एकाउंट से उड़ा ले गए एक करोड़ 31 लाख

2019-03-01T06:01:04+05:30

-मेल स्पूफिंग से नकदी उड़ा रहा नाजरियन गैंग, शहर में फैलाया जाल

-10 फीसदी कमीशन पर फर्जी एकाउंट खोलकर कमाई कर रहे लोग

GORAKHPUR: ई-मेल भेजकर लोगों के एकाउंट से नकदी उड़ाने वाले गैंग की सक्रियता ने पुलिस के होश उड़ा दिए हैं। लखनऊ में हुई घटना की सूचना पर पूरे प्रदेश में अलर्ट जारी किया गया है। नाइजीरियन जालसाजों का गैंग यूपी के विभिन्न शहरों में बेरोजगारों से बैंक एकाउंट खुलवाकर नकदी का ट्रांजेक्शन करा रहा है। नेपाल बार्डर से सटे जिलों खासकर गोरखपुर में गैंग की गहरी पैठ की सूचना पर एसटीएफ और क्राइम ब्रांच की टीम अलर्ट हो गई है।

पुलिस अफसरों का कहना है जिले में पहले भी नाइजीरियन युवकों का गैंग ठगी के मामले में अरेस्ट हो चुका है। शहर के एक बैंक से एक करोड़ 31 लाख रुपए ट्रांसफर होने की सूचना ने पुलिस की सक्रियता बढ़ा दी है।

मेल स्पूफिंग से नेट बैंकिंग कर लगा रहे चूना

पुलिस को सूचना मिली है कि नाइजीरिया के कुछ नागरिक ठगी के धंधे में शामिल हैं। वह इंटरनेट के जरिए विभिन्न एजेंसियों, स्कूल-कॉलेज, संस्थाओं और कंपनियों सहित अन्य बड़े प्रतिष्ठानों की मेल स्पूफिंग कर उनके बैंक ट्रांजेक्शन की डिटेल जुटा रहे हैं। डिटेल के आधार पर इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कर बैंक एकाउंट से नकदी का ट्रांजेक्शन सामान्य से एकाउंट्स में कर देते हैं। गोरखपुर में ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स के बैंक एकाउंट से एक करोड़ 31 लाख रुपए का ट्रांसफर किए जा चुके हैं।

मामूली लालच में खोले जा रहे एकाउंट्स

विभिन्न कंपनियों के ई-मेल के जरिए उनके बैंक एकाउंट्स ने नकदी की हेराफेरी करने वाला गैंग सामान्य लोगों को रुपए कमाने का लालच देकर खाता खुलवाता है। यदि जुगाड़ सटीक बैठ गया तो फर्जीवाड़ा कर एकाउंट्स खोले जाते हैं। यदि बात नहीं बनी तो संबंधित व्यक्ति के नाम से खुले एकाउंट्स में पैसा जमा कराया जाता है। खातेदार के हिस्से की 10 फीसदी रकम बतौर कमीशन काटकर नाइजीरियन बाकी पैसा रख लेते हैं। कार्ड की मदद से जालसाज विभिन्न जगहों पर जाकर एटीएम से रुपए निकाल लेते हैं। फिर उस रकम को दिल्ली पहुंचा दी जाती है। लखनऊ में राजकीय निर्माण निगम लिमिटेड के एकाउंट से साढ़े नौ लाख रुपए निकाले जाने की सूचना पर डीजीपी हेडक्वार्टर ने सभी जिलों की पुलिस को अलर्ट जारी किया। जांच में लगी टीम को सुराग मिला कि गोरखपुर में गैंग के कई मेंबर सक्रिय हैं। 2018 में बस्ती जिले में एक संस्थान के 50 लाख रुपए से अधिक का ट्रांजेक्शन करने वाला गैंग पकड़ा जा चुका है।

हाल में सामने आए बड़े मामले

27 फरवरी 2019: फर्जी बैंक एकाउंट्स के जरिए विभिन्न कंपनियों की मेल डिटेल उड़ाकर करोड़ों रुपए की ठगी करने वाले गैंग के सदस्यों को लखनऊ में पुलिस ने पकड़ा। इनमें पांच युवक के रहने वाले हैं।

08 जनवरी 2018: तिवारीपुर एरिया में फर्जी तरीके से बैंक एकाउंट्स खुलवाकर लोगों के खाते से रुपए उड़ाने वाला गैंग पकड़ा गया। तिवारीपुर एरिया के दो युवकों सहित जिले के पांच युवक फर्जी बैंक खातों में नकदी ट्रांजेक्शन के आरोप में गिरफ्तार किए गए थे।

लखनऊ में पकड़ा गया गैंग, गोरखपुर का युवक शामिल

राजकीय निर्माण निगम के एकाउंट से जालसाजों ने साढ़े नौ लाख रुपए का ट्रांजेक्शन होने की शिकायत साइबर सेल लखनऊ को मिली। एमडी ने इस मामले में मुकदमा दर्ज कराया। उन्होंने बताया कि उनके मेल को स्पूफ कर अधीनस्थ कर्मचारियों को भेजा जा रहा था। उसी मेल को आधार बनाकर जालसाजों ने रुपए की हेराफेरी कर ली। इस शिकायत पर नोडल अफसर अभय कुमार मिश्र ने टीम का गठन कर गिरफ्तारी का निर्देश दिया। बुधवार को विभूतिखंड पुलिस टीम ने सात लोगों को अरेस्ट किया। इसमें नई दिल्ली में रहने वाला नाइजीरियन नागरिक आस्कर पकड़ गया। उसका साथ देने के आरोप में बिहार, औरंगाबाद के कसाई मोहल्ला का नौशाद, गोरखपुर के तिवारीपुर दक्षिणी दरियाचक निवासी रिजवानुल्लाह, संत कबीर नगर जिले के मेंहदावल का प्रवीन जायसवाल, तिवारीपुर के घोषीपुर मोहल्ले का ग्यासुद्दीन, निजामपुर का परवेज और राप्ती नगर निवासी आशीष जायसवाल को पुलिस ने गिरफ्तार किया। पूछताछ में सामने आया कि गोरखपुर सहित कई जिलों में इस गैंग का जाल फैला है। इस गैंग के मेंबर्स 10 फीसदी लाभ पर अपने नाम से एकाउंट खोलकर भागीदारी निभाते हैं।

वर्जन

नाइजीनियन नागरिक को जालसाजी के आरोप में अरेस्ट किया गया है। पूर्व में भी उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था। पकड़े गए लोगों में पांच शातिर गोरखपुर और आसपास के जिले के रहने वाले हैं। उनसे पूछताछ में मिली जानकारी के आधार पर गोरखपुर पुलिस को अलर्ट किया गया है। ओरियंटल बैंक ऑफ कार्मस के बैंक एकाउंट से एक करोड़ रुपए 31 लाख रुपए का ट्रांजेक्शन होने की बात सामने आई है।

अभय कुमार मिश्रा, नोडल अफसर, साइबर क्राइम लखनऊ

कई लोगों ने फर्जी तरीके से एकाउंट्स खोले हैं। उनके खाता में रुपए का लेनदेन भी होता है। इस मामले की जानकारी सामने आने पर जांच पड़ताल शुरू कर दी गई है। नाइजीरियन युवकों के साथ जुड़े लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

प्रवीण कुमार सिंह, सीओ क्राइम ब्रांच

inextlive from Gorakhpur News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.