एक चिंगारी से प्लास्टिक फैक्ट्री बनी आग का गोला 8 घंटे तक दहशत में रहे लोग

2019-04-17T06:00:28+05:30

PATNA : पटना में आग लगने की घटनाएं बढ़ गई हैं। सोमवार देर रात अगमकुआं थाना अन्तर्गत छोटी पहाड़ी स्थित लक्ष्मी नगर में आबादी के बीच चल रहे प्लास्टिक कारखाना और गोदाम में भीषण आग लग गई। यहां रखा प्लास्टिक का कच्चा माल और कचरा शोला में बदल गया। करीब एक किलोमीटर दूर से आग की लपट नजर आ रही थी। सूचना पाकर राजधानी के सभी फायर स्टेशनों से 10 दमकल लेकर घटना स्थल पहुंचे फायर कर्मियों के आठ घंटों की मशक्कत के बाद सुबह करीब 11 बजे आग बुझ सकी।

शॉट सर्किट से हुई घटना

आग लगने की वजह शॉट सर्किट होना बताया जा रहा है। गोदाम मालिक बजरंगपुरी निवासी इंद्रदेव प्रसाद ने बताया कि रात 2:30 बजे स्थानीय नागरिकों ने मुझे फोन से आग लगने की सूचना दी। घटनास्थल पर पहुंचा तो सब कुछ तबाह हो चुका था। इंद्रदेव ने बताया कि आग लगने से करीब पांच लाख रुपए की सम्पत्ति का नुकसान हुआ है। घटनास्थल पर मौजूद पटना सिटी फायर स्टेशन के ऑफिसर सुरेन्द्र सिंह ने बताया कि आग से मकान व शेड पूरी तरह बेकार हो चुका है।

घर छोड़ भागे लोग

प्लास्टिक कारखाना और गोदाम में रखे प्लास्टिक के अंबार में लगी आग की गर्मी काफी दूर तक महसूस की जा रही थी। गोदाम के आसपास के घरों को छोड़कर लोग बाहर भागे। घंटों अफरातफरी मची रही। अगल-बगल के मकान को भी आग से आंशिक नुकसान पहुंचा है। स्थानीय लोगों का कहना था कि आबादी के बीच प्लास्टिक का कारखाना व गोदाम करने के लिए कई बार मना किया गया था। पुलिस प्रशासन ने समय रहते इस दिशा में कोई कार्रवाई नहीं किया।

40 टैंकर से बुझी आग की प्यास

फायर ऑफिसर सुरेन्द्र सिंह ने बताया कि पटना सिटी फायर स्टेशन से तीन दमकल भेजने के बाद जिला कंट्रोल रूम को वायरलेस से आग की भयावह स्थिति की सूचना दी गयी। कंकड़बाग से दो, पटना से दो, सचिवालय, फुलवारी और दानापुर से एक-एक दमकल मौके पर पहुंचा। इन गाडि़यों का पानी तुरंत-तुरंत खाली हो रहा था। करीब चालीस टैंकर पानी से आग बुझायी गयी। रात तीन बजे से लेकर सुबह 11 बजे तक ऑपरेशन चला।

inextlive from Patna News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.