तो फिर गहराया आतंक का साया

2019-04-23T06:00:16+05:30

- अंतिम चरण में गोरखपुर क्षेत्र में जुटेंगे कई दिग्गज नेता

- रेलवे स्टेशन उड़ाने की आतंकी धमकी से मचा है हड़कंप

GORAKHPUR: नेपाल बॉर्डर से सटे गोरखपुर जंक्शन को बम से उड़ाने की धमकी ने पुलिस का सिरदर्द बढ़ा दिया है। इलेक्शन के अंतिम चरण में गोरखपुर सहित नौ रेलवे स्टेशनों पर बम फोड़ने की चिट्ठी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयब्बा के एरिया कमांडर (जम्मू-कश्मीर) के नाम से भेजी गई चिट्ठी रुड़की के स्टेशन मास्टर को मिली थी। धमकी की गंभीरता को देखते हुए पुलिस सुरक्षा मुख्यालय ने सभी जिला पुलिस प्रमुखों और एसपी रेलवे को पत्र भेजकर सतर्कता बरतने को कहा है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि बॉर्डर सहित अन्य पब्लिक प्लेस पर सजगता बरती जाएगी। संदिग्धों की तलाश में सरप्राइज चेकिंग की जाएगी।

मंसूर अहमद ने भेजी है धमकी भरी चिट्ठी

पुलिस से जुड़े लोगों का कहना है कि 18 अप्रैल को रुड़की के स्टेशन मास्टर को एक पत्र मिला। जिसमें अपने साथी जरूरुद्दीन की मौत का बदला लेने की बात कहते हुए पत्र भेजने वाले ने अपना नाम मंसूर अहमद लिखा है। उसने खुद को लश्कर-ए-तैयब्बा का एरिया कमांडर (जम्मू-कश्मीर) बताया है। पत्र मिलने के बाद से पूरे प्रदेश में अलर्ट जारी किया गया है। लोकसभा चुनाव के दौरान वीआईपी मूवमेंट को देखते हुए पुलिस के माथे पर बल आ गया है। खासकर नेपाल बॉर्डर से सटे इलाकों में होने वाली गतिविधियों को देखते हुए सरगर्मी बढ़ गई है।

साथ नहीं रखा पहचान पत्र तो बढ़ेगी मुश्किल

आतंकी संगठन लश्कर ए तैयब्बा की धमकी पहले भी मिल चुकी है। धमकी का सीधा असर इंडो-नेपाल बॉर्डर पर स्थित महराजगंज, बहराइच, बलरामपुर, श्रावस्ती, बहराइच, लखीमपुर, पीलीभीत और सिद्धार्थनगर जिलों की करीब 550 किलोमीटर लंबी सीमा पर पड़ता है। सिद्धार्थनगर और महराजगंज जिलों से बॉर्डर पार करके संदिग्ध भारत में घुसपैठ करते हैं। कई बार बॉर्डर पर ऐसे मामले पकड़े जा चुके हैं।

अंतिम चरण का चुनाव, बढ़ जाएगा वीआईपी मूवमेंट

गोरखपुर सहित यूपी के 14 लोकसभा सीटों पर इलेक्शन होंगे। इनमें गोरखपुर और वाराणसी अतिमहत्वपूर्ण जगहों में शुमार हैं। अंतिम चरण में गोरखपुर, महराजगंज, कुशीनगर, देवरिया, बांसगांव सुरक्षित, घोसी, सलेमपुर, बलिया, गाजीपुर, चंदौली, वाराणसी, मिर्जापुर और राब‌र्ट्सगंज सुरक्षित लोकसभा सीट शामिल हैं। जबकि छठवें चरण में नेपाल बॉर्डर के श्रावस्ती, डुमरियागंज में चुनाव होने हैं। गोरखपुर जोन में नेपाल बॉर्डर से सटे सिद्धार्थनगर और महराजगंज जिले काफी संवेदनशील हैं। यहां बॉर्डर को पार करके आतंकी संगठन, संदिग्ध और कश्मीरी चोरी-छिपे दिल्ली होते हुए कश्मीर पहुंचने की कोशिश करते हैं। इलेक्शन के लास्ट फेज में गोरखपुर और वाराणसी में वीआईपी मूवमेंट बढ़ जाएगा। सुरक्षा एजेंसियों की लिस्ट में दोनों जिले संवेदनशील की श्रेणी में शामिल हैं।

इन रेलवे स्टेशनों को उड़ाने की धमकी

गोरखपुर

लखनऊ

रामपुर

शाहजहांपुर

बरेली

फैजाबाद

लक्सर

देहरादून

हरिद्वार

बॉक्स

रेलवे स्टेशन पर शुरू हुई चेकिंग

श्रीलंका में हुई आतंकी घटना और स्टेशन पर विस्फोट करने की मिली धमकी को लेकर जीआरपी व आरपीएफ अलर्ट मोड में है। रविवार शाम को सीओ जीआरपी श्रीप्रकाश राय, थाना प्रभारी अजीत सिंह और आरपीएफ पोस्ट प्रभारी रणजीत ने डॉग और बम स्क्वॉयड के साथ दो घंटे तक स्टेशन परिसर व प्लेटफॉर्म पर सघन चेकिंग कराई थी।

बॉर्डर पर आवागमन में बढ़ सकती है सांसत

इलेक्शन के दौरान बॉर्डर पर संदिग्ध गतिविधियों को देखते हुए निगरानी बढ़ा दी गई है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि बिना जांच पड़ताल के किसी को बॉर्डर से आने की अनुमति नहीं मिलेगी। बॉर्डर पर पहचान पत्र के अभाव में आवागमन में मुश्किल हो सकती है। इसलिए चेकिंग के लिए बनाए गए बैरियर सभी लोगों की सघनता से जांच की जाएगी।

वर्जन

आतंकी धमकियों को देखते हुए बॉर्डर पर अलर्ट जारी किया गया है। हर जिले में पुलिस सरप्राइज चेकिंग करेगी। इलेक्शन में वीआईपी मूवमेंट को देखते हुए सुरक्षा पुख्ता रहेगी। संदिग्ध व्यक्तियों की निगरानी के लिए पुलिस टीम सादे कपड़ों में भी मौजूद रहेगी। मतदान के संदिग्धों की घुसपैठ रोकने के लिए बॉर्डर सील रहेगा।

- दावा शेरपा, एडीजी जोन गोरखपुर

inextlive from Gorakhpur News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.