जमीन के लिए रंगदारी

2018-12-12T06:00:17+05:30

- रंगदारी, लूट की रकम से खरीद रहे प्लाट्स

- रामजीत यादव की जांच में खुल रहे कई राज

- माफिया पर शिकंजा कसने में नाकाम रही पुलिस

द्दह्रक्त्रन्य॥क्कक्त्र: शहर के शातिर बदमाश रंगदारी के पैसे से प्रापर्टी खरीद रहे हैं। खोराबार, चिलुआताल, शाहपुर और गुलरिहा एरिया सहित कई जगहों पर बदमाशों की शह पर भूमि पर कब्जे हो रहे। हिस्ट्रीशीटर अमरजीत यादव के भाई रामजीत ने भी प्रापर्टी के लिए बिजनेसमैन से 10 लाख रुपए की रंगदारी मांगी थी। रामजीत के लिए उसके कई गुर्गे शहर में काम कर रहे हैं। मुन्ना बजरंगी गैंग के बदमाशों को अपने साथ जोड़कर वह फिर से पांव पसार रहा है। पुलिस ने ठीक से जांच की तो आजमगढ़ से लेकर गोरखपुर तक फैले नेटवर्क में कई चेहरे बेनकाब होंगे। क्राइम ब्रांच का कहना है कि पब्लिक को डरा- धमकाकर कमाई गई प्रापर्टी को जब्त कराया जाएगा। पूर्व में गोरखनाथ एरिया में रहने वाले पवन सिंह की करीब सवा करोड़ की प्रापर्टी पुलिस जब्त करा चुकी है।

जमीन खरीदने का झांसा देकर भेजे थे गुर्गे

शहर से बदमाशों के सफाए में लगी पुलिस के सामने प्रापर्टी डीलर बनकर बदमाश नई चुनौती खड़ी कर रहे हैं। जेल से छूटने के बाद कई बदमाश प्रापर्टी के कारोबार में जुटे हैं। दियारा के डान अमरजीत का भाई रामजीत शहर में काफी दिनों से एक्टिव रहकर प्रापर्टी डीलिंग कर रहा था। रविवार को गोला एरिया के रतनपुर घाट से बालू की निकासी करने वाले ठेकेदार से 10 लाख रुपए की रंगदारी मांगने में उसके गुर्गे पकड़े गए तब मामला सामने आया। उरुवा बाजार के श्रीराम, टड़वा का धनेष यादव, कैंट के दाउदपुर मोहल्ले के विवेक तिवारी उर्फ सोनू तिवारी, मनीष, झंगहा के पकड़ीपार मोहल्ले का अभय, गगहा के घिसड़ी का लोरिक यादव से पूछताछ कर पुलिस इस सच्चाई तक पहुंच सकीं। बदमाशों ने पुलिस को बताया कि रामजीत के कहने पर वह लोग रुपए लेने के लिए पहुंचे थे। बताया गया था कि एक जमीन की खरीद- फरोख्त में रुपए का इनवेस्टमेंट होना था। रंगदारी की बात सिर्फ धनेष यादव को पता थी। क्योंकि वह काफी दिनों से खोराबार क्षेत्र में जमीनों का कारोबार कर रहा है.

जेल में लेकर जमीन तक निभा रहे साथ

पुलिस अफसरों का कहना है कि महराजगंज के हथियागढ़ निवासी रामजीत, गोला के जय प्रकाश उर्फ जेपी, उरुवा दुर्गेश यादव, गोला के इंद्रेश तिवारी उर्फ मोनू तिवारी, खोराबार के अजीत यादव, मोहद्दीपुर मोहल्ले के राजू यादव की तलाश चल रही है। जांच में सामने आया है कि ये सभी लोग रामजीत और अन्य बदमाशों संग मिलकर शहर में प्रापर्टी डीलिंग काम कर रहे हैं। मुन्ना बजरंगी गैंग से जुड़ा रहा धनेष यादव काफी दिनों से खोराबार एरिया में एक्टिव है। मर्डर, रंगदारी सहित कई मामलों में दो बार एसटीएफ उसे गिरफ्तार कर चुकी है। जेल से छूटने के बाद वह खोराबार एरिया में अपना ठिकाना बनकर रह रहा था। 2012 में छात्रसंघ चौराहे पर पप्पू निषाद पर हुए हमले में रामजीत, मनीष कन्नौजिया, विवेक तिवारी साथ थे। पुराने जुड़ाव और जेल में साथ रहने की वजह से सभी बदमाश एक दूसरे के साथ मिलकर प्रापर्टी पर कब्जे में जुटे हुए हैं। रामजीत ने प्लाट खरीदने के लिए बालू कारोबारी से 10 लाख रुपए की रंगदारी मांगी थी।

इनका भी सामने आ चुका है नाम

सुधीर सिंह, प्रदीप सिंह, अजीत कुमार शाही, विनोद उपाध्याय, गुड्डू यादव, राकेश यादव, पवन सिंह लगड़ा और पवन सिंह

पुलिस ने जब्त कराई पवन सिंह की प्रापर्टी

गोरखनाथ एरिया के नथमलपुर मोहल्ला निवासी पवन सिंह के खिलाफ मार्च में कड़ी कार्रवाई हुई थी। पवन सिंह और उसके भाई पर सहजनवां के गीडा में भूमि दिलाने के नाम पर रुपए हड़पने का आरोप लगा था। डेढ़ करोड़ रुपए की प्रापर्टी की बात सामने आने पर पुलिस ने जांच की। इस दौरान पता लगा कि समाज में भय फैलाकर पवन सिंह ने गलत तरीके से प्रापर्टी जुटाई है। विधिक प्रक्रिया के तहत पुलिस- प्रशासन ने पवन का मकान, फोरलेन के पास स्थित भूमि और चार लग्जरी वाहनों को जब्त कर लिया था। यह अपने आप में बड़ी कार्रवाई थी जिससे आपराधिक छवि के लोगों की कमर टूट गई। लेकिन हाल के दिनों में पुलिस की सुस्ती से भूमि माफिया फिर से पांव पसारने लगे हैं। इनमें शाहपुर, गुलरिहा और खोराबार इलाकों में मारामारी मची हुई है.

शहर में नौ भू माफिया, 16 सदस्य

पुलिस रिकार्ड में शहर के भीतर नौ माफिया का नाम दर्ज है। इन माफिया के 16 सदस्य काम कर रहे हैं। अपने रजिस्टर में सबका नाम दर्ज कर पुलिस उनकी निगरानी करना भूल गई है। इनके अलावा आपराधिक गिरोहों से ताल्लुक रखने वालों पर भी शिकंजा कसने में लापरवाही होने से बदमाश दोबारा एक्टिव हो रहे। पुलिस का कहना है कि विभिन्न अपराधों में कुल 86 माफियाओं की सूची तैयार हुई है।

माफिया संख्या सदस्यों की तादाद

भू माफिया 09 16

आपराधिक माफिया 24 138

वन माफिया 05 21

वाहन चोर गैंग 08 27

डकैती गैंग 01 11

लुटेरा गिरोह 20 95

ठेकेदारी माफिया 03 21

खनन माफिया 01 01

आबकारी माफिया 11 37

नकबजनी गैंग 03 15

पासपोर्ट गैंग 01 03

समाज में भय पैदा कर गलत तरीके से पैसा कमाने वाले बदमाश प्रापर्टी के कारोबार में लगे हुए हैं। रामजीत ने 10 लाख रुपए की रंगदारी जमीन के कारोबार के लिए मांगी थी। धनेष यादव खोराबार क्षेत्र में सक्रिय रहकर प्रापर्टी का काम कर रहा है। कुछ माफियाओं पर भी पूर्व में कार्रवाई की गई थी। ऐसे सभी लोगों की प्रापर्टी की जांच कराकर जब्ती की प्रक्रिया अपनाई जाएगी.

प्रवीण सिंह, सीओ क्राइम ब्रांच

inextlive from Gorakhpur News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.