पकड़ में नहीं आया ज्वेल थीफ चुनावी शोर में फंसी रही पुलिस

2019-05-19T06:00:26+05:30

रांची: राजधानी के ओसीसी कंपाउंड स्थित सेंट्रल बैंक के लाकर से ढाई लाख के गायब हुए ज्वेलरी के मामले में पुलिस की जांच सुस्त पड़ गई है। 16 मार्च को हुई इस घटना की डेली मार्केट थाने में एफआईआर भी दर्ज कराई गई थी। मामले में पुलिस ने जांच भी शुरू कर दी थी लेकिन दो माह गुजर जाने के बाद भी उसे इस मामले में सफलता हाथ नहीं लगी है। पूछने पर पुलिस का कहना है कि चुनावी बोझ के चलते सारी फोर्स बिजी रही। ऐसे में आगे जांच कैसे हो पाएगी। वहीं दूसरी तरफ अब यह भी सवाल उठ रहा है कि बैंक का लॉकर जो सबसे सेफ माना जाता है उसमें से जेवरातों को उड़ा देना, वो भी सीसीटीवी, विशेष चाभी, हथियारबंद गार्ड के रहते। ऐसे में कहीं बैंक कर्मियों की मिलीभगत से ही तो नहीं इस घटना को अंजाम दिया, लोग इस आशंका से भी इनकार नहीं कर रहे हैं।

बीमाकर्मी के लॉकर से हुई चोरी

बैंक के लॉकर से जेवरातों के चोरी होने की रिपोर्ट नेशनल इंश्योरेंस के रिटायर्ड बीमाकर्मी किशोर कुमार सिन्हा ने लिखवाई है। एफआईआर में बताया गया है कि ओसीसी कंपाउंड स्थित सेंट्रल बैंक के लॉकर संख्या 121 से करीब ढाई लाख के जेवरात चोरी चले गए। किशोर ने पुलिस को बताया है कि दो फरवरी को शादी में जाने के लिए लॉकर में रखे गहनों में से कुछ गहनों को निकाला था। शादी से लौटकर बीते 15 मार्च को गहने वापस रखने गए तो लॉकर का लॉक खुला नहीं। अगले दिन उन्हें फोन कर कहा गया कि लॉक खोलने वाला आया है, वो बैंक आ जाएं। जब किशोर अपनी पत्‍‌नी के साथ पहुंचे और लॉक खोला गया तो लॉकर में रखे ढाई लाख के गहने गायब मिले। बस कुछ जेवरात मौजूद मिले। इसकी कंप्लेन उन्होंने ब्रांच मैनेजर से की। जिसके बाद थाने में एफआईआर दर्ज कराया।

कर्मियों पर मिलीभगत का आरोप

किशोर कुमार सिन्हा ने बैंककर्मियों की मिलीभगत से गहनों को गायब करने का आरोप लगाया है। उनके मुताबिक लॉकर से गायब हुए गहनों में 12 ग्राम की गोल्ड चेन जिसमें लॉकेट लगा था। इसके अलावा सोने का हार, दो सेट बाली गायब हुए हैं।

बैंक का इनकार

वहीं बैंक के सीनियर मैनेजर प्रेम शंकर शरण का कहना है कि बैंक लॉकर से सामान का गायब होना संभव नहीं है। भारी सुरक्षा के बीच बैंक के लॉकर बंद रहते हैं। बैंक खुलने के बाद और बंद होने के बाद भी चोरी होना मुमकिन नहीं है। उन्होंने ये भी कहा कि चोरी होगी तो एक साथ कई लॉकर तोड़कर चोरी हो सकती है। हालांकि बैंक इस मामले की विभागीय जांच करा रहा है।

वर्जन

मामले की जांच चल रही है और अभी इस पर कुछ भी कहा नहीं जा सकता। अब तक की हुई छानबीन में कई तथ्य सामने आए हैं जल्द ही इस मामले का खुलासा किया जाएगा।

अमित सिंह, सिटी डीएसपी

inextlive from Ranchi News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.