लखनऊ समेत यूपी भर में राजनाथ सिंह ने की विकास कार्यों की बरसात

2019-03-08T12:15:54+05:30

राजनाथ बोले विकास कार्यों की इतनी बड़ी तादाद में शिलान्यास व लोकार्पण से अब लखनऊ का नया नाम लकनऊ। प्रदेश में 5972 किलोमीटर लंबी सड़क परियोजनाओं का किया लोकार्पण व शिलान्यास। 14 जिलों में नमामि गंगे प्रोजेक्ट के तहत 1969 करोड़ की लागत से गंगा समेत पांच नदियों पर एसटीपी। राजधानी के दो फ्लाईओवर का शिलान्यास अयोध्या रोडकुर्सी रोड आउटर रिंग रोड सेक्शन का भी लोकार्पण।

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लगने से पहले केंद्रीय गृहमंत्री व राजधानी से सांसद राजनाथ सिंह ने गुरुवार को प्रदेश में विकास कार्यों के शिलान्यास व लोकार्पण की झड़ी लगा दी। कार्यक्रम में प्रदेश की 1.10 लाख करोड़ की लागत से 5972 किलोमीटर सड़क परियोजनाओं के साथ गोमती समेत पांच नदियों को प्रदूषण मुक्त करने के लिये 14 शहरों में 1.97 हजार करोड़ रुपए की एसटीपी परियोजना का भी शिलान्यास व लोकार्पण किया। इसके अलावा राजधानी की 13 हजार करोड़ रुपये की लागत की परियोजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण किया गया। इसमें दो नये फ्लाईओवर्स का शिलान्यास, अयोध्या रोड-कुर्सी रोड के बीच आउटर रिंग रोड सेक्शन का लोकार्पण, दो नये एसटीपी का शिलान्यास समेत विभिन्न परियोजनाएं शामिल हैं। इस मौके पर केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य व डॉ. दिनेश शर्मा, कैबिनेट मंत्री ब्रजेश पाठक समेत कई मंत्री व सांसद मौजूद रहे।
गढ़ दिया लखनऊ का नया नाम
झूलेलाल पार्क में आयोजित भव्य कार्यक्रम में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि 1.25 लाख करोड़ रुपये की परियोजनाओं को लखनऊ की धरती से शिलान्यास व लोकार्पण किया जा रहा है। कहा, मुझे याद नहीं आता कि इतनी भारी संख्या में विकास कार्यों का एक साथ कभी भी लोकार्पण या शिलान्यास किया गया हो। ऐसे में अब लखनऊ वास्तव में 'लक-नऊ' हो गया है। कार्यक्रम में मौजूद मंत्री नितिन गडकरी की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने विकास परियोजनाओं के लिये मंजूरी देने में कभी भी देरी नहीं की और न ही धन की कमी होने दी।
राजधानी के विकास कार्यों का जिक्र
राजधानी के विकास कार्यों की जानकारी देते हुए गृहमंत्री ने कहा कि शहर में ट्रैफिक का बोझ कम करने के लिये तीन फ्लाईओवर्स का काम तेजी से चल रहा है। जबकि, चार और फ्लाईओवर्स पर भी जल्दी ही काम शुरु होगा। बताया कि जानकीपुरम में 100 बेड का ट्रॉमा सेंटर खोला जा रहा है, जिससे लखनऊ-सीतापुर रोड से जुड़े लोगों को आकस्मिक चिकित्सा उपलब्ध हो सकेगी। उत्तर रेलवे स्टेशन, लखनऊ जंक्शन, ऐशबाग रेलवे स्टेशन, आलमनगर रेलवे स्टेशन में किये जा रहे तमाम विकास कार्यों का भी उन्होंने इस मौके पर शिलान्यास किया। पूर्व प्रधानमंत्री व राजधानी के पूर्व सांसद अटल बिहारी वाजपेयी को याद करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि अटल जी ने राजधानी के लिये जो सपना देखा था उसी को साकार कर रहे हैं।
जिनका शिलान्यास, वह योजनाएं होंगी पूरी'
इस मौके पर मौजूद केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि उनके मंत्रालयों के तहत यूपी में 3.25 लाख करोड़ रुपये की योजनाएं या तो पूरी की जा चुकी हैं या निर्माण के विभिन्न चरणों में है। इनमें से करीब 13 हजार करोड़ रुपये की योजनाएं सिर्फ लखनऊ में चलाई जा रही हैं। बताया कि नमामि गंगे परियोजना के तहत गोमती नदी की सफाई के लिये 300 करोड़ रुपये मंजूर किये गए हैं। गडकरी ने विश्वास दिलाया कि जिन भी परियोजनाओं का आज शिलान्यास हो रहा है उन्हें हर हाल में पूरा किया जाएगा और जनता के साथ विश्वाघात नहीं होगा। कुंभ मेले के दौरान गंगा नदी में प्रचुर मात्रा में स्वच्छ जल उपलब्ध होने की चर्चा करते हुए कहा कि गंगा जल प्रदूषण की मात्र 30 प्रतिशत की परियोजनाओं के पूरा होने पर यह हाल है तो जब सभी परियोजनाएं पूरी हो जाएंगी तो सोचिए गंगा नदी का पानी कितना स्वच्छ हो जाएगा।

सीएम को सलाह, गंगा नदी किनारे बनाएं एसईजेड

वाराणसी से हल्दिया के बीच 1 हजार 86 किलोमीटर लंबे जलमार्ग के सफल संचालन की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि यमुना नदी में दिल्ली से प्रयागराज के बीच जलमार्ग तैयार करने के लिये 12 हजार करोड़ रुपये का डीपीआर तैयार है। उन्होंने कहा कि माल ढुलाई पर रोड के जरिए अगर किसी माल भाड़े की लागत 10 रुपये आती है तो रेल के जरिए भेजने पर 6 रुपये जबकि, जल मार्ग के जरिए भेजने पर यह लागत महज एक रुपये हो जाती है। गंगा बेसिन मे ंदेश की 48 प्रतिशत जनसंख्या के निवास का उल्लेख करते हुए गडकरी ने सीएम योगी आदित्यनाथ को सलाह दी कि वे गंगा बेसिन में स्पेशल इकोनॉमिक जोन बनाएं, ताकि प्रदेश में तैयार माल कम कीमत में अन्य जगहों पर पहुंच सके। इससे प्रदेश में निर्मित माल सस्ता होने पर बाजार में दूसरों को टक्कर दे सकेगा।
पानी बेचकर करें आमदनी
नागपुर में एसटीपी से स्वच्छ होकर निकलने वाले पानी का उल्लेख करते हुए गडकरी ने सीएम योगी को बताया कि जब वे महाराष्ट्र में मंत्री थे तो उन्होंने एसटीपी से निकलने वाले इस स्वच्छ जल को बेचकर सरकार की 20 करोड़ रुपये सालाना की आमदनी कराई। उन्होंने सीएम योगी को भी सुझाव दिया कि वे एसटीपी से साफ होकर निकलने वाले पानी को विभिन्न फैक्ट्रियों या पावर प्लांट्स को बेचकर सरकार की आमदनी बढ़ाने की सलाह दी।

'पानी से भी तेल निकाल लेते हैं गडकरी'

विकास कार्यों के लोकार्पण व शिलान्यास के बाद उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए राजनाथ सिंह ने नितिन गडकरी की तारीफ करते हुए चुटकी ली। उन्होंने कहा कि गडकरी ने कभी भी उनके सुझाव को नजरंदाज नहीं किया और प्रदेश के किसी काम में धन की कमी नहीं आड़े आने दी। उन्होंने कहा कि गडकरी में वह क्षमता है कि वे 'पानी से भी तेल निकाल लेते हैं। वहीं कार्यक्रम में मौजूद सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पिछले 23 महीने में केंद्र सरकार और गडकरी के सहयोग से राज्य की सड़कों का जबरदस्त कायाकल्प हुआ है। कुंभ मेले के दौरान गंगा में प्रचुर मात्रा में स्वच्छ जल का प्रवाह का श्रेय नमामि गंगे परियोजना को देते हुए कहा कि  पिछली बार कुंभ में 12 करोड़ श्रद्धालु पहुंचे थे, जबकि इस बार 24 करोड़ श्रद्धालुओं ने संगम में डुबकी लगाई।    
इन परियोजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण
- 1.10 लाख करोड़ से प्रदेश में 5962 किलोमीटर लंबी सड़क परियोजना
- 1969 करोड़ से नमामि गंगे के तहत 14 शहरों में एसटीपी की परियोजनाएं
- 298 करोड़ से गोमती प्रदूषण नियंत्रण परियोजना
- 3362 करोड़ रुपये से सुल्तानपुर रोड 4 लेन चौड़ीकरण
- 754 करोड़ रुपये से निर्मित अयोध्या रोड-कुर्सी रोड तक 8 लेन आउटर रिंग रोड सेक्शन
- 4700 करोड़ रुपये से 63 किलोमीटर लखनऊ-कानपुर ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस वे
- 136 करोड़ रुपये से इंजीनियरिंग कॉलेज चौराहा-आईआईएम तिराहे तक फ्लाईओवर का निर्माण
- 95 करोड़ रुपये से कुर्सी रोड-टेढ़ी पुलिया फ्लाईओवर का शिलान्यास
- 180 करोड़ से 6 लेन कुकरैल फ्लाईओवर
- 188 करोड़ से 25 किलोमीटर लंबे महत्वपूर्ण रोड के निर्माण
- 2.53 करोड़ से जानकीपुरम में 100 बेड ट्रॉमा सेंटर
- 1.36 करोड से बेंती गांव में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र
- 1.88 करोड़ से लखनऊ जंक्शन पर दो एस्केलेटर्स
- 1.88 करोड़ से ऐशबाग जंक्शन पर दो एस्केलेटर्स
- 3.50 करोड़ से लखनऊ सिटी स्टेशन पर द्वित्तीय प्रवेश द्वार
- 5.50 करोड़ से उत्तर रेलवे चारबाग स्टेशन पर 6 एस्केलेटर्स


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.