गंजेड़ी चूहे फूंक गए छह कुंतल गांजा! इंस्पेक्टर पर दर्ज हुर्इ एफआईआर

2018-08-29T03:09:24+05:30

चूहे गांजा चट कर जाएं वह भी थोड़ाबहुत नहीं बल्कि छह कुंतल तो आपको भी विश्वास नहीं होगा।

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : चूहों द्वारा गोदाम में रखे अनाज खाने की खबरें तो आपने कई बार सुनी या पढ़ी होंगी लेकिन, चूहे गांजा चट कर जाएं वह भी थोड़ा-बहुत नहीं बल्कि, छह कुंतल तो आपको भी विश्वास नहीं होगा। पर, यह विलक्षण और नामुमकिन सा दिखने वाला कृत्य संभव कर दिखाया है प्रतापगढ़ पुलिस ने। गांजे को बरामद करने वाली एसटीएफ भी प्रतापगढ़ पुलिस के इस 'कारनामे' से हैरान है। वहीं, इस पर एसएसपी एसटीएफ ने सख्त रुख दिखाते हुए प्रतापगढ़ पुलिस को एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया। जिसके बाद मंगलवार शाम तत्कालीन इंस्पेक्टर व हेड मुहर्रिर के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है।
एसटीएफ व एनसीबी ने की थी बरामदगी
2015 में प्रतापगढ़ में मादक पदार्थों की खुलेआम बिक्री की कई शिकायतें एसटीएफ को मिली थीं। जिस पर एक्शन लेते हुए एसटीएफ व नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की संयुक्त टीम ने 15 दिसंबर 2015 को प्रतापगढ़ की नगर कोतवाली एरिया में छापेमारी कर एक ट्रक पकड़ा। इस ट्रक पर 597 किलो गांजा लदा हुआ था। इतनी भारी मात्रा में गांजा बरामद करते हुए टीम ने ट्रक पर सवार चार तस्करों आरा, बिहार निवासी शत्रुघ्न यादव, हरेंद्र सिंह और प्रतापगढ़ निवासी ओम प्रकाश व शंकर लाल को अरेस्ट किया था। एसटीएफ ने चारों तस्करों, बरामद गांजा व ट्रक को प्रतापगढ़ नगर कोतवाली में दाखिल कर दिया। मामले में पुलिस ने खुद वादी बनकर एफआईआर दर्ज कराई और विवेचना के बाद आरोपियों के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी।
कोर्ट की सुनवाई में खुलासा

अरेस्टिंग के बाद आरोपियों ने हाईकोर्ट में जमानत के लिये प्रार्थना पत्र दिया। लेकिन, कोर्ट ने बेल न देकर प्रतापगढ़ कोर्ट को निर्देशित किया कि मुकदमे का जल्द सुनवाई कर निस्तारण किया जाये। हाईकोर्ट के निर्देश पर प्रतापगढ़ स्थित अपर सत्र न्यायाधीश विजय कुमार डुंगराकोटी की अदालत में सुनवाई शुरू हुई। गवाही के दौरान कोर्ट ने माल प्रस्तुत करने के लिए कहा। कई बार कोर्ट के निर्देश के बावजूद कोतवाली पुलिस ने माल प्रस्तुत नहीं किया। इस पर कोर्ट ने 31 जुलाई को इंस्पेक्टर को तलब किया। जिस पर हेड मोहर्रिर मिर्जा मसर्रत अली ने रिपोर्ट दिया कि उन्हें छह क्विंटल गांजा चार्ज में नहीं मिला था और न ही मालखाने में गांजा है। इस पर एडीजे ने जांच करके कार्रवाई करने के लिए एसपी को पत्र लिखा। एसपी ने जांच की तो बताया गया कि गांजा कोतवाली के मालखाने में चहलकदमी करने वाले चूहे चट कर गये।

एसटीएफ भी हैरान

एसटीएफ द्वारा बरामद किया गांजा कोतवाली से गायब होने की भनक मंगलवार को एसएसपी एसटीएफ अभिषेक सिंह को लगी तो वे भी प्रतापगढ़ पुलिस की इस करतूत पर हैरान रह गए। उन्होंने एसपी सुलतानपुर से बात कर एफआईआर दर्ज करने को कहा। देरशाम इंस्पेक्टर नगर कोतवाली ने दैनिक जागरण आई नेक्स्ट से बात करते हुए बताया कि वर्तमान मालखाना हेड मुहर्रिर मिर्जा मसर्रत अली की तहरीर पर तत्कालीन इंस्पेक्टर हरपाल सिंह यादव व हेड मुहर्रिर मनफूल सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। सूत्रों का कहना है कि कोतवाली में एसटीएफ द्वारा दाखिल कराया गया गांजा अवैध रूप से बेच डाला गया और इसका ठीकरा चूहों के सिर फोड़कर बचने की कवायद की जा रही है। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।
इतनी भारी मात्रा में बरामद गांजा कोतवाली से गायब होना बेहद गंभीर मामला है। प्रतापगढ़ पुलिस को कार्रवाई के लिये कहा गया है।
अभिषेक सिंह, एसएसपी, एसटीएफ

गजब! वैज्ञानिकों ने चूहे में विकसित किया छोटा इंसानी दिमाग, जिससे बदल जाएगा न्‍यूरोलॉजी का संसार

चूहों ने कुतर-कुतर कर मकान ही गिरा दिया, इस शहर का है मामला


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.