MillennialsSpeak #RaajniTEA में गोरखपुर में उठी अावाजअब युद्ध नहीं रोजगार देने वाली सरकार चाहिए

2019-03-13T11:14:57+05:30

दैनिक जागरण आई नेक्स्ट और रेडियो सिटी की ओर से ऑर्गनाइज्ड राजनीटी का मंच सीतापुर आई हॉस्पिटल रोड स्थित ब्रिटिश कम्यूनिकेशन इंस्टीट्यूट में सजा तो मिलेनियल्स ने दिल खोलकर अपनी बातें रखीं

GORAKHPUR@inext.co.in
GORAKHPUR: लोकसभा चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद से ही जहां चुनावी सरगर्मी बढ़ गई है। वहीं, वहीं यंग वोटर्स भी इस बार के लोकसभा चुनाव में पहली बार अपने वोटिंग राइट्स का यूज करने को लेकर बेहद एक्साइटेड नजर आ रहे हैं। दैनिक जागरण आई नेक्स्ट और रेडियो सिटी की ओर से ऑर्गनाइज्ड राजनी-टी का मंच सीतापुर आई हॉस्पिटल रोड स्थित ब्रिटिश कम्यूनिकेशन इंस्टीट्यूट में सजा तो मिलेनियल्स ने दिल खोलकर अपनी बातें रखीं। युवाओं में जहां अपने वोटिंग राइट्स को लेकर उत्सुकता नजर आई, वहीं सरकार चुनने के मामले में उन्होंने रोजगार को मुख्य मुद्दा बताया। देश की सुरक्षा का मुद्दा भी इस दौरान प्रमुखता से उठा।

युवाओं ने बेबाकी से रखी राय
रेडियो सिटी की ओर से कार्यक्रम का संचालन कर रहे आरजे प्रतीक ने सबसे पहले सभी को मिलेनियल्स का मतलब समझाया। मिलेनियल्स ने भी खूब सवाल-जवाब किए। युवाओं ने वर्तमान सरकार की कुछ योजनाओं की तारीफ की तो कुछ योजनाओं को और मजबूत करने की सलाह दी। लेकिन वोट के मुद्दे पर सभी ने रोजगार को ही मेन मुद्दा माना। साथ ही डिजीटल इंडिया, स्टार्ट अप इंडिया, मेक इन इंडिया, करप्शन, एलपीजी सब्सिडी समेत सुरक्षा व्यवस्था जैसे मुद्दों पर भी बेबाकी से अपनी बात रखी।

 

 

सुलझें युवाओं की समस्याएं
चर्चा में शामिल हुए आरके श्रीवास्तव ने कहा कि देश की सुरक्षा बेहद जरूरी है। लेकिन इसके साथ ही देश का विकास भी जरूरी है। इसी क्रम में जहां आम जनमानस को रोटी, कपड़ा और मकान की जरूरत है। वहीं डिजीटल इंडिया जैसे मुद्दों पर बात करने वाले जिम्मेदारों को भी गंभीर होना होगा। उज्ज्वला गैस योजना को लेकर भी मंथन किया जाए। प्रेम प्रकाश ने कहा कि युवा बेरोजगार हैं जिन्हें रोजगार की जरूरत है। इस पर ठोस कदम उठाए जाने की जरूरत है।

 

तभी हो सकेगा देश का विकास
चर्चा में ज्यादातर युवाओं ने यही कहा कि उन्हें रोजगार चाहिए। क्योंकि देश के विकास में आज के युवाओं का अहम रोल है। ऐसे में अगर पढ़े लिखे बेरोजगार युवा हाथ पर हाथ धरे बैठे रहेंगे तो फिर न तो युवा का विकास हो सकेगा और न ही देश ही आगे बढ़ेगा। इसलिए बिना किसी भ्रष्टाचार के अगर युवाओं के लिए भर्ती के रास्ते खोले जाएं तो निश्चित तौर पर मिलेनियल्स को इसका लाभ मिल सकेगा।

मेरी बात

बेसिक एजुकेशन में सुधार की जरूरत है। क्योंकि बच्चों का फ्यूचर ब्राइट करना है तो इसके लिए कहीं न कहीं बेसिक एजुकेशन पर जोर देना होगा। इसे मजबूत करने के लिए बेसिक स्कूलों के टीचर्स को मजबूत होना होगा। वहीं टीचर्स के रिक्रूटमेंट में होने वाली तमाम तरह की खामियों में कहीं न कहीं सुधार की जरूरत है। इसमें भी भ्रष्टाचार व्याप्त है। यूनिवर्सिटी में भी हो रही टीचर्स भर्ती में काफी गड़बडि़यां नजर आई हैं। लेकिन इस पर प्रशासन को ध्यान देना होगा और सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।

- डॉ। नीलिमा

कड़क मुद्दा
विभिन्न शहरों में सफाई व्यवस्था वाली फर्म के भुगतान न होने से सफाई कर्मिचारियों का बुरा हाल हो जाता है। आलम यह है कि सफाई कर्मचारियों के भुगतान न होने के कारण सफाई व्यवस्था में भी कहीं न कहीं फ्लेयोर नजर आ रहा है। सिस्टम के जिम्मेदारों को इसके लिए कहीं न कहीं नियमों का कड़ाई से पालन कराते हुए इस व्यवस्था में सुधार करने की जरूरत है।

सतमोला खाओ, कुछ भी पचाओ
वैसे तो फील्ड में बहुत से नेता हैं जिन्होंने जीतने के बाद पब्लिक को किसी काम का न मानकर अपनी मनमर्जी की और सिर्फ जेब भरने का काम किया है। लेकिन अब वो समय आ गया है, जब पब्लिक अपने वोटिंग राइट्स का एहसास उन्हें कराएगी। जिसने अपने कार्यकाल में जैसे काम किए है, उसको उसी के अनुसार वोट भी दिए जाएंगे। इस बार यूथ पढ़ा लिखा और समझदार है और नेताओं की मानसिकता समझता है जिसे धोखा देना अब नेताओं के लिए कुछ मुश्किल होगा।

कोट्स

विकास तभी होगा जब युवाओं का विकास होगा। रोजगार जब तक युवाओं को नहीं मिलेगा एक अच्छी सरकार का निर्माण नहीं हो सकेगा। इसलिए युवाओं को जो रोजगार देने की बात करेगा, उन्हें रोजी-रोटी के साधन मुहैया कराएगा, उसे ही मेरा वोट जाएगा.
अमन विश्वकर्मा

देश की सुरक्षा पहली प्राथमिकता है। लेकिन इससे पहले अपने ही देश के भीतर की तमाम समस्याओं को दूर किए जाने की आवश्यकता है। क्योंकि आज की डेट में बेरोजगारी एक बड़ा मुद्दा बन चुका है। लेकिन इसे दूर करने के लिए सरकार जहमत नहीं उठाती है। केवल बड़ी-बड़ी बाते करते हैं लेकिन वैकेंसी तक नहीं निकालती।
शिवांगी

वर्तमान सरकार ने काम तो अच्छे किए, उसकी विदेशी नीतियां भी अच्छी लगीं लेकिन युवाओं को रोजगार से नहीं जोड़ पाए जो पढ़े लिखे युवाओं के लिए जरूरी है। इसके साथ-साथ जो स्वच्छता को लेकर कदम उठाए गए उससे तो निश्चित ही काफी सुधार आया है। इसलिए मेरा वोट उसे ही जाएगा जो रोजगार के लिए ठोस कदम उठाएगा.
|अंकुर

सर्वप्रथम देश है। देश में विकास जरूरी है। विकास के साथ युवाओं को रोजगार बेहद जरूरी है। इसलिए जो भी सरकार आए वह इस दिशा में ठोस कदम उठाए। क्योंकि रोजगार एक बड़ा मुद्दा है। भ्रष्टाचार जहां है उसे भी दूर किया जाना चाहिए.
जान्हवी

आज का सबसे हॉट टॉपिक है जातिवाद जिससे ऊपर उठने की जरूरत है। क्योंकि इंप्लॉइमेंट आज की नीड है। जब आप जातिवाद में उलझे रहेंगे तो फिर इंप्लॉइमेंट कहां से देंगे। ऐसे में आज के युवाओं को रोजगार की आवश्यकता है। युद्ध नहीं रोजगार चाहिए। मानवता की बात होनी चाहिए। बदलाव जरूरी है.
- अखिलेश

जो युवाओं के रोजगार संबंधी बातें करेगा उसे ही मेरा वोट जाएगा। क्योंकि युवा ही देश का भविष्य हैं। अगर वह मानसिक और आर्थिक रूप से सक्षम नहीं होगा तो फिर विकास कार्य में बाधा उत्पन्न होगी। ऐसे में युवाओं के रोजगार संबंधी मुद्दों पर सरकार को सोचना होगा.|
सुनीता

न सिर्फ भारत बल्कि पूरे विश्व के लिए आतंकवाद एक गंभीर मुद्दा है। वर्तमान सरकार ने एयर स्ट्राइक कर निश्चित तौर पर सराहनीय कदम उठाया है। लेकिन कहीं न कहीं इसे जड़ से खत्म करने के लिए सरकार को विश्व स्तर पर विचार विमर्श करने की जरूरत है।
रानी रंजन

प्रतियोगी परीक्षाओं में आज की डेट में ज्यादातर पर्चा आउट हो जाता है फिर मुन्ना भाई पकड़े जाते हैं। इस कारण प्रतियोगी परीक्षाओं के रिजल्ट डिले होते हैं। कहीं न कहीं इसमें सुधार होना चाहिए। मेरा वोट उसे जाएगा जो युवाओं के बारे में सोचेगा।
बुद्धीराम


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.