उत्तराखंड जहरीली शराब पीने से अब तक 34 से ज्यादा लोगों की मौत 70 से ज्यादा बेहाल

2019-02-10T01:07:40+05:30

उत्तराखंड में जहरीली शराब पीकर मरने वालों का सिलसिला थम नही रहा है। यहां अभी भी कई लोगों की हालत गंभीर है।

रुड़की में जहरीली शराब से अब तक 34 की मौत, 70 से ज्यादा बेहाल
दून और हरिद्वार के अस्पतालों में भर्ती हैं बीमार, 35 की हालत गंभीर
सरकार देगी मृतक आश्रितों को 2-2 लाख रुपए का मुआवजा,
बीमारों को 50-50 हजार रुपए
dehradun@inext.co.in
ROORAKEE : हरिद्वार जिले के यूपी सीमा से सटे पांच गांवों में जहरीली शराब पीकर मरने वालों की संख्या शनिवार को 34 तक जा पहुंची है। शुक्रवार तक 19 लोगों की मौत हो गई थी। बीमारों का अस्पताल पहुंचने का सिलसिला शनिवार को भी जारी रहा। दिन भर में 52 लोग सिविल अस्पताल पहुंचे, इन सभी को हायर सेंटर रेफर किया गया। 35 की हालत गंभीर बताई जा रही है। राज्य सरकार ने मृतक आश्रितों को दो-दो लाख और घायलों को 50-50 हजार रुपये आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है।

मुआवजे को लेकर हंगामा

झबरेड़ा थाना क्षेत्र के बाल्लुपुर, जहाजगढ़, भलस्वागाज, बिंड और खरक गांव में गुरुवार शाम से जहरीली शराब से मरने वालों का सिलसिला श़ुरू हुआ, जो अब तक जारी है। इन गांवों के 34 लोगों की अभी तक मौत हो चुकी है। शनिवार सुबह सिविल अस्पताल में मृतकों पोस्टमार्टम शुरू हुआ। 8 शवों का पोस्टमार्टम हुआ ही था कि तभी भीम आर्मी के कुछ नेता आकर कार्रवाई का विरोध करने लगे। उनके साथ कुछ परिजन भी थे। भीम आर्मी कार्यकर्ता मृतक आश्रितों को दस लाख रुपये मुआवजा और एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग करने लगे। इसके चलते तीन घंटे पोस्टमार्टम की प्रक्रिया बाधित रही। हालांकि, बाद में परिजनों ने खुद को इस मांग से अलग कर लिया, तब जाकर पोस्टमार्टम शुरू हो पाया।
सरकारी और निजी अस्पतालों में उपचार
जहरीली शराब पीने से बीमार 70 से ज्यादा लोगों का देहरादून और हरिद्वार के सरकारी और निजी अस्पतालों में उपचार चल रहा है। सिविल अस्पताल रुड़की में भर्ती 49 लोगों में से 32 की शनिवार सुबह अचानक तबीयत बिगड़ गई। उन्हें एक के बाद एक छाती में दर्द, धुंधला दिखने, सांस लेने में तकलीफ और उल्टी की शिकायत होने लगी। आनन-फानन में इन सभी को देहरादून और हरिद्वार के लिए रेफर किया गया। सभी की हालत नाजुक बताई जा रही है।

यूपी में जहरीली शराब से मौतों पर सीएम सख्त कई पुलिसकर्मी सस्पेंड, आर्थिक मदद का ऐलान


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.