पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बनने के लिए इन रास्तों से गुजरे इमरान खान

2018-08-18T12:58:00+05:30

इमरान खान ने पाकिस्तान के 22वें प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ले ली है। उनसे जुड़ी खास बाते बतायेंगे।

इस्लामाबाद (पीटीआई)। पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर और पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के प्रमुख इमरान खान राजनीतिक पारी का कमान संभाल चुके हैं। शपथ ग्रहण के बाद उन्हें पाकिस्तान का नया वजीर-ए-आजम घोषित कर दिया गया है। आइये जानें आखिर इमरान का कैसा रहा राजनीति के शिखर पर आने तक का सफर।


इन पड़ाव से गुजरकर प्रधानमंत्री की कुर्सी तक पहुंचे इमरान खान

25 अप्रैल, 1996: इमरान खान ने पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) राजनीतिक दल की स्थापना की।
10 अक्टूबर 2002: खान ने 2002 के आम चुनावों में हिस्सा लिया और संसद सदस्य के रूप में चुने गए।
19 नवंबर, 2007: खान को पूर्व सैन्य शासक जनरल (सेवानिवृत्त) परवेज मुशर्रफ के शासन की आलोचना करने को लेकर गिरफ्तार किया गया था।
11 मई, 2013: खान ने नागरिकों से वादा किया कि वे पाकिस्तान को भ्रष्टाचार मुक्त बनाएंगे और देश को 'नया पाकिस्तान' में तब्दील करेंगे।

25 जून, 2016:
पनामा पेपर्स मामला उजागर होने के बाद खान ने ऐलान किया कि वे तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे।
2 नवंबर, 2016: पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के नेता हनीफ अब्बासी ने अदालत में इमरान खान के अयोग्यता पर याचिका दायर की, उनपर मनी-लौन्ड्रिंग, संपत्ति छुपाने और पीटीआई को विदेशी फंड मिलने जैसे कई गंभीर आरोप लगाए।
3 मई, 2017: पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई शुरू कर दी और इमरान को इस्लामाबाद में स्थित उनके अवैध संपत्ति का ब्योरा पेश करने का निर्दश दिया।
1 जून, 2017: खान की पूर्व पति जेमिमा गोल्डस्मिथ ने ट्वीट किया कि उन्हें बैंक स्टेटमेंट्स मिल गए हैं, जिससे अदालत में ये साबित हो जायेगा कि इमरान बेगुनाह हैं।
15 दिसंबर, 2017: सुप्रीम कोर्ट ने खान के पक्ष में फैसला सुनाया और पाकिस्तान की भ्रष्टाचार विरोधी अदालत ने इमरान की बात सुनते हुए पनामा पेपर्स मामले में नवाज शरीफ और उनके परिवार की जांच शुरू कर दी।
27 मई, 2018: पाकिस्तान में 25 जुलाई को आम चुनाव की घोषणा हुई।
25 जुलाई, 2018: पाकिस्तान में नागिरकों ने वोटिंग किया।
जुलाई, 26, 2018: इमरान खान ने आम चुनाव में जीत हासिल की और उनपर धोखाधड़ी से चुनाव में जीत हासिल करने का आरोप लगाया गया।
28 जुलाई, 2018: खान की पीटीआई 116 सीटों के साथ नेशनल असेंबली में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी।
6 अगस्त, 2018: पीटीआई ने खान को पाकिस्तान के अगले प्रधानमंत्री के रूप में नामित किया।

7 अगस्त, 2018:
चुनाव आयोग ने खान को प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेने की इजाजत दे दी।
15 अगस्त, 2018: पाकिस्तान संसद ने खान की पार्टी के उम्मीदवारों को अध्यक्ष और उप सभापति के रूप में चुना।
17 अगस्त, 2018: खान ने नेशनल असेंबली में पीएमएल-एन की ओर से मैदान में उतरे प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार शेहबाज शरीफ को हराया।
18 अगस्त, 2018: खान ने पाकिस्तान के 22वें प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली।

इमरान खान शपथ समारोह : पाकिस्तान उच्चायोग के अधिकरियों से मिले सिद्धू, यात्रा को लेकर हुई बात

पाकिस्तान : 11 अगस्त नहीं बल्कि 14 अगस्त को इमरान खान ले सकते हैं शपथ


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.