशांत को ढूंढने लगे। पूछताछ में रोहित ने बताया कि काफी देर तक माल के अंदर ढूंढने पर जब प्रशांत नहीं मिला तो वहां मौजूद अन्य सेल्समैन को धमकी देते हुए आलोक, ऋषभ और कुंदन मॉल के बाहर आने लगे। इसी बीच एक सेल्समैन ने आलोक की पिस्टल छिन ली और मारने-पीटने लगा। यह देख ऋषभ और कुंदन अपनी पिस्टल निकाल अंधाधुंध फायरिंग करने लगे। रात में पता चला कि गोलियों का शिकार चार लोग हुए हैं जिनमें से दो लोगों की मौत हो गई है। इस घटना के बाद आलोक, ऋषभ और कुंदन मुझे सारनाथ में छोड़ फरार हो गए। सारनाथ में एक दोस्त के यहां रुका हुआ था। यह पता करने के लिए कि पुलिस क्या कर रही है।
तीन को तलाश रही 12 टीम
कुख्यात अपराधियों को झटपट दबोचने वाली बनारस पुलिस को जेएचवी हत्याकांड में शामिल रहे हत्यारे नहीं मिल रहे हैं। हत्यारों की खोज में बनारस पुलिस की 12 टीमें ताबड़तोड़ पूर्वांचल सहित बिहार तक में छापेमारी कर रही हैं। पुलिस को अनुमान है कि 25 हजार का इनामी आलोक बिहार निवासी अपने साथी ऋषभ और कुंदन सिंह के साथ बिहार में ही छिपा है।
आलोक के करीबी अंडरग्राउंड
आलोक उपाध्याय और रोहित सिंह के करीबी दोस्तों ने शहर छोड़ दिया है। छात्रसंघ चुनाव में जिसका आलोक ने प्रचार-किया था वह भी भूमिगत हो गए हैं। वहीं मॉल के अंदर सिक्योरिटी में हुई चूक को संज्ञान में लेते हुए पुलिस ने मॉल के ओनर व चंदौली के पूर्व सांसद जवाहर लाल जायसवाल, पुत्र गौरव जायसवाल व मॉल प्रबंधक पर केस दर्ज किया है।

मॉल पहुंची यूनिवर्सिटी की पुरानी लड़ाई, अंधाधुंध फायरिंग से दो की मौत

वाराणसी : जेएचवी मॉल में हुए डबल मर्डर कांड में शामिल हत्यारों को पकड़ने के लिए पुलिस ने रखे 25 हजार का इनाम


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.