लोकसभा चुनाव 2019 सियासी पांव जमाने के लिए प्रियंका ने बजरंग से बल और गंगा से मांगा आशीष

2019-03-19T06:00:07+05:30

गंगा जल से किया आचमन दीप दान करके चढ़ाया दूध अक्षयवट का किया दर्शन

- लेटे हनुमान मंदिर में विधिवत किया दुग्धाभिषेक, आरती उतारी

- सीतामढ़ी में रुका कारवां, मनईया, सिरसा में स्वागम को उमड़ी भीड़

prayagraj@inext.co.in
PRAYAGRAJ: कांग्रेस के लिए उत्तर प्रदेश में जमीन तैयार करने का आशीष मांगने राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा सोमवार को लेटे हनुमान मंदिर, संगम और फिर अक्षयवट पहुंचीं. हनुमान मंदिर में विधि-विधान से दुग्धाभिषेक करके आरती उतारी. संगम पर मां गंगा के जल से अचामन किया. दुग्धाभिषेक किया और फिर दीप दान किया. अक्षयवट का दर्शन करने के बाद प्रियंका सियासी सफर पर निकल पड़ीं. पहले दिन उनकी यात्रा का पड़ाव जिले ही सरहद (मूल रूप से भदोही जिला) पर स्थित सीतामढ़ी था. रास्ते में मनईया, सिरसा घाट पर उनका स्वागत हुआ. हंडिया में उन्होंने सुरक्षा घेरा तोड़कर महिलाओं से मुलाकात की.

20 को बनारस पहुंचने पर समापन
सियासी सफर पर निकली प्रियंका गांधी ने हरे रंग की बार्डर वाली साड़ी ठीक उसी अंदाज में पहन रखी थी जैसे उनकी दादी इंदिरा गांधी पहना करती थीं. स्वराज भवन से निकलकर उनका कारवां सीधे लेटे हनुमान मंदिर पहुंचा. यहां अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेन्द्र गिरी और योग गुरु आनंद गिरी के नेतृत्व में ब्राह्माणों के मंत्रोच्चार के बीच उन्होंने दुग्धाभिषेक और आरती की. इसके बाद उनका काफिला संगम के लिए निकल पड़ा.

तीन मिनट में पूरा हुआ गंगा पूजन
संगम पहुंचने के बाद प्रियंका ने करीब तीन मिनट तक मां गंगा की आराधना की. दुग्धाभिषेक किया. दीप दान किया. पुष्प अर्पित किया और फिर नारियल और चुनरी चढ़ाई. आरती करने के बाद गंगा जल का आचमन किया. यहां उन्होंने कहा कि एक मां का दर्द बेटी ही समझ सकती है. ठीक उसी तरह जैसे मैं मां गंगा का दर्द समझ सकती हूं. इस दर्द को दूर करने का जितना संभव होगा प्रयास करुंगी.

नाव पर बैठी चौपाल
गंगा पूजन के बाद प्रियंका एसपीजी सुरक्षा के घेरे में अरैल तक के लिए नाव पर सवार हुई. रास्ते में उन्होंने नाव पर ही चौपाल सजा ली. इसमें कांग्रेसी के साथ कुछ युवा भी शामिल थे. अरैल घाट पर उतरकर वे कार में सवार हुई और मनईया घाट पहुंचीं. यहां हजारों की भीड़ ने उनका स्वागत किया. घाट पर स्पेशल मोटर बोट स्टीमर में सवार हुई और जल यात्रा पर निकल पड़ीं. तहजीब यात्रा के पहले दिन ही प्रियंका एसपीजी द्वारा तैयार किए गए सुरक्षा घेरे को तोड़कर कई बार पब्लिक के बीच पहुंचीं.

सिरसा में किया पैदल मार्च
जल यात्रा का पहला पड़ाव दुमदुमा और दूसरा सिरसा में था. रास्ते में प्रियंका ने गंगा किनारे रहने वाले लोगों से मुलाकात की. सिरसा में वह नाव से उतरकर पैदल चल पड़ीं. करीब एक दर्जन घरों में जाकर लोगों से मुलाकात की. उनका हालचाल पूछा व समस्याएं जानी. सेजल और अंशिका नाम की दो बच्चियों से पढ़ाई के बारे में पूछा.


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.