कैरेक्टर मैटर करता है लुक्स नहीं राधिका आप्टे

2018-09-10T11:38:43+05:30

वर्सेटाइल एक्ट्रेस राधिका आप्टे ने हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में अपनी ऐसी जगह बनाई है जो दीपिका पादुकोण जैसी कॉमर्शियल और नंदिता दास जैसी आर्ट मूवी एक्ट्रेस के बीच है। अपने प्रोजेक्ट सेलेक्शन से भी इस एक्ट्रेस ने इम्प्रेस किया है। उनका कहना है कि यह तो बस उनकी शुरुआत है

features@inext.co.in    KANPUR: राधिका आप्टे इस वक्त फिल्म इंडस्ट्री की सबसे सक्सेसफुल एक्ट्रेसेस में से एक हैं। हालांकि, उनका कहना है कि फिल्म इंडस्ट्री में हर दिन सर्वाइव करना पड़ता है बीते कुछ सालों में इस एक्ट्रेस की प्रोग्रेस देखकर उन लोगों को अफसोस जरूर होता होगा जिन्होंने मेनस्ट्रीम मूवीज के लिए वेब सीरीज करने से मना कर दिया था।  अच्छे रोल पर रहता है फोकस राधिका को पहली बार शोर इन द सिटी (2011) मूवी में नोटिस किया गया था। इसके बाद उन्होंने शॉर्ट फिल्म अहल्या (2015), टीवी सीरीज चोखेर बाली (2015) और पार्च्ड (2016) जैसी मूवी के जरिए अपनी छाप छोड़ी। पर इस साल रिलीज हुई उनकी मूवी पैडमैन ने उन्हें नई ऊंचाइयों पर पहुंचा दिया। इस बात में कोई शक नहीं है कि सही वक्त पर सही जगह मौजूद रहने का फायदा इस एक्ट्रेस को भरपूर मिला है। उनका कहना है, 'ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा कि ऐसा कब तक रहता है। पर हां, मुझे जो भी ऑफर मिला था मैंने उसे एक्सेप्ट किया और कुछ सही फैसले भी लिए। मैंने सिर्फ अपने रोल के बारे में सोचा, प्लेटफॉर्म के बारे में नहीं।' 
हर तरह की मूवी के लिए तैयार  राधिका ने कई रिस्की प्रोजेक्ट्स को भी हाथ में लिया है, उनके अंदर यह कॉन्फिडेंस कहां से आता है? इसके जवाब में उन्होंने कहा, 'सोसाइटी आप पर डर को हावी करती है। अगर हम इसके दबाव में आते जाएंगे तो यह हमारे लिए अच्छा नहीं होगा। मैं ऐसे एक्सटर्नल फैक्टर्स पर ध्यान नहीं देती हूं। अगर मुझे कोई अच्छा 'इंडी' प्रोजेक्ट मिलता है तो मैं उसमें काम करूंगी। अगर मुझे कोई बड़ी कॉमर्शियल ब्लॉकबस्टर मूवी मिलती है तो मैं उसे भी करूंगी।' इस एक्ट्रेस के अनकन्वेंशनल लुक्स को लेकर भी काफी कुछ कहा जाता है जिसके चलते उनका कम्पैरिजन नंदिता दास जैसी एक्ट्रेस से होता है। इसको लेकर राधिका कहती हैं, 'अगर आपका कैरेक्टर ऑडियंस से कनेक्ट करता है तो आपके लुक्स मैटर नहीं करते।'  अभी तो बस शुरुआत है जब उनसे पूछा गया कि क्या वह अपनी सक्सेस को कायम रखने का प्रेशर महसूस करती हैं तो उनका कहना था, 'यह एक ऐसी इंडस्ट्री है जहां आपको डेली बेसिस पर इनसिक्योरिटी देखने को मिलेगी। यह पूरी तरह से इस बात पर डिपेंड करता है कि आप अगली बार क्या करेंगे पर एक्टिंग जैसे 'फ्रीलांस' काम के साथ इनसिक्योरिटी हमेशा जुड़ी रहती है जबकि किसी ऑफिस में सिक्योर जॉब करना बोरियत भरा हो जाता है। बात यहां सिर्फ सर्वाइवल की है। मैं सिर्फ इतना कह सकती हूं कि अभी मैंने सिर्फ शुरू किया है, अभी मुझे कई सालों का सफर तय करना है।' 

features@inext.co.in   

KANPUR: राधिका आप्टे इस वक्त फिल्म इंडस्ट्री की सबसे सक्सेसफुल एक्ट्रेसेस में से एक हैं। हालांकि, उनका कहना है कि फिल्म इंडस्ट्री में हर दिन सर्वाइव करना पड़ता है बीते कुछ सालों में इस एक्ट्रेस की प्रोग्रेस देखकर उन लोगों को अफसोस जरूर होता होगा जिन्होंने मेनस्ट्रीम मूवीज के लिए वेब सीरीज करने से मना कर दिया था। 

अच्छे रोल पर रहता है फोकस

राधिका को पहली बार शोर इन द सिटी (2011) मूवी में नोटिस किया गया था। इसके बाद उन्होंने शॉर्ट फिल्म अहल्या (2015), टीवी सीरीज चोखेर बाली (2015) और पार्च्ड (2016) जैसी मूवी के जरिए अपनी छाप छोड़ी। पर इस साल रिलीज हुई उनकी मूवी पैडमैन ने उन्हें नई ऊंचाइयों पर पहुंचा दिया। इस बात में कोई शक नहीं है कि सही वक्त पर सही जगह मौजूद रहने का फायदा इस एक्ट्रेस को भरपूर मिला है। उनका कहना है, 'ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा कि ऐसा कब तक रहता है। पर हां, मुझे जो भी ऑफर मिला था मैंने उसे एक्सेप्ट किया और कुछ सही फैसले भी लिए। मैंने सिर्फ अपने रोल के बारे में सोचा, प्लेटफॉर्म के बारे में नहीं।' 

हर तरह की मूवी के लिए तैयार 

राधिका ने कई रिस्की प्रोजेक्ट्स को भी हाथ में लिया है, उनके अंदर यह कॉन्फिडेंस कहां से आता है? इसके जवाब में उन्होंने कहा, 'सोसाइटी आप पर डर को हावी करती है। अगर हम इसके दबाव में आते जाएंगे तो यह हमारे लिए अच्छा नहीं होगा। मैं ऐसे एक्सटर्नल फैक्टर्स पर ध्यान नहीं देती हूं। अगर मुझे कोई अच्छा 'इंडी' प्रोजेक्ट मिलता है तो मैं उसमें काम करूंगी। अगर मुझे कोई बड़ी कॉमर्शियल ब्लॉकबस्टर मूवी मिलती है तो मैं उसे भी करूंगी।' इस एक्ट्रेस के अनकन्वेंशनल लुक्स को लेकर भी काफी कुछ कहा जाता है जिसके चलते उनका कम्पैरिजन नंदिता दास जैसी एक्ट्रेस से होता है। इसको लेकर राधिका कहती हैं, 'अगर आपका कैरेक्टर ऑडियंस से कनेक्ट करता है तो आपके लुक्स मैटर नहीं करते।' 

अभी तो बस शुरुआत है

जब उनसे पूछा गया कि क्या वह अपनी सक्सेस को कायम रखने का प्रेशर महसूस करती हैं तो उनका कहना था, 'यह एक ऐसी इंडस्ट्री है जहां आपको डेली बेसिस पर इनसिक्योरिटी देखने को मिलेगी। यह पूरी तरह से इस बात पर डिपेंड करता है कि आप अगली बार क्या करेंगे पर एक्टिंग जैसे 'फ्रीलांस' काम के साथ इनसिक्योरिटी हमेशा जुड़ी रहती है जबकि किसी ऑफिस में सिक्योर जॉब करना बोरियत भरा हो जाता है। बात यहां सिर्फ सर्वाइवल की है। मैं सिर्फ इतना कह सकती हूं कि अभी मैंने सिर्फ शुरू किया है, अभी मुझे कई सालों का सफर तय करना है।' 

ये भी पढ़ें: 'देसी' लुक में गजब ढा रहीं जैक्लिन, देखें तस्वीर



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.