रांची से विमान यात्रा खतरनाक

2018-10-23T06:00:19+05:30

RANCHI: रांची से विमान यात्रा करना दिनोंदिन खतरनाक होता जा रहा है। एयरपोर्ट पर लगातार बर्ड हिट की घटनाएं हो रही हैं, जिसके कारण लोगों में खौफ का माहौल है। लैंडिंग और टेक आफ के समय पर पक्षियों के प्लेन से टकराने की घटनाओं के कारण सैकड़ों यात्रियों की जान बार- बार बाल- बाल बच रही हैं। विगत कुछ महीनों के भीतर कई बार पक्षी के विमान से टकराने की खबरें आती रहीं लेकिन सुरक्षा के व्यापक प्रबंध नहीं किए गए जिसके कारण कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है। न तो एयरपोर्ट पर पूरे समय बर्ड चेजर की टीम तैनात रहती है और न ही उनके पास आधुनिक तकनीक है। 24 घंटे विमान सेवा शुरू करने की तैयारी तो रांची एयरपोर्ट पर कर ली गई है, लेकिन अभी भी बर्ड हिट से निपटने के लिए कोई ठोस उपाय नहीं किया गया है। एयरपोर्ट के आसपास मटन की बिक्री हो रही है जिसके कारण रात में बर्ड हिट के मामले भी अब आने लगे है। चिंता की बात यह है कि रात में इसे रोकने के लिए कोई भी व्यवस्था नहीं है.

बर्ड चेजर टीम सिर्फ दिन में

विमान से पक्षी के टकराने की आशंका अक्सर विमान के टेकऑफ और लैंडिंग के समय होती है। रांची एयरपोर्ट पर बर्ड हिट की आशंका खत्म करने के लिए बर्ड चेजर की टीम रनवे पर केवल सात बजे सुबह से सात बजे शाम तक ही तैनात रहती है। ज्ञात हो की रांची एयरपोर्ट पर अभी तक अंतिम विमान रात 9 बजकर 30 मिनट पर उड़ान भरता है। एयरपोर्ट अथॉरिटी ने रात में विचरण करने वाले पक्षियों से विमान की सुरक्षा के लिए कोई इंतजाम नहीं किए हैं। ऐसे में बर्ड हिटिंग से बड़ी दुर्घटना की आशंका बनी रहती है.

मैन्युअल तरीके आसमानी हिफाजत

रांची एयरपोर्ट के पास बर्ड हिट से निपटने के लिए ऑटोमेटिक इलेक्ट्रानिक डिवाइस उपलब्ध नहीं है। चेजर टीम के सदस्यों द्वारा रिफ्लेक्टर रीवन, गुलेल, पटाखा, जोन गन, लेजर टॉर्च, विंगावेलर के सहारे पक्षियों को दूर भगाया जाता है। विमान लैंडिग के दौरान भी एयरपोर्ट के अंदर पक्षियों का झुंड मंडराता रहता है.

मांस- मछली के कारण मंडरा रहे पक्षी

एयरपोर्ट के तीन किमी का दायरा मटन बिक्री के लिए प्रतिबंधित होता है, लेकिन बिरसा चौक, विधान सभा के पास, सेक्टर टू मार्केट, हिनू चौक, डोरंडा आदि क्षेत्रों में खुले में मांस- मछली बिकते हैं। इसकी गंध पाकर पक्षी इस ओर आकर्षित होते हैं। एयरपोर्ट अथॉरिटी और नगर निगम की इंफोर्समेंट टीम समय- समय पर प्रतिबंधित क्षेत्र में खुले में मांस- मछली बेचने वालों के खिलाफ अभियान चलाकर जुर्माना भी वसूलती है, लेकिन मांस- मछली की दुकानें पहले की तरह फिर से सज जाती हैं। एयरपोर्ट सुरक्षा के तमाम नियमों को ताक पर रखकर लगाया जा रहा यह बाजार हर दिन दुर्घटनाओं को न्योता दे रहा है।

ऊंचे भवनों से घिरा एयरपोर्ट

बिरसा चौक से हवाई नगर जाने वाली सड़क ठीक रनवे मैदान से सटी हुई है। इस मैदान में जी प्लस 4 भवनों का नक्शा पास किया जा रहा है। एयरपोर्ट और विमान की सुरक्षा की दृष्टि से इस एरिया में इतने ऊंचे भवनों को अनुमति नहीं मिलनी चाहिए लेकिन नगर निगम की सांठगांठ से यह काम जबरदस्त गति से चल रहा है। इन ऊंचे भवनों, अपार्टमेंट्स, होटल आदि की छतों पर पक्षियों का जमघट लगा रहता है। पक्षियों ने बकायदा अपना डेरा जमा लिया है जहां सैकड़ों की संख्या में ये नजर आते हैं। इन्ही पक्षियों का झुंड अक्सर उड़ते हुए रनवे पर विमान से टकरा जाता है.

वर्जन

पक्षियों से बचाव के हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। एयरपोर्ट की टीम लगातार आसपास के इलाकों में ऑपरेशन चलाती रही है। बर्ड चेजर की टीम भी अलर्ट पर रहती है। रात्रि में अभी तक किसी तरह के बर्ड हिट की घटना नहीं हुई है और इसके चांसेज भी काफी कम होते हैं.

प्रभात बेवरिया, डायरेक्टर, बिरसा मुंडा एयरपोर्ट

प्रतिबंधित क्षेत्र में दुकान लगाने वालों के खिलाफ एयरपोर्ट की टीम के साथ लगातार कार्रवाई की जाती रही है। पुलिस टीम का पूरा प्रयास रहता है कि एयरपोर्ट के आसपास इलाके सुरक्षित रहें.

अनीश गुप्ता, एसएसपी, रांची

समय- समय पर कार्रवाई की जाती रही है, इसके बावजूद भी ये लोग अवैध तरीके से दुकान लगा देते हैं। नगर निगम लगातार इनको नोटिस देता रहा है और छापेमारी के साथ- साथ जब्ती की प्रक्रिया भी की जाती रही है।

रामकृष्ण कुमार, सहायक कार्यपालक पदाधिकारी, आरएमसी

inextlive from Ranchi News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.